Army Day 2023: भारतीय सशस्त्र बलों में इतिहास रचने वाली महिलाओं की सूची

Army Day 2023: दुनिया के आज भी ऐसे बहुत से देश है जो अपनी सेना में महिलाओं को आने की आनुमति नहीं देते हैं। किन्तु भारत एक ऐसा देश है जहां पुरुषों के साथ-साथ महिलाएं भी भारतीय सेना में अपनी अहम भूमिका निभाती है। बता दें कि मूल रूप से, फरवरी 2016 में, महिलाओं को भारतीय सशस्त्र बलों के सभी वर्गों में शामिल होने और उनकी संबंधित भूमिकाओं का मुकाबला करने की अनुमति दी गई थी। दरअसल, भारतीय सशस्त्र बल भारत गणराज्य के संघ के सैन्य बल हैं और इसमें मुख्य रूप से चार श्रेणियां भारतीय सेना, भारतीय वायु सेना, भारतीय नौसेना और भारतीय तट रक्षक शामिल हैं।

 
Army Day 2023: भारतीय सशस्त्र बलों में इतिहास रचने वाली महिलाओं की सूची

गौरतलब है कि भारतीय सशस्त्र बलों का हिस्सा बनने के लिए युवाओं में एक अलग प्रकार के धैर्य, दृढ़ संकल्प और आत्म-बलिदान की आवश्यकता होती तो चलिए आज के इस आर्टिकल में हम आपको भारतीय सशस्त्र बलों की बहादुर महिलाएं अधिकारियों के बारे में बताते हैं जो कि पुरुष अधिकारियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं और देश के लिए लड़ रही हैं साथ ही आने वाली पीढ़ियों को भी प्रेरित कर रही हैं।

भारतीय सशस्त्र बलों में इतिहास रचने वाली महिलाओं की सूची निम्नलिखित है।

1. पुनीता अरोड़ा: भारत में दूसरी सर्वोच्च रैंक हासिल करने वाली पहली महिला होने के नाते, पुनीता अरोड़ा सशस्त्र बलों की लेफ्टिनेंट जनरल हैं। उन्होंने भारतीय नौसेना के उप-एडमिरल का पद भी हासिल किया था। इसके अलावा, पंजाब में जन्मी पुनीता अरोड़ा ने सशस्त्र बलों के लिए चिकित्सा अनुसंधान का प्रबंधन किया है क्योंकि वह सशस्त्र बल चिकित्सा सेवाओं की महानिदेशक भी थीं।

 

2. पद्मावती बंदोपाध्याय: वर्ष 1968 में आईएएम का हिस्सा बनीं पद्मावती बंदोपाध्याय भारतीय वायु सेना की पहली एयर मार्शल बनीं। इसके अलावा, वह पहली महिला अधिकारी थीं, जो एविएशन मेडिसिन विशेषज्ञ बनीं और जिन्होंने उत्तरी ध्रुव पर वैज्ञानिक शोध किया। आज के समय में ऐसी कई महिलाएं हैं जो जानना चाहती हैं कि महिलाओं के लिए भारतीय वायु सेना में कैसे शामिल हों, उन सभी के लिए वह एक सच्ची प्रेरणा हैं।

3. मिताली मधुमिता: मिताली मधुमिता ने वीरता के लिए सेना पदक प्राप्त किया, जो पूर्वोत्तर और जम्मू-कश्मीर में आयोजित अभियानों के दौरान अनुकरणीय साहस दिखाने के लिए सैनिकों को प्रदान किया जाने वाला एक प्रतिष्ठित अलंकरण है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मितल मधुमिता सेना मेडल पाने वाली पहली महिला अधिकारी थीं।

4. प्रिया झिंगम: भारतीय सेना में शामिल होने वाली प्रिया झिंगम ऐसी पहली महिला है जिन्हें कैडेट के रूप नामांकित किया गया था। हालांकि प्रिया झिंगम लॉ ग्रेजुएट थीं, लेकिन उनका हमेशा से सेना में जाने का सपना था। उन्होंने सेना प्रमुख को एक पत्र लिखकर भारतीय सेना का हिस्सा बनने के अपने आग्रह को स्पष्ट किया। एक साल बाद सेना प्रमुख ने उन्हें 24 अन्य महिला उम्मीदवारों के साथ भर्ती किया। भारतीय सेना में जाने वाली हर महिला को प्रिया झिंगम की जीवन कहानी पढ़नी चाहिए, जिससे की वो देश की सेवा के लिए और प्रेरित हो सके।

5. दिव्या अजीत कुमार: महज 21 साल की उम्र में, दिव्या अजित कुमार 244 साथी कैडेटों के साथ प्रतिस्पर्धा करने में सक्षम थीं। उन्होंने सर्वश्रेष्ठ ऑल-अराउंड कैडेट पुरस्कार हासिल करने के लिए पुरुष और महिला कैडेट सभी को भी हरा दिया था। बता दें कि ऑल-अराउंड कैडेट पुरस्कार अधिकारियों के प्रशिक्षण अकादमी के एक कैडेट को दिए जाने वाले सर्वोच्च पुरस्कारों में से एक माना जाता है।

6. सोफिया कुरैशी: सोफिया कुरैशी अंतर्राष्ट्रीय सैन्य अभ्यास में 40 सदस्यीय सेना दल का नेतृत्व करने वाली पहली महिला अधिकारी बनीं, जो कि अकल्पनीय माना जाता है। इसके अलावा सोफिया कुरैशी संयुक्त राज्य अमेरिका, जापान, दक्षिण कोरिया, रूस और चीन सहित सभी भाग लेने वाले देशों में वह एकमात्र महिला कमांडर थीं।

7. गुंजन सक्सेना और श्रीविद्या राजन: फ्लाइट ऑफिसर गुंजन सक्सेना और फ्लाइट लेफ्टिनेंट श्रीविद्या कारगिल युद्ध के दौरान युद्ध क्षेत्र में उड़ान भरने वाली पहली महिला पायलट बनीं। उन्होंने अपने चीता हेलीकॉप्टरों को दुश्मन की सीमा के बहुत करीब से उड़ाया और युद्ध क्षेत्र से घायल सैनिकों को सुरक्षित निकाला।

8. गणेवे लालजी: गणेवे लालजी भारतीय सेना में सहयोगी-डे-कैंप के रूप में नियुक्त होने वाली पहली महिला हैं। जिन्होंने 2013 में आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल राजन बख्शी की अहम सहयोगी बनकर उन्होंने खुद को साबित किया।

9. दीपिका मिश्रा: दीपिका मिश्रा हेलीकॉप्टर एरोबेटिक टीम, सारंग के लिए प्रशिक्षित होने वाली पहली आईएएफ महिला पायलट बनीं। हैरान करने वाली बाते तो ये है कि वे दुनिया में केवल चार हेलीकॉप्टर सैन्य प्रदर्शन टीम में से एक की पायलट बनीं है।

10. शांति तिग्गा: शांति तिग्गा 35 वर्ष की थी और उनके दो बच्चे थे जब वह भारतीय सेना पहली जवान बनी। उन्होंने अपने सभी पुरुष सह-कैडेट्स को शारीरिक फिटनेस परीक्षणों में हरा दिया था। शांति तिग्गा ने अपने साथी कैडेटों की तुलना में 5 सेकंड पहले 1.5 किमी की दौड़ पूरी कर सबको चौंका दिया था।

यह खबर पढ़ने के लिए धन्यवाद, आप हमसे हमारे टेलीग्राम चैनल पर भी जुड़ सकते हैं।

Indian Army Training Centres: भारतीय सेना प्रशिक्षण केंद्रों की सूची

Career In Army: 12वीं के बाद सेना में महिलाओं के लिए करियर के कई विकल्प, देखें योग्यता

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Indian women were originally allowed to join all sections of the Indian Armed Forces in February 2016 and in their respective combat roles. Actually, the Indian Armed Forces are the military forces of the Union of the Republic of India and it mainly consists of four categories Indian Army, Indian Air Force, Indian Navy and Indian Coast Guard.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X