स्पोर्ट्स में पैशन है तो बनें 'एथलेटिक थेरेपिस्ट'

Posted By: Sudhir

भारत जैसे देश में सिर्फ पढ़ाई-लिखाई ही नही बल्कि स्पोर्ट्स में पैशन रखने वालों की भी कमी नही है। सिर्फ क्रिकेट ही नही बल्कि हमारे देश में आज फुटबॉल, हॉकी, कबड्डी, जुडो, कुश्ती, रेसलिंग, रनिंग, जिमनास्टिक, बॉक्सिंग, बेडमिंटन, टेनिस जैसे न जाने कितने ही खेल प्रोफेशनल तौर पर खेले जाते है। जब इतनी बड़ी संख्या में खेल खेले जाते है तो इस क्षेत्र में पेशेवरों की मांग भी बढ़ी है।

ये भी पढ़ें- वेडिंग प्लानर: उभरता हुआ सबसे आसान करियर विकल्प

ये जरूरी नही है कि आप एक खिलाड़ी के रूप में ही इस फिल्ड में करियर बनाएं इसके अलावा भी आप अलग-अलग पेशेवरों के रूप में जुड़कर भी स्पोर्ट्स इंडस्ट्री में अपना करियर संवार सकते है। खेलों से जुड़ा ऐसा ही एक करियर ऑप्शन है जिसके बिना कोई भी खिलाड़ी बेहतर परफॉर्मेंस नही दे सकता है वो है एथलेटिक थेरेपिस्ट का। आज के समय में खेल सिर्फ खिलाड़ी और कोच तक ही सिमित नही रह गया है बल्कि एक खिलाड़ी के बेहतर परफॉर्मेंश में एथलेटिक थेरेपिस्ट का भी उतना ही योगदान होता है।

जानिए क्या है एथलेटिक थेरेपिस्ट-

Image Source

एक प्रोफेशनल एथलेटिक थेरेपिस्ट का काम खिलाड़ी की परफॉर्मेंस में सुधार लाना है। एथलेटिक थेरेपिस्ट को मेडिकल साइंस का इस्तेमाल करके खिलाड़ी और उसके खेल को और बेहतर बनाना होता है। एथलेटिक थेरेपिस्ट खिलाड़ियों को ट्रेनिंग देने की साइंटिफिक तकनीक बताते है जिसके जरिए वे चोटिल होने पर भी जल्दी वापसी कर सकते है। इसके अलावा एक एथलेटिक थेरेपिस्ट को किसी घायल हुए खिलाड़ी को तुरंत राहत पहुंचाने का काम करना होता है। साथ ही एक एथलेटिक थेरेपिस्ट फिजियोथेरेपी और ऑर्थोपेडिक एक्सपर्ट्स की मदद से खिलाड़ियों की मैदान पर वापसी सुनिश्चित करने का काम भी करता है।

बेसिक योग्यता-

Image Source

अगर आप एक एथलेटिक थेरेपिस्ट के रूप में काम करना चाहते है आपका खेल के प्रति लगाव होना जरूरी है। इसके अलावा स्पोर्ट्स के प्रति आपका जुनून और दृढ़निश्चय ही आपको इस फिल्ड में कामयाबी दिला सकता है। साथ ही एक प्रोफेशनल एथलेटिक थेरेपिस्ट के पास क्लीनिकल एक्सपीरियंस और साइकोलॉजिकल स्किल्स का होना भी जरूरी है। ताकि चोटिल हुए खिलाड़ियों से इंटरैक्शन में कोई दिक्कत न हो। इसके साथ ही स्पोर्ट्स मेडिसिन में हो रहे लेटेस्ट डेवलपमेंट की जानकारी आपको इस प्रोफेशन में अच्छी जगह पर पहुंचा सकता है।

योग्यता-
अगर आप एक प्रोफेशनल एथलेटिक थेरेपिस्ट बनना चाहते है तो आपके पास फिजियोथेरेपी में डिग्री, स्पोर्ट्स मेडिसिन में एमबीबीएस या फिर स्पोर्ट्स फिजिकल थेरेपी में मास्टर्स डिग्री का होना जरूरी है।

 

यहां से कर सकते है कोर्स-

Image Source

एक प्रोफेशनल एथलेटिक थेरेपिस्ट बनने के लिए आप इन इंस्टीट्यूट से कोर्स कर सकते है-
-जामिया मिलिया इस्लामिया, दिल्ली
-गुरूनानक देव यूनिवर्सिटी, अमृतसर
-डी.वाई.पाटिल यूनिवर्सिटी, पुणे
-मणिपाल यूनिवर्सिटी, बेंगलुरू
-इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी, दिल्ली
-एमिटी यूनिवर्सिटी, नोएडा

यहां मिलेगी जॉब-

Image Source

स्पोर्ट्स की फिल्ड में लगातार विकास होने के कारण इस फिल्ड में जॉब की कमी नही है। आज खिलाड़ी की इंजरी से लेकर खेल को उन्नत बनाने तक में प्रोफेशनल लोगों की मांग बढ़ गई है। कई मल्टीनेशनल स्पोर्ट्स कंपनियां एथलेटिक्स थेरेपिस्ट को हायर करती है। इसके अलावा कई स्पोर्ट्स एकेडमी एथलेटिक्स थेरेपिस्ट को जॉब देती है।

सैलरी-

Image Source

जिस तरह स्पोर्ट्स की हर फिल्ड में अच्छा पैसा मिलता है वैसे ही एक प्रोफेशनल एथलेटिक थेरेपिस्ट को भी अच्छा पैसा दिया जाता है। शुरूआती तौर पर आप 40 हजार रूपये महीने तक आसानी से कमा सकते है। कुछ साल के एक्सपीरियंस होने के बाद आप 75 हजार से 3 लाख रूपये महीने तक कमा सकते है।

एजुकेशन, सरकारी नौकरी, कॉलेज और करियर से जुड़ी लेटेस्ट जानकारी के लिए- सब्सक्राइब करें करियर इंडिया हिंदी

English summary
जरूरी नही है कि एक खिलाड़ी के रूप में ही स्पोर्ट्स में करियर बनाया जाए, आप चाहे तो एक एथलेटिक थेरेपिस्ट के रूप में भी बेहतरीन करियर बना सकते है। It is not necessary that as a sportsperson, you can make a career in sports, whether you want to be a good career as an athletic therapist. Check Notification, Vacancies List, Eligibility Criteria, Online Application Form, Pay Scale, Examination Dates and much more at Careerindia.

Get Latest News alerts from Hindi Careerindia