डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी में करियर (Career in Diploma in Physiotherapy After 12th)

कक्षा 12वीं के बाद कई छात्र जिनके पास साइंस होती है इस बात को लेकर दुविधा में रहते हैं कि वह क्या करें क्या न करें। कुछ मेडिकल के क्षेत्र में कदम रखते हैं तो कुछ इंजीनियरिंग और अन्य क्षेत्रों में कमद रखते हैं। जो छात्र मेडिकल में जाना चाहते हैं उनके पास कई ऑप्शन होते हैं जिसमें से वह कोई एक चुनते हैं। हर छात्र मेडिकल में भी अपनी पसंद का विषय चुनना चाहता है किसी एक विषय में स्पेशलाइजड होना चाहता है। मेडिकल का क्षेत्र एक बड़ा क्षेत्र और इस क्षेत्र में रह कर आप काफी आगे तक जा सकते हैं। डिग्री के अलावा कई संस्थान है जो कई कोर्स मेडिकल के कुछ कोर्सेस में डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स भी ऑफर करते हैं। उन्हीं कुछ कोर्सेस में एक है डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी जिसके बारे में हम आज आपको बताने जा रहें है। आइए इस कोर्स से संबंधित अन्य चीजे जाने।

 

डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी 2 साल की अवधि का प्रोग्राम है जो छात्र कक्षा 12वीं के बाद कर सकते हैं। फिजियोथैरेपी को फिजिकल थैरपी भी कहा जाता है। इस कोर्स को केवल साइंस के छात्र कर सकते हैं। इस कोर्स में प्रवेश मेरिट और प्रवेश परीक्षा दोनों के माध्यम से दिया जाता है। इस कोर्स की फीस की बात करें तो कोर्स की फीस 10 हजार से 5 लाख तक जा सकती है। कोर्स को करने के बाद छात्र साला का 5 लाख आराम से कमा सकते हैं। कोर्स में छात्र को फिजियोलॉजी, फर्स्ट एड एंड नर्सिंग, फार्मोकोलॉजी, सोशलॉजी, इलेक्ट्रोथेरेपी, एक्सरसाइज थेरेपी और माइक्रोबायोलॉजी जैसे कई विषयों के बारे में विस्तार से पढ़ाया जाता है। कोर्स के बाद छात्रों के पास कई स्कोप होते हैं वह नौकरी के आवेदन कर सकते है इसी के साथ वह चाहें तो आगे उच्च शिक्षा के लिए आवेदन भी कर सकते हैं।

डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी में करियर (Career in Diploma in Physiotherapy After 12th)

डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी : योग्यता

डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी करने के लिए छात्र का किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से कक्षा 12वीं पास होना जरूरी है।

 

इस कोर्स के लिए आवेदन सिर्फ वही छात्र कर सकते हैं जिन्होंने कक्षा 12वीं में साइंस की पढ़ाई की है।

छात्र के कक्षा 12वीं में कम से कम 45 प्रतिशत अंक होने अनिवार्य है।


डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी : प्रवेश प्रक्रिया

डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी कोर्स में मुख्य तौर पर प्रवेश मेरिट बेस पर होता है लेकिन कुछ संस्थान ऐसे हैं जो इस कोर्स में दाखिला देने के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन करते हैं।

मेरिट बेस पर प्रवेश के लिए संस्थान कक्षा 12वीं के अंकों के आधार प्रवेश देते हैं। शिक्षण संस्थान एक कट ऑफ जारी करते हैं। जारी इस कट ऑफ के अंकों के आधार पर छाक्ष जाकर दाखिला लेते हैं।

प्रवेश परिक्षा के आधार पर दाखिला छात्रों के परिक्षा प्रदर्शन पर आधारित होता है। जिन छात्रों का परीक्षा मे अच्छा प्रदर्शन होता है उन छात्रों को संस्थान दाखिला देने के लिए आमंत्रित करता है।

आवेदन प्रक्रिया

डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी करने की इच्छा रखने वाले छात्रे के लिए इस लेख में नीचे की ओर कॉलेज की लिस्ट दी गई उनमें से किसी भी कॉलेज के लिए आवेदन करने के लिए छात्रों को उस कॉलेज की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।

आधिकारिक वेबसाइट पर खुद को रजिस्टर करके अपना लॉगिन क्रिएट करना है। क्रिएट इस लॉगिन के माध्यम से आपको आवेदन फॉर्म को भरना है।

आवेदन फॉर्म में मांगी गई सारी जानकारी छात्रों को भरने के बाद आवेदन फॉर्म के नेक्सट पेज पर आपको अपने एजुकेशनल डॉक्यूमेंट्स, फोटो, हस्ताक्षर आदि भरकर सबमिट करना है।

आवेदन फॉर्म सबमिट करने के बाद आपको आवेदन शुल्क का भुगतान करना है और फाइनल सबमिट करने के बाद अपने फॉर्म का एक पीडीएफ बनाए और इसका एक प्रिंट भी ले।

डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी : एंट्रेंस टेस्ट

आईपीयू सीईटी
बीसीईसीई
एलपीयूएनईएसटी
सीपीएनईटी


डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी : कॉलेज और फीस

क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज, तमिलनाडु : 22,130 रुपये
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरो साइंस, बैंगलोर : 54,000 रुपये
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नॉलॉजी (एनआईएमटी), ग्रेटर नोएडा : 153,000 रुपये
किंग्स जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (KGMU), लखनऊ : 73,000 रुपये
अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू), अलीगढ़ : 216,700 रुपये
इंस्टीट्यूट ऑफ पोस्टग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च : 15,000 रुपये
श्री राम मूर्ति स्मारक संस्थान, बरेली : 33,330 रुपये
मद्रास मेडिकल कॉलेज, चेन्नई
एरा का लखनऊ मेडिकल कॉलेज और अस्पताल, लखनऊ : 145,000 रुपये
माधव विश्वविद्यालय : 55,000 रुपये
तीर्थंकर महावीर विश्वविद्यालय : 60,500 रुपये
महात्मा ज्योति राव फूल विश्वविद्यालय : 26,000 रुपये
सीएमजे विश्वविद्यालय : 56,000 रुपये

डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी : कोर्स सिलेबस

फिजियोलॉजी
एनाटॉमी
फर्स्ट एड एंड नर्सिंग
बायोकेमेस्ट्री
फूड साइंस एंड न्यूट्रिशन
साइकोलॉजी
सोशलॉजी
फार्मोकोलॉजी
बायोमेट्रिक
इलेक्ट्रोथेरेपी
माइक्रोबायोलॉजी
पैथोलॉजी
क्लिनिक ऑब्जर्वेशन
एक्सरसाइज थेरेपी
स्पोर्ट्स साइंस एंड मेडिसिंस
जनरल मेडिसिन एंड सर्जरी
फिजियोथैरेपी इन जनरल मेडिसिन एंड सर्जरी
बायोइंजीनियरिंग
रिहैबिलिटेशन साइंस
ऑर्थोपेडिक्स

डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी : जॉब प्रोफाइल और सैलरी

प्रोसेसर : 9 लाख रुपये सालाना
थेरेपी मैनेजर : 5 लाख रुपये सालाना
रिसर्च असिस्टेंट : 4 लाख रुपये सालाना
कस्टमर केयर असिस्टेंट : 4 लाख रुपये सालाना
सेल्फ एंप्लॉयड प्राइवेट फिजियोथैरेपी : 6 लाख रुपये सालाना

डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी : टॉप भर्तीकर्ता

ग्लेनीगल्स ग्लोबल हॉस्पिटल्स
फर्स्ट स्टूडेंट
एमजीएम इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ साइंसेज
क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज
अपोलो हॉस्पिटल्स
माय फिजियो
वेहुमैनिटी एलएलपी
वीएलसीसी
वन लाइफ हेल्थकेयर
के.डी. मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Diploma in Physiotherapy is a program of 2 years duration which students can do after class 12th. Physiotherapy is also called physical therapy. After doing the course, students can easily earn 5 lakhs of salary. In the course, the student is taught in detail about many subjects such as Physiology, First Aid and Nursing, Pharmacology, Sociology, Electrotherapy, Exercise Therapy and Microbiology.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X