पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन हिंदू स्टडीज में करियर (PG Diploma in Hindu Studies)

हिंदू स्टडीज और कुछ नहीं बल्कि हिंदुओं के जीवन और गतिविधियों के विभिन्न पहलुओं को समेटे हुए उनके ज्ञान की बारहमासी परंपराओं का अध्ययन है। हिंदुओं की बौद्धिक प्रणाली अंतर-अनुशासनात्मक है जहां पाठ्य और मौखिक, मौखिक और दृश्य, वैज्ञानिक और आध्यात्मिक, पारलौकिक और कार्यात्मक एक पूरे के हिस्से के रूप में जुड़े हुए हैं।

 

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन हिंदू स्टडीज कोर्स को हिंदुओं की उत्पत्ति और इतिहास और उनके साहित्य, पौराणिक कथाओं, धर्म, कला, संस्कृति, दर्शन, संस्थानों और नैतिकता का गंभीर अध्ययन करने के लिए डिजाइन किया गया है। यह कोर्स हिंदुओं के समृद्ध पांडुलिपि संग्रह से महत्वपूर्ण ग्रंथों को एकत्र करने, अनुवाद करने और चित्रित करने पर केंद्रित है। छात्रों को हिंदू स्टडीज की समकालीन प्रासंगिकता लाने के लिए क्षेत्र के प्रमुख विद्वानों के साथ बौद्धिक चर्चा और आदान-प्रदान में भाग लेने का पहला अवसर प्रदान किया जाएगा।

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन हिंदू स्टडीज में करियर

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन हिंदू स्टडीज: एलिजिबिलिटी
पीजी डिप्लोमा कोर्स में एडमिशन लेने के लिए इच्छुक उम्मीदवार के पास ग्रेजुएशन की डिग्री होना आवश्यक है।

 

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन हिंदू स्टडीज: कोर्स अवधि
पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन हिंदू स्टडीज कोर्स एक साल की अवधि का कोर्स है। जिसे दो सेमेस्टर में विभाजित किया गया है और प्रत्येक सेमेस्टर के चार पेपर में बांटा गया है।

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन हिंदू स्टडीज: सिलेबस

सेमेस्टर-1

1. तत्त्व विमार्सा
1.1 "हिंदू" शब्द को समझना (इसकी ऐतिहासिकता, और इसकी भौगोलिक और जीवन-दृष्टि
पहलू)
1.2 अष्टदंड विद्याओं और उपांगों की उनके संबंधित आचार्यों के साथ गणना
1.3 भारतीय दर्शन (भारतीय दार्शनिक प्रणाली): सभी का परिणामी विचार
समग्रता
1.3.1 परंपराओं और अंतर्निहित एकीकृत विषयों में पदर्थ/तत्व/आत्मा
1.3.2 विभिन्न सामाजिक पृष्ठभूमि से ऋषियों और मुनि की गणना
1.4 भारत में महिलाओं की स्थिति: समानांतर संप्रभुता सिद्धांत
1.4.1 शक्ति और प्राकृत सिद्धांत
1.4.2 स्व-परिभाषाएं: वाक्-सूक्त, देव-अथर्व-श्रीक सूक्त, पृथ्वी-सूक्त, और
भगवद्गीता
1.4.3 अर्धनारीवर अवधारणा, बृहदारण्यक उपनिषद
1.4.4 जैन-दर्शन, बौद्ध-दर्शन और श्री गुरु ग्रंथ साहिबजी में स्त्री की स्थिति
1.5 भारतीय समाज (भारतीय समाज को समझना)
1.5.1 वर्णाश्रम (सामाजिक संरचना)
1.5.2 पुरुषार्थ (भारतीय जीवन शैली)
1.5.3 भगवद्गीता

2. पुरुषार्थ विहार विमर्श:
2.1 धर्म: परिभाषाएं, अर्थ और स्रोत (महाभारत, मनुस्मृति, वैशेषिक सूत्र, भगवद्गीता-शंकरभाण्य-उपोदघाट, श्रमण परंपराओं में परिभाषाएं)
2.1.1 धर्म वैदिक और श्रमण परंपराओं और श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी, राजा-धर्म, अपाधर्म, समाज-धर्म, और स्वधर्म के आयोजन सिद्धांत के रूप में
2.2 कर्म
2.2.1 कर्म योग, कर्म मीमांसा, भगवद्गीता और संगत शंकरभण्य
2.2.2 संस्कार, कर्म, फला, प्रारब्ध: की अवधारणा
2.2.3 छह कर्म: काम्य, नित्य, निसिद्ध, नैमित्तिक, प्रायश्चित और उपासना
2.2.4 निष्काम (वास्तविक कर्ता के रूप में ब्रह्म/सर्वम) और सकाम कर्म
2.3. अर्थ-काम: (ईशोपनिषद, कौटिल्य अर्थशास्त्र और शुक्रनीति)
2.4 मोक्ष भारतीय दर्शन में
2.4.1 मोक्ष और निर्वाण की अवधारणाएं
2.4.2 मोक्ष (योग) के लिए कई रास्ते: अभ्यास, कर्म, भक्ति, ज्ञान
2.5 भक्ति: पांचवां पुरुषार्थ (भक्ति सूत्र, नारद, सांडिल्य सूत्र, तुलसी, मीरा, शैव, वैष्णव।)

3. जीव, जगत-ब्रह्म विचार
3.1 जीव की अवधारणा
3.1.1 बंधन की परिभाषाएं (सांख्य-तत्त्व-कौमुदी के साथ प्राकृतिका, वैकीटिका, दक्षिणिका)
3.1.2 पुनर्जन्म: बंधन का मूल कारण और प्रक्रिया: भगवद्गीता, जैन साहित्य और प्रतिज्ञा-समुत्पादसिद्धांत
3.2 जगत: अवधारणा और कारण
3.3 ब्रह्म-विकार: भारतीय दर्शन में ब्रह्म की अवधारण, उपनिषद आदि।

4. प्रमाण:
4.1 प्रमाण: की परिभाषा
4.2 दार्शनिक विश्लेषण का भारतीय मॉडल: प्रमाता, प्रमाण, प्रमय और प्रमा:
4.3 स्वात-प्रामण्य, और परत:-प्रामाण्य:
4.4 विभिन्न प्रकार के प्रमाणों की प्रकृति, परिभाषा, विधि और सीमाएं: प्रत्याक्ष, अनुमन, उपमान, सबदा, अनुप्रज्ञा, अर्थपट्टी, ऐतिह्य
4.5 सबदा-शक्ति: अभिधा, लक्षणा, व्यंजना, और तत्पर्य
4.6 प्रमाण के अनुप्रयोग

सेमेस्टर-2

5. वाद:-परंपरा:
5.1 वाद-परंपरा: शास्त्रार्थ: की विधि
5.2 संदेह से निश्चय की ओर: संन्यास से निर्णय तक
5.3 कथा (कथा की प्रकृति और प्रकार): वड़ा, जलपा, वितंदा:
5.4 ज्ञान पर लगना: अनुबन्ध-चतुष्टय (अधिकारी, दृश्य, संबंध, प्रार्थना)
5.5 ज्ञान का संगठन: सूत्र, भाण्य, वर्तिका, वृत्ति, टीका, टिप्पणी और संग्रह
5.6 "तत्पर्य" का विश्लेषण करना
5.6.1 श्रवण विधि: उपाक्रम, उपसम्हार, अभ्यास, अपूर्वता, फला, अर्थवाड़ा, उपपट्टी
5.6.2 छह गुना प्रक्रिया (षडविधा तातपर्य निर्नायक लिंग) श्रुति, लिंग, वाक्य, प्रकरण, स्थान, समाख्या:
5.7 तंत्रयुक्ति: प्राकृतिक विज्ञान के संदर्भ में "अनुसंधान पद्धति"

6. रामायण
6.1 रामायण: काव्य और इतिहास
6.2 रामायण और इसकी परंपराएं: रूप और प्रकार
6.3 भारतीय साहित्य और कलाओं (लोक, शास्त्रीय और समकालीन कला) के लिए दो स्रोत-महाकाव्यों (उपजव्य) में से एक के रूप में रामायण
6.4 राम और रामराज्य:
6.5 भारत में प्रकृति और समाज (जैसे निषादराज, जटायु, आदि), भूगोल, जीव और वनस्पति
6.6 रामायण में महिला पात्र
6.7 समाज में आरएसआई की भूमिका
6.8 रामायण: सीमाओं से परे

7. महाभारत
7.1 महाभारत: काव्य और इतिहास
7.1.1 महाभारत भारतीय साहित्य, और कला (लोक, शास्त्रीय और समकालीन कला) के लिए महाकाव्य स्रोत (उपजव्य) के रूप में
7.1.2 युधिष्ठिर (युगीबदा), कृष्ण और विक्रम के कैलेंडर (संवत)
7.2 महाभारत और इसकी परंपरा
7.3 महाभारत का मुख्य आख्यान। धर्म के 10 लक्ष्मण के बारे में 10 कहानियां: धृति (गंगावतारन), काम (वशिष्ठ और विश्वामित्र), दामा (ययाति और पुरु), अस्तेय (युधिष्ठिर- यक्ष संवाद), सौका (सुनहरे नेवले की कहानी), उपाध्याय (उपदेश) , धिह (सावित्री), विद्या (स्त्रीपर्व से मानव-बाघ-साँप-हाथी की कहानी), सत्यम (हरिश्चंद्र / सत्यकाम), अक्रोध (परीक्षित की कहानी और ऋषि समिका का अपमान)
7.4 विदुरनीति और भगवद्गीता
7.5 राजधर्म, और रजनीति: शांतिपर्व
7.6 भारतवर्ष का भूगोल
7.7 महाभारत में महिला चरित्र
7.8 वन-पर्व: यक्ष युधिष्ठिर संवाद

8. आगम:- शैव-शक्ति और वैष्णव
8.1 तीर्थ
8.2 पर्व
8.3 व्रत-उपवास
8.4 परममुख उत्सव
8.5 संस्कार

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
The Post Graduate Diploma in Hindu Studies course is designed to provide a serious study of the origin and history of Hindus and their literature, mythology, religion, art, culture, philosophy, institutions and ethics. This course focuses on collecting, translating and illustrating important texts from the rich manuscript collection of Hindus.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X