वेल्थ मैनेजमेंट में एमबीए कैसे करें, फीस, जॉब, सैलरी और टॉप कॉलेज

वेल्थ मैनेजमेंट में एमबीए 2 साल का पूर्णकालिक कोर्स है, जिसे 4 सेमेस्टर में विभाजित किया गया है, जिसमें प्रत्येक सेमेस्टर 6 महीने की अवधि का है। बता दें कि वेल्थ मैनेजमेंट यानि की धन प्रबंधन एक परिष्कृत पेशेवर सेवा है जो एक सेट शुल्क के लिए वित्तीय और निवेश सलाह, लेखा और कर सेवाओं, सेवानिवृत्ति योजना और कानूनी या संपत्ति योजना को जोड़ती है। जबकि वेल्थ मैनेजर यानि कि धन प्रबंधक उस व्यक्ति की वित्तीय स्थिति, लक्ष्यों और जोखिम के साथ आराम के स्तर के आधार पर ग्राहक की संपत्ति को बनाए रखने और बढ़ाने के उद्देश्य से एक योजना विकसित करने के लिए जिम्मेदार होता है।

 

चलिए आज के इस आर्टिकल में हम आपको एमबीए इन वेल्थ मैनेजमेंट से संबंधित सभी आवश्यक जानकारी से अवगत कराएंगे कि आखिर वेल्थ मैनेजमेंट में एमबीए करने के लिए एलिजिबिलिटी क्या होनी चाहिए। इसका एडमिशन प्रोसेस क्या है, इसके लिए प्रमुख एंट्रेंस एग्जाम कौन से हैं, इसे करने के बाद आपके पास जॉब प्रोफाइल क्या होंगी और उनकी सैलरी क्या होगी। भारत में वेल्थ मैनेजमेंट में एमबीए करने के लिए टॉप कॉलेज कौन से हैं और उनकी फीस क्या है।

वेल्थ मैनेजमेंट में एमबीए कैसे करें, फीस, जॉब, सैलरी और टॉप कॉलेज

• कोर्स का नाम- एमबीए इन वेल्थ मैनेजमेंट
• कोर्स का प्रकार- पोस्ट ग्रेजुएट
• कोर्स की अवधि- 2 साल
• पात्रता- स्नातक
• एडमिशन प्रोसेस- एंट्रेंस एग्जाम
• कोर्स फीस- 35,000 से 1.4 लाख तक
• अवरेज सैलरी- 3 से 15 लाख तक

 

एमबीए इन वेल्थ मैनेजमेंट: पात्रता

  • उम्मीदवारों के पास किसी मान्यता प्राप्त कॉलेज या विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री होनी चाहिए।
  • उम्मीदवार स्नातक डिग्री में कुल मिलाकर कम से कम 60% अंक होने चाहिए।
  • उम्मीदवारों को अपनी पसंद के कॉलेजों में सीट सुरक्षित करने के लिए सामान्य प्रवेश परीक्षा जैसे कैट, सीएमएटी या एमएएच सीईटी को भी उत्तीर्ण करना चाहिए।
  • अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग से संबंधित उम्मीदवारों को अनिवार्य प्रक्रिया के रूप में पाठ्यक्रम कार्यक्रम में 5% छूट प्रदान की जाती है।

एमबीए इन वेल्थ मैनेजमेंट: प्रवेश प्रक्रिया

किसी भी टॉप यूनिवर्सिटी में एमबीए इन वेल्थ मैनेजमेंट कोर्स में एडमिशन लेने के लिए, उम्मीदवारों को एंट्रेंस एग्जाम देने की आवश्यकता होती है। एंट्रेंस एग्जाम में पास होने के बाद पर्सनल इंट्रव्यू होता है और यदि उम्मीदवार उसमें अच्छा स्कोर करते हैं, तो उन्हें स्कोलरशिप भी मिल सकती है।

एमबीए इन वेल्थ मैनेजमेंट के लिए भारत के टॉप कॉलेजों द्वारा अपनाई जाने वाली एडमिशन प्रोसेस निम्नलिखित है

चरण 1: रजिस्ट्रेशन

  • उम्मीदवार ऑफिशयल वेबसाइट पर जाएं।
  • ऑफिशयल वेबसाइट पर जाने के बाद आवेदन फॉर्म भरें।
  • आवेदन फॉर्म को भरने के बाद ठीक तरह से जांच लें यदि फॉर्म में गलती हुई तो वह रिजक्ट हो सकता है।
  • मांगे गए दस्तावेज अपलोड करें।
  • आवेदन पत्र सबमिट करें।
  • क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड से ऑनलाइन फॉर्म की फीस जमा करें।

चरण 2: एंट्रेंस एग्जाम

  • यदि उम्मीदवार एमबीए इन वेल्थ मैनेजमेंट में एडमिशन लेने के लिए टॉप यूनिवर्सिटी का लक्ष्य रखते हैं, तो उनके लिए एंट्रेंस एग्जाम क्रेक करना अत्यंत आवश्यक है। जिसके लिए रजिस्ट्रेशन प्रोसेस पूरी हो जाने के बाद एडमिट कार्ड जारी किए जाते हैं। जिसमें की एंट्रेंस एग्जाम से संबंधित सभी जानकारी दी जाती है जैसे कि एग्जाम कब और कहां होगा, आदि।
  • बता दें कि एमबीए इन वेल्थ मैनेजमेंट के लिए एडमिशन प्रोसेस कॉमन एडिमशन टेस्ट (CAT), एक्सएटी, जीमैट, जेवियर जीमैट (एक्स-जीएमटी), और जीएमएसी द्वारा एनएमएटी आदि जैसे एंट्रेंस एग्जाम पर निर्भर करती है। योग्य उम्मीदवारों का चयन आगे इंट्रव्यू के आधार पर किया जाता है।

चरण 3: एंट्रेंस एग्जाम का रिजल्ट

एंट्रेंस एग्जाम हो जाने के कुछ दिन बाद उसका रिजल्ट घोषित किया जाता है जिसके लिए, छात्रों को नियमित रूप से विश्वविद्यालय की वेबसाइटों और सोशल मीडिया हैंडल की जांच करके खुद को अपडेट रखना चाहिए।

चरण 4: इंट्रव्यू एंड एनरोलमेंट

  • एंट्रेंस एग्जाम में पास होने वाले छात्रों को यूनिवर्सिटी द्वारा इंट्रव्यू में उपस्थित होने के लिए कहा जाएगा - या तो ऑनलाइन (स्काइप, गूगल मीट, ज़ूम) या ऑफ़लाइन छात्रों को यूनिवर्सिटी परिसर में बुलाकर।
  • इस दौरान, अन्य सभी एलिजिबिली क्राइटेरिया को क्रॉस चेक किया जाता है और यदि छात्र इंटरव्यू में अच्छा प्रदर्शन करते हैं, तो उन्हें एमबीए इन वेल्थ मैनेजमेंट का अध्ययन करने के लिए एडमिशन दिया जाता है।

एमबीए इन वेल्थ मैनेजमेंट: सिलेबस

सेमेस्टर 1

  • वित्तीय प्रबंधन
  • व्यापारिक वातावरण
  • प्रबंधकीय अर्थशास्त्र
  • संगठनात्मक व्यवहार
  • मानव संसाधन प्रबंधन
  • मात्रात्मक तकनीक

सेमेस्टर 2

  • कूटनीतिक प्रबंधन
  • विपणन प्रबंधन
  • प्रबंधन सूचना प्रणाली
  • उत्पादन और संचालन प्रबंधन
  • प्रबंधन निर्णय के लिए अनुसंधान पद्धति
  • प्रबंधकों के लिए लेखांकन

सेमेस्टर 3

  • संचालन प्रबंधन
  • व्यवसाय के कानूनी पहलू
  • बैंकिंग व वित्त
  • कानूनी ढांचा और वित्त
  • वित्तीय संस्थान और बैंकिंग
  • जोखिम प्रबंधन

सेमेस्टर 4

  • निवेश योजना और प्रबंधन
  • वित्तीय योजना और म्यूचुअल फंड उत्पाद
  • निवृत्ति उपाय
  • सुरक्षा विश्लेषण
  • श्रेणी प्रबंधन
  • वित्तीय योजनाओं और धन प्रबंधन का निर्माण

एमबीए इन वेल्थ मैनेजमेंट: टॉप कॉलेज और उनकी फीस

  • एम.एम. प्रबंधन संस्थान, हरियाणा- फीस 60,000
  • एसवीआईआईटी, चंडीगढ़- फीस 35,000
  • वेंकटेश्वर मुक्त विश्वविद्यालय, नागपुर- फीस 62,000
  • एमआईटी स्कूल ऑफ डिस्टेंस मैनेजमेंट, पुणे- फीस 48,500
  • वेंकटेश्वर मुक्त विश्वविद्यालय, मुंबई- फीस 53,200

एमबीए इन वेल्थ मैनेजमेंट: जॉब प्रोफाइल और सैलरी

  • इंवेस्टमेंट एनालिस्ट- सैलरी 6 लाख
  • वेल्थ मैनेजर- सैलरी 9 लाख
  • रिलेशनशिप मैनेजर- सैलरी 5 लाख
  • इक्यूटी एनालिस्ट- सैलरी 4 लाख
  • सिनियर इंवेस्टमेंट मैनेजर- सैलरी 8 लाख

यह खबर पढ़ने के लिए धन्यवाद, आप हमसे हमारे टेलीग्राम चैनल पर भी जुड़ सकते हैं।

Top 10 MBA Courses List ये हैं टॉप 10 एमबीए कोर्स की लिस्ट

Career Advice: एलएलबी, एमबीए और ट्रैवल इंडस्ट्री समेत इन 5 फील्ड से जुड़ी करियर एडवाइस

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
MBA in Wealth Management is a 2 year full time course, divided into 4 semesters, each of 6 months duration. Wealth management is a sophisticated professional service that combines financial and investment advice, accounting and tax services, retirement planning and legal or estate planning for a set fee.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X