पढ़ाई में मन नही लग रहा है तो अपनाएं ये खास टिप्स

इस समय देश में स्कूलों की परिक्षाओं का माहौल है, पूरे एक साल पढ़ाई करने के बाद यही वो समय होता है जब छात्रों को ये साबित करना होता है कि उन्होंने पूरे साल क्या किया। लेकिन परीक्षा की इस घड़ी में अधिकतर छात्रों के साथ ऐसा होता है कि उनका मन पढ़ाई में नही लगता है। कितनी ही कोशिश करने के बाद भी वे एकाग्र होकर आधा घंटा भी नही पढ़ पाते है। अगर मन लगाकर नही पढ़ पाते है तो परीक्षा में पेपर बिगड़ने के चांस बढ़ जाते है। अगर आपके साथ भी ऐसा ही हो रहा है, लाख कोशिश करने के बाद भी आप पढ़ाई में मन नही लगा पा रहे है तो आज हम आपको कुछ टिप्स देने जा रहे है, जिनकी मदद से न सिर्फ आपका पढ़ाई में मन लगेगा बल्कि आपको पढ़ा हुआ याद भी रहेगा।

तो आइये जानते है उन खास टिप्स के बारे में जो पढ़ाई में आपका मन लगाएंगे-

1.पूर्व दिशा और आपकी पढ़ाई-
जब भी आप पढ़ाई करने के लिए बैठे तो ये कोशिश करें कि आपका मुंह पूर्व दिशा की तरफ हो। स्टडी रूम में स्टडी टेबल को इस तरह लगाएं कि आपका मुंह पढ़ते वक्त पूर्व दिशा की तरफ रहे। दरअसल पूर्व दिशा में सूर्य का वास होता है और हर दिन पूर्व से ही सूर्य उगता है। सूर्य पॉजिटिव एनर्जी देता है इसलिए पूर्व दिशा में मुंह करके पढ़ाई करने से आपका मन तो अच्छी तरह लगेगा ही साथ ही आप एनर्जेटिक भी रहेंगे।

2.रोशनी और आपकी पढ़ाई-
आप जिस भी कमरे में पढ़ाई कर रहे है अगर वहां पर मध्यम या कम रोशनी है तो आपका पढ़ाई में कभी मन लगेगा ही नही। साथ ही कम रोशनी में आंखों पर जोर पड़ने से आपका सिर भी दर्द करेगा। इलसिए जिस भी कमरे में आप पढ़ाई करते है उसमें पर्याप्त रोशनी होना जरूरी है।

3.बैठकर करें पढ़ाई-
जिन लोगों को लेटे-लेटे पढ़ने की आदत है उन लोगों को अपनी इस आदत को सुधार लेना चाहिए क्योंकि लेटकर पढ़ने से आलस आता है जिससे थोड़ी देर के बाद पढ़ाई में मन लगना बंद हो जाता है और आपको नींद भी आने लगती है। इसके अलावा ये भी माना जाता है कि शरीर के लंबवत् होने से दिमाग सबसे ज्यादा एक्टिव रहता है। इसलिए पढ़ाई करते समय बैठकर ही पढ़े, चाहे तो बीच-बीच में थोड़ा आराम कर सकते है लेकिन लेटकर कभी नही पढ़ना चाहिए।

4.शाम के समय पढ़ाई करने से बचे-
शाम के समय जब दिन ढल रहा हो तब पढ़ाई करने से बचना चाहिए, क्योंकि शास्त्रों में ढलते हुए दिन को गोधूलि बेला कहा है जिसका मतलब ये होता है कि शाम के समय गाय, बैल और भैंसे जंगलों से चरकर घर वापस आती है उस वक्त इनके पैरों से उड़ने वाली धूल आसमान में छा जाती है जिसे गोधूलि बेला कहा गया है। शास्त्रों में इस समय पढ़ाई करने की मनाही की गई है। इसलिए आप चाहे तो दिन भर पढ़ाई करने के बाद शाम को लंबा ब्रैक ले सकते है उसके बाद रात में कुछ घंटे पढ़ाई कर सकते।

5.पढ़ते वक्त नही हिलाएं पैर-
ऐसा कहा गया है कि दिमाग को एकाग्र रखने के लिए आपके शरीर का स्थिर होना जरूरी है इसलिए पढ़ाई करते समय पैर या सिर नही हिलाएं। आराम से अपनी जगह पर रिलैक्स होकर बैठे आर तभी पढ़ाई करें। पढ़ाई करते समय कोई काम करने से बचे साथ ही खाना भी नही खाएं।

ये भी पढ़ें- डिजास्टर मैनेजमेंट में करियर की संभावनाएं

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

    English summary
    At this time there is an atmosphere of examinations in schools in the country, after studying for a year, this is the time when students have to prove that what they did all year. But in most of the students of this exam, it happens that their mind does not seem to be studying. Even after trying hard, they can not even study even half an hour.

    Get Latest News alerts from Hindi Careerindia

    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Careerindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Careerindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more