सीबीएसई बोर्ड एग्जाम-2018 में कैसे बने टॉपर

Posted By: Sudhir

सीबीएसई बोर्ड एग्जाम-2018 में कैसे बने टॉपर

क्या आपने भी कभी सोचा है कि एक ही सिलेबस को अलग-अलग छात्र पूरे साल भर पढ़ते है लेकिन फिर भी परिणाम अलग-अलग ही क्यों आते है। कोई एग्जाम में बमुश्किल पास होता है तो कोई उसी एग्जाम में टॉप कर जाता है। ऐसा क्यो? दरअसल छात्रों के पढ़ाई करने के तरीके ही उन्हें टॉपर बनाते है या सिर्फ पास करते है। दो अलग-अलग छात्रों के पढ़ाई करने के तरीके ही उन्हें एक-दूसरे से अलग करते है। कुछ छात्र बहुत ज्यादा पढ़ते है लेकिन फिर भी उन्हें अपनी पढ़ाई के अनुसार सफलता नही मिलती है वहीं कुछ छात्र कम पढ़ते है लेकिन फिर भी वे एग्जाम में ज्यादा नंबर ले आते है। तो ऐसा कुछ न कुछ तो इनके पढ़ाई करने के तरीके में अलग जरूर होता है जो इन्हें टॉपर बनाता है या सिर्फ पास कराता है। आज हम आपको यही बताने जा रहे है कि टॉपर छात्र ऐसा क्या अलग करते है जो उन्हें एग्जाम में टॉप कराता है।

PC-Komsomolec

तो आइये जानते है सीबीएसई बोर्ड एग्जाम में टॉप करने के लिए एक टॉपर कैसे तैयारी करता है-

1.ज्यादा पढ़ाई नही करना है-

PC-jarmoluk

अक्सर लोग ज्यादा से ज्यादा पढ़ाई करने पर जोर देते है लेकिन हमारा कहना है ज्यादा नही पढ़ना है बल्कि जितना भी पढ़ना है इफेक्टिव पढ़ना है और स्मार्ट तरीके से पढ़ना है। समय के साथ जहां एग्जाम लेने के तरीके बदले है वहीं पढ़ाई करने के तरीके भी बदलना जरूरी है। लेकिन आज भी अधिकतर छात्र उसी पुराने तरीके से पढ़ाई कर रहे है। आजकल टेक्नोलॉजी और इंटरनेट से आप घर बैठे पढ़ाई कर सकते है इंटरनेट पर हर टॉपिक और सब्जेक के ट्यूटोरियल मौजूद है जिनसे कई तरह के रोचक उदाहरणों से एक ही टॉपिक को अलग-अलग एंगल से समझा जा सकता है। इसके अलावा अगर आपको कोई दिक्कत है तो आप एक्सपर्ट से सलाह भी ले सकते है। इसलिए ज्यादा पढ़ने से अच्छा है जितना भी पढ़े इफेक्टिव पढ़े।

 

2.नोट्स बनाए और उन्ही से पढ़े-

PC-CQF-avocat

आपको बाजार में आपके सिलेबस के हर तरह के नोट्स मिल जाएंगे, लेकिन इन नोट्स से पढ़कर आप सिर्फ पास हो सकते है, टॉपर नही बन सकते। दरअसल इन बाजारी नोट्स में टॉपिक की पूरी जानकारी नही होती बल्कि शॉर्ट कट मेथड से ये लोग सिलेबस को खत्म कर देते है। लेकिन एक टॉपर को सब्जेक की पूरी जानकारी होनी जरूरी है इसलिए खुद के बनाए नोट्स ज्यादा महत्वपूर्ण होते है। खुद के बनाए नोट्स से पढ़ने पर आपको ज्यादा समय तक याद भी रहता है। लगभग सभी टॉपर का यही कहना है कि उन्होंने खुद के बनाए नोट्स से सफलता हासिल की थी।

 

3.रोजाना क्लास अटेंड करना-

PC-uniliderpromocion

एक टॉपर अपनी हर क्लास में रेगुलर होता है और वह हर सब्जेक को बराबर महत्व देता है। अगर आपको भी टॉपर बनना है तो आपको नियमित रूप से क्लास अटैंड करनी पड़ेगी फिर वो चाहे कोई इंट्रेस्टिंग क्लास हो या बोरिंग क्लास हो। दरअसल क्लास में पढ़ाया गया आपके दिमाग में ज्यादा समय तक रहता है और जब आप उसे कभी पढ़ते है तो वही टॉपिक आपको आसानी से समझ आ जाता है। इसलिए ये जरूरी है कि आप नियमित रूप से स्कूल जाएं और हर सब्जेक की क्लास अटैंड करें।

 

4.बेसिक सिद्धांतो के बारे में जानना जरूरी है-

PC-geralt

अगर आपको टॉपर बनना है तो हर सब्जेक के बेसिक सिद्धांतों पर आपकी पकड़ मजबूत होना जरूरी है। जब आप हर सब्जेक के बेसिक सिद्धांत को समझ जाएंगे तो एग्जाम में कोई ऐसा सवाल नही होगा जिसके बारे में आपको पता नही होगा। सीबीएसई बोर्ड में एक ही सवाल को अलग-अलग एंगल से घूमाकर पूछा जाता है जिससे छात्र कन्फ्यूज हो जाते है। लेकिन अगर आपने बेसिक सिद्धांतो को अच्छे से पढ़ा है तो आप किसी भी सवाल का जवाब आसानी से दे सकते है।

 

5.प्रैक्टिस और रिवीजन है सबसे जरूरी-

PC-janeb13

एक टॉपर को हमेशा प्रैक्टिस और रिवीजन करते रहना बेहद जरूरी है। लेकिन अगर आप किसी टॉपिक को पढ़कर उसको फिर से रिवीजन और प्रैक्टिस नही करेंगे तो आप उसे कुछ ही दिनों में भूल जाएंगे। इसलिए अगर आपको टॉपर बनना है तो शुरू से ही प्रैक्टिस और रिवीजन करते हुए चलना होगा।

 

6.पिछले वर्ष के पेपर-

PC- tjevans

जब आप किसी टॉपर से उसकी सफलता का राज पूछे तो वह यही बताएगा की उसने पिछले वर्षों के पेपरों को सॉल्व किया था। अगर आप भी पिछले वर्षों के पेपर सॉल्व करते है तो आपको आइडिया हो जाएगा कि एग्जाम में कितने कठिन और कितने सरल सवाल पूछे जाते है। पिछले साल के पेपर सॉल्व करने से आपको ये आइडिया भी हो जाता है कि आपको कैसी तैयारी करनी है।

 

7. सैंपल पेपर और मॉडल पेपर-

PC-Mediamodifier

हर साल एग्जाम के पैटर्न में थोड़ा बदलाव जरूर होता है इसलिए मॉडल पेपर या सैंपल पैपर को सॉल्व करना जरूरी है। मॉडल पेपर से आपको पता चल जाता है कि आने वाले एग्जाम में कैसे सवाल पूछे जाएंगे और कैसे नही।

 

English summary
Some students study too much but still they do not get success according to their studies. At the same time, some students study less, but still they get more number in the exam. So something like this is different in the way they are studied, which makes them toppers or just passes them.

Get Latest News alerts from Hindi Careerindia