डिजास्टर मैनेजमेंट में करियर की संभावनाएं

लगभग हर साल हमें कई प्राकृतिक और मानवीय आपदाएं देखने को मिलती है जिनमें बाढ़, भूकंप, ओलावृष्टि, बारिश, ज्वालामुखी, आगजनी जैसी घटनाएं आती है, हर साल हमें इन घटनाओं के बारे में देखने-सुनने को मिलता है। दरअसल इंसान अपने स्वार्थ के लिए प्रकृति का लगातार उपभोग किए जा रहा है जिस वजह से प्रकृति का बैलेंस बिगड़ रह है जिसका नतीजा ये है कि हर साल हमें कई प्राकृतिक आपदाओं का सामना करना पड़ता है। इन्ही आपदाओं से निपटने और जिंदगी को फिर से पटरी पर लाने के लिए आपदा प्रबंधन या डिजास्टर मैनेजमेंट से जुड़े पेशेवरों की जरूरत पड़ती है।

आज आपदा प्रबंधन में करियर की कई संभावनाएं मौजूद है। अगर आप भी समाज कल्याण कर पीड़ित लोगों की मदद करना चाहते है तो आपदा प्रबंधन आपके लिए एक अच्छा करियर ऑप्शन हो सकता है। दरअसल आपदा प्रबंधन से जुड़े लोगों का काम सिर्फ पुनर्निर्माण और पीड़ित लोगों की मदद करना ही नही बल्कि आने वाली आपदा की पहले ही चेतावनी देना और होने वाले नुकसान को कम से कम करना है।

क्या करते है आपदा प्रबंधक-

इस पेशे से जुड़े लोगों को समय रहते आपदा के शिकार लोगों की जान बचाना और उन्हें सुरक्षित जगहों पर पहुंचाना होता है इसके अलावा उन्हें वापस मुख्य धारा से जोड़ना होता है। इस काम के लिए केंद्र और राज्य की सरकारें फंड मुहैया करवाती है। इसके अलावा विभिन्न विभाग के मंत्रालय भी आपदा के लिए मदद करती है। आपदा के वक्त ऐसे पेशेवर बहुत ही जरूरी होते है, ये लोग आपदा पीड़ितो तक जल्द से जल्द मदद पहुंचाने और उन्हें जरूरी ट्रेनिंग देने का काम करते है। ये लोग पीड़ितों को खाना वितरित करने और घायलों के उपचार की व्यवस्था भी करते है।

यहां से करें कोर्स-

एक समय था जब डिजास्टर मैनेजमेंट की पढ़ाई करने के लिए देश से बाहर जाना पड़ता था लेकिन अब हमारे देश में ही कई ऐसे विश्वविद्यालय है जो डिजास्टर मैनेजमेंट की पढ़ाई करवाने लगे है। डिजास्टर मैनेजमेंट में पीजी डिप्लोमा से लेकर डिग्री लेवल के कई कोर्स करवाएं जाते है। कुछ यूनिवर्सिटी डिस्टेंस लर्निंग के माध्यम से भी इसके कोर्स करवाती है। इस संस्थानों से कर सकते है कोर्स-
-इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
-नॉर्थ बंगाल यूनिवर्सिटी, दार्जिलिंग
-इंटरनेशनल सेंटर ऑफ मद्रास यूनिवर्सिटी, चेन्नई
-इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ इकोलॉजी एंड एनवायरमेंट, नई दिल्ली
-सेंटर फॉर सिविल डिफेंस कॉलेज, नागपुर
-सेंटर फॉर डिजास्टर मैनेजमेंट, पुणे
-डिजास्टर मैनेजमेंट इंस्टिट्यूट, भोपाल

क्या पढ़ाया जाता है इस कोर्स में-

आपदा प्रबंधन के कोर्स में रिस्क असेसमेंट एंड प्रिवेंटिव स्ट्रैटजीज, लेजिस्लेटिव स्ट्रक्चर्स फॉर कंट्रोल ऑफ डिजास्टर मिटिगेशन, ऐप्लिकेशन ऑफ जीआईएस इन डिजास्टर मैनेजमेंट, रेस्क्यू जैसे विषयों को इसके अंतर्गत पढ़ाया जाता है। इसके अलावा आप इसकी अलग-अलग फिल्ड में स्पेशलाइजेशन भी कर सकते है जैसे- माइनिंग, केमिकल डिजास्टर और टेक्निकल डिजास्टर आदि में।

यहां मिलेगी जॉब-

आपदा प्रबंधन में कई करियर ऑपर्चुनिटी है जैसे सरकारी नौकरी, आपातकालीन सेवा, रिलीफ एजेंसीज, एनजीओ और यूएनओ में आपको जॉब मिल सकती है। इसके अलावा कई प्राइवेट सेक्टर में भी आपको जॉब मिल सकती है जैसे केमिकल, माइनिंग, पेट्रोलियम जैसी रिस्क इंडस्ट्रीज में भी आपको जॉब मिल सकती है। इस फिल्ड में अच्छा एक्सपीरियंस लेने के बाद आप खुद की कंपनी या एजेंसी शुरू कर सकते है।

ये भी पढ़ें- ग्रामीण डाक सेवक के 5778 पदों पर भर्ती, जल्द करें आवेदन

एजुकेशन, सरकारी नौकरी, कॉलेज और करियर से जुड़ी लेटेस्ट जानकारी के लिए- सब्सक्राइब करें करियर इंडिया हिंदी

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

    English summary
    If you also want to help people suffering from social welfare, disaster management can be a good career option for you. In fact, the work of the people involved in disaster management is not only to help rebuilding and helping the victims, but to warn beforehand and to minimize the damage to the coming catastrophe.

    Get Latest News alerts from Hindi Careerindia

    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Careerindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Careerindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more