पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इंडियन फिलॉसफी एंड रिलिजन में करियर (PGD in Indian Philosophy and Religion)

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इंडियन फिलॉसफी एंड रिलिजन 1 साल की अवधि का कोर्स है। बात दें कि इंडियन फिलॉसफी शब्द भारतीय उपमहाद्वीप में उत्पन्न दार्शनिक विचारों की कई परंपराओं में से किसी को भी संदर्भित कर सकता है, जिसमें हिंदू दर्शन, बौद्ध दर्शन और जैन दर्शन आदि शामिल हैं। इस कोर्स को करने से पता चलता है कि सिंधु घाटी सभ्यता के समय से लेकर वर्तमान समय तक बड़े और छोटे दोनों धर्मों के योगदान से इंडियन फिलॉसफी वर्तमान स्वरूप में कैसे आई।

 

आज के इस आर्टिकल में हम आपको पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इंडियन फिलॉसफी एंड रिलिजन से संबंधित सभी आवश्यक जानकारी से अवगत कराएंगे कि आखिर ये कोर्स किस लिए बनाया गया है, इसका सिलेबस क्या है। इसमें एडमिशन लेने के लिए क्या एलिजिबिलिटी होनी चाहिए। इसका एडमिशन प्रोसेस क्या है, इसे करने के बाद आपके पास जॉब प्रोफाइल क्या होंगी और इस कोर्स को करने के लिए भारत के टॉप कॉलेज कौन से हैं।

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इंडियन फिलॉसफी एंड रिलिजन में करियर

कोर्स का नाम- पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इंडियन फिलॉसफी एंड रिलिजन
कोर्स का प्रकार- पीजी डिप्लोमा
कोर्स की अवधि- 1 साल
एलिजिबिलिटी- किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से संबंधित विषय में ग्रेजुएशन की डिग्री
एडमिशन प्रोसेस- मेरिट बेस्ड/ एंट्रेंस एग्जाम
जॉब प्रोफाइल- ह्यूमन रिसोर्स असिस्टेंट डायरेक्टर, इंडियन स्क्रिप्चर्स लाइब्रेरियन, रिलीजियस सेल्स आर्टीफैक्ट्स रिप्रेजेंटेटिव, टीचर एंड लेक्चरर, रिलीजियस प्रिएचर आदि।
जॉब फील्ड- कॉलेज एंज यूनिवर्सिटी, रिलिजियस सेंटर, इवेंट मैनेजमेंट कंपनी, थियेटर गवर्मेंट ऑफिस, लाइब्रेरी आदि।

 

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इंडियन फिलॉसफी एंड रिलिजन: एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया
• उम्मीदवार के पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से संबंधित विषय में ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए।
• ग्रेजुएशन की डिग्री में कम से कम 50% अंक होने चाहिए।
• जबकि आरक्षित वर्गों को इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए 5% अंक की छूट दी जाती है।

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इंडियन फिलॉसफी एंड रिलिजन: एडमिशन प्रोसेस
पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन बुद्धिस्ट स्टडीज में एडमिशन प्रोसेस कॉलेज से कॉलेज पर निर्भर करता है। कुछ कॉलेज में एडमिशन एंट्रेंस एग्जाम के आधार पर होता है तो कुछ कॉलेज में मेरिट लिस्ट के आधार पर।

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन कोर्स में ऑनलाइन आवेदन कैसे करें
चरण 1 उम्मीदवार ऑफिशयल वेबसाइट पर जाएं
चरण 2 ऑफिशयल वेबसाइट पर जाने के बाद आवेदन फॉर्म भरें
चरण 3 आवेदन फॉर्म को भरने के बाद ठीक तरह से जांच लें यदि फॉर्म में गलती हुई तो वह रिजक्ट हो सकता है।
चरण 4 क्रेडीट कार्ड या डेबिट कार्ड से ऑनलाइन फॉर्म की फीस जमा करें।
चरण 5 फीस जमा होने के बाद आपके रजिस्ट्रड फोन नं या मेल आईडी पर मैसेज आ जाएगा।

एडमिशन के लिए आवश्यक दस्तावेज
• आधार कार्ड
• पेन कार्ड
• 10वीं, 12वीं, ग्रेजुएशन के सर्टिफिकेट
• जन्म प्रमाण पत्र
• डोमिसाइल

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इंडियन फिलॉसफी एंड रिलिजन: टॉप कॉलेज
• बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी, बीएचयू (वाराणसी)

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इंडियन फिलॉसफी एंड रिलिजन: सिलेबस

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इंडियन फिलॉसफी एंड रिलिजन 1 साल की अवधि का कोर्स है। जिसे चार पेपर में विभाजित किया गया है।

पेपर I- इंडियन फिलॉसफी (A)
• उपनिषद: आत्मान, ब्रह्म और मोकना
• लोकायत: भौतिकवाद
• जैन फिलॉसफी: अनेकान्तवाद (स्यादवाड़ा)
• बुद्ध फिलॉसफी: चार आर्य सत्य, अनात्मवाद, क्षणभंगुरता, बौद्ध धर्म के चार विद्यालय
• समाख्य: दुख और मुक्ति, पुराण-प्रकृति द्वैतवाद, विकासवाद का सिद्धांत
• योग: योग का अर्थ, आठ गुना योग

पेपर II- इंडियन फिलॉसफी (B)
• न्याय-वैसेनिका: श्रेणियां, प्रमाण और भगवान
• मीमांसा: धर्म और अपूर्वी की अवधारणा
• अद्वैत वेदांत: ब्रह्मा, माया और मोकन:
• श्री अरबिंदो: निरपेक्ष, अतिमानस और विकास
• एस राधाकृष्णन: निरपेक्ष, आत्मा और धार्मिक अनुभव
• टैगोर: अनंत की अवधारणा, मनुष्य का धर्म
• गांधी: सत्य, अहिंसा और सत्याग्रह

पेपर III- इंडियन रिलिजियन (A)
• वैदिक धर्म: देवता, बलिदान और मृत्यु के बाद जीवन की अवधारणा, अत:
• भगवद्गीता: ईश्वर और योग (ज्ञान, भक्ति और कर्म)
• जैन धर्म: जैन परंपरा की उत्पत्ति और विकास, जीव, कर्म का सिद्धांत, बंधन और मुक्ति
• बुद्ध धर्म: बौद्ध धर्म की उत्पत्ति और विकास, आर्य सत्य, अनंगिका मार्ग, निर्वाण

पेपर IV- इंडियन रिलिजियन (B)
• वैनेव धर्म: उत्पत्ति और विकास, अलवर, रामानुज, माधव, निम्बार्क, वल्लभ और चैतन्य: भगवान, आत्मा, दुनिया, भक्ति और मुक्ति के उनके विचार
• शैव धर्म: शैव परंपरा की उत्पत्ति और विकास, त्रिक और शैव सिद्धांत स्कूल, ईश्वर, आत्मा और मुक्ति के बारे में उनका दृष्टिकोण
• शाक्त धर्म: शक्ति परंपरा की उत्पत्ति और विकास, शक्ति की प्रकृति और पंच-तत्त्व-आराधना
• सिख धर्म: ईश्वर की अवधारणा, सामाजिक सुधार
• आधुनिक भारतीय धार्मिक आंदोलन:
a) ब्रह्म-समाज और आर्य-समाज की मुख्य शिक्षाएं
b) श्री रामकृष्ण की आध्यात्मिक साधना, विवेकानंद की धर्म की अवधारणा
c) भारत में थियोसोफिकल मूवमेंट्स

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इंडियन फिलॉसफी एंड रिलिजन: जॉब प्रोफाइल
• ह्यूमन रिसोर्स असिस्टेंट डायरेक्टर
• इंडियन स्क्रिप्चर्स लाइब्रेरियन
• रिलीजियस सेल्स आर्टीफैक्ट्स रिप्रेजेंटेटिव
• टीचर एंड लेक्चरर
• रिलीजियस प्रिएचर

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इंडियन फिलॉसफी एंड रिलिजन: जॉब फील्ड
• कॉलेज एंज यूनिवर्सिटी
• रिलिजियस सेंटर
• इवेंट मैनेजमेंट कंपनी
• थियेटर
• गवर्मेंट ऑफिस
• लाइब्रेरी

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Post Graduate Diploma in Indian Philosophy and Religion is a course of 1 year duration. The term Indian Philosophy can refer to any of several traditions of philosophical thought originating in the Indian subcontinent, including Hindu philosophy, Buddhist philosophy, and Jain philosophy.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X