पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन काउंसलिंग में करियर (Career in PG Diploma in Counselling)

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन काउंसलिंग एक साल की अवधि का कोर्स है। पीजीडी इन काउंसलिंग कोर्स छात्रों को काउंसलिंग प्रक्रिया के दौरान आवश्यकतानुसार विभिन्न चिकित्सीय तकनीकों और मनोवैज्ञानिक सिद्धांतों को लागू करने में सक्षम बनाता है। ये कोर्स छात्रों की उन स्किल्स को विकसित करने में मदद करता है जो ग्राहकों के साथ संबंध स्थापित करने के लिए आवश्यक है।

 

आज के इस आर्टिकल में हम आपको पीजी डिप्लोमा इन काउंसलिंग से संबंधित सभी आवश्यक जानकारी से अवगत कराएंगे कि आखिर ये कोर्स किस लिए बनाया गया है, इसका सिलेबस क्या है। इसमें एडमिशन लेने के लिए क्या एलिजिबिलिटी होनी चाहिए। इसका एडमिशन प्रोसेस क्या है, इसे करने के बाद आपके पास जॉब प्रोफाइल क्या होंगी और इस कोर्स को करने के लिए भारत के टॉप कॉलेज कौन से हैं।

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन काउंसलिंग में करियर

कोर्स का नाम- पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन काउंसलिंग
कोर्स का प्रकार- पीजी डिप्लोमा
कोर्स की अवधि- 1 साल
एलिजिबिलिटी- किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन की डिग्री
एडमिशन प्रोसेस- मेरिट बेस्ड
कोर्स फीस- 10,000 से 2,00,000 तक
अवरेज सेलरी- सालाना 2,00,000 से 10,00,000 तक
जॉब प्रोफाइल- हेल्थ काउंसलर और मैरिज एंड फैमिली काउंसलर, करियर एंड गाइडेंस काउंसलर, स्कूल काउंसलर आदि।
जॉब फील्ड- एनआईएमटी संस्थान और डिवाइन इंटरनेशनल फाउंडेशन, एम्पायर फाउंडेशन आदि।

 

पीजी डिप्लोमा इन काउंसलिंग: एलिजिबिलिटी

  • उम्मीदवार के पास किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन की डिग्री होना आवश्यक है।
  • ग्रेजुएशन की डिग्री में न्यूनतम 50% अंक होना अनिवार्य है।
  • जिसमें की आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को 5% अंक की छूट दी जाती है।

पीजीडी इन काउंसलिंग: एडमिशन प्रोसेस
पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा काउंसलिंग में एडमिशन प्रोसेस कॉलेज से कॉलेज पर निर्भर करता है। ज्यादातर संस्थानों में उम्मीदवार के ग्रेजुएशन डिग्री के अंकों के आधार पर यानि की मेरिट लिस्ट के आधार पर एडमिशन दिया जाता हैं।

पीजीडी इन काउंसलिंग कोर्स में ऑनलाइन आवेदन कैसे करें
चरण 1 उम्मीदवार ऑफिशयल वेबसाइट पर जाएं
चरण 2 ऑफिशयल वेबसाइट पर जाने के बाद रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरें
चरण 3 आवेदन फॉर्म को भरने के बाद ठीक तरह से जांच लें यदि फॉर्म में गलती हुई तो वह रिजक्ट हो सकता है
चरण 4 क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड से ऑनलाइन फॉर्म की फीस जमा करें
चरण 5 फीस जमा होना के बाद आपके रजिस्ट्रड फोन नं या मेल आईडी पर मैसेज आ जाएगा।
चरण 6 रजिस्ट्रेशन प्रोसेस पूरी होने के बाद कॉलेज द्वारा मेरिट लिस्ट जारी की जाती है।
चरण 7 मेरिट लिस्ट में नाम आने के बाद उम्मीदवार कॉलेज में आवश्यक दस्तावेज और फिस सबमिट कर अपनी सीट सुरक्षित कर सकते हैं।

एडमिशन के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • पेन कार्ड
  • 10वीं, 12वीं, ग्रेजुएशन के सर्टिफिकेट
  • जन्म प्रमाण पत्र
  • डोमिसाइल

पीजी डिप्लोमा इन काउंसलिंग: सिलेबस
पीजीडी इन काउंसलिंग 1 साल की अवधि का कोर्स है जिसे 2 सेमेस्टर में विभाजित किया गया है। सेमेस्टर अनुसार विषयों की सूची निम्नलिखित है।
सेमेस्टर 1

  • फंडामेंटल ऑफ ह्यूमन बिहेवियर
  • अंडरस्टेंडिंग एबनोरमल बिहेवियर
  • काउंसलिंग प्रोसेस एंड स्किल्स
  • सोशल प्रसपेक्टिव ऑफ काउंसलिंग

सेमेस्टर 2

  • थ्योरी ऑफ काउंसलिंग
  • काउंसलिंग इन स्पेशल सेटिंग्स
  • प्रेक्टिकम
  • वाइवा- वोक

पीजी डिप्लोमा इन काउंसलिंग: टॉप कॉलेज और उनकी फीस
काउंसलिंग में पीजी डिप्लोमा सरकारी व प्राइवेट दोनों ही प्रकार के कॉलेज से किया जा सकता है।

  • गोवा विश्वविद्यालय- फीस 46,000
  • गवर्नमेंट कॉलेज फॉर एजुकेशन साइकोलॉजी, जबलपुर- फीस 24,000
  • बिशप हेबर कॉलेज, तिरुचिरापल्ली- फीस 22,000
  • जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय, दिल्ली- फीस 15,500
  • लोयोला कॉलेज ऑफ सोशल साइंस, तिरुवनंतपुरम- फीस 16,090

पीजी डिप्लोमा इन काउंसलिंग: डिस्टेंस एजुकेशन कॉलेज और उनकी फीस

  • डॉ बीआर अम्बेडकर मुक्त विश्वविद्यालय- फीस 3,200
  • मध्य प्रदेश भोज (ओपन) यूनिवर्सिटी- फीस 13,500
  • आईएमटी डिस्टेंस एंड ओपन लर्निंग इंस्टीट्यूट- फीस 56,000
  • डिस्टेंस लर्निंग के लिए सिम्बायोसिस सेंटर- फीस 50,000
  • सिक्किम मणिपाल विश्वविद्यालय- फीस 50,000
  • इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू)- फीस 6,600

पीजी डिप्लोमा इन काउंसलिंग: जॉब प्रोफाइल और सैलरी पैकेज

  • करियर कांउसलर- सैलरी 3,50,000
  • फैम्ली वेलफेयर कांउसलर- सैलरी 5,50,000
  • लेक्चरर- सैलरी 4,00,000
  • हेल्थ काउंसलर- सैलरी 4,00,000
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Post Graduate Diploma in Counseling is a one year duration course. The PGD in Counseling course enables students to apply various therapeutic techniques and psychological principles as needed during the counseling process. This course helps the students to develop those skills which are necessary to establish relationships with customers.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X