बीटेक इन प्रोडक्टशन इंजीनियरिंग में करियर कैसे बनाएं, जानिए कोर्स, फीस, कॉलेज, जॉब और करियर स्कोप के बारे में

बच्चों को आपने अक्सर चीजे तोड़ते और उन्हें बनाते हुए देखा होगा। उनकी ये क्रिएटिविटी ही साबित करती है की बच्चों की दिमाग बहुच तेज होता है। इसमें कुछ बच्चें ऐसे होते हैं जो बड़े होने का बाद भी इन कार्यों में रूची रखते हैं। ऐसे छात्र प्रोडक्टशन इंजीनियरिंग कोर्स में प्रवेश ले सकते हैं। जहां वह अपनी क्रिएटिविटी को और अधिक निखार सकते हैं और साथ ही एक इंजीनियर बनने का अपना सपना पूरा कर अच्छी कंपनियों में कार्य कर सकते हैं।

 

इंजीनियरिंग के किसी भी कोर्स के बारे में सोचने पर छात्रों के मन में की तरह के सवाल आते हैं जैसे- प्रोडक्ट इंजीनियर क्या है? इसकी योग्यता किस प्रकार है? इसके लिए कौनसे कॉलेज बेहतर है? कोर्स करने के बाद के करियर ऑप्शन क्या है? इसमें भविष्य है कि नहीं? आदि। आपके मन में इन सभी प्रश्नों के उत्तर आपको इस लेख के माध्यम से प्राप्त होंगे। आइए जाने -

बीटेक इन प्रोडक्टशन इंजीनियरिंग में करियर कैसे बनाएं, जानिए कोर्स, फीस, कॉलेज, जॉब और करियर स्कोप

प्रोडक्टशन इंजीनियरिंग क्या है?

 

किसी भी कोर्स को करने से पहले ये जानना हमेशा ही आवश्यक होता है कि वह विषय है क्या। उसी तरह प्रोडक्ट इंजीनियरिंग कोर्स के बारे में सोच रहे छात्रों के लिए भी इस बारे में जानकारी रखना महत्वपूर्ण है। प्रोडक्टशन इंजीनियरिंग में विभिन्न तरह के प्रोडक्टों का निर्माण बिक्रि के लिए किया जाता है। एक इंजीनयर के तौर पर जब आप किसी प्रोडक्ट का निर्माण करते हैं तो आपको मुख्य उद्देश्य उस प्रोडक्ट की गुणवत्ता, क्षमता, उत्पादक्ता को अधिक विश्वसनीय बनाना होता है। साथ ही इस बात का ध्यान देने भी आवश्यक है कि उस प्रोडक्ट की लागात आम जनता के लिए भारी न हो। एक इंजीनियर के तौर पर प्रोडक्ट बानाने का मुख्य कार्य कम से कम लागात में अच्छे प्रोडक्ट का निर्माण करना है। ताकि उस तक आम जनता की पहुंच आसान हो। इंजीनियर्स द्वारा निर्मित कोई भी प्रोडक्ट हमारे कार्यों को आसान बनाने के लिए होते हैं। जिसके माध्यम से हम अपना सभी कार्य आसानी से कर सकें और हमें किसी भी प्रकार की दिक्कत का सामाना भी न करना पडे़।

प्रोडक्टशन इंजीनियरिंग कोर्स में बीटेक कोर्स

छात्र कक्षा 12वीं पास करने के बाद ही डिग्री कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं। प्रोडक्टशन इंजीनियरिंग में बीटेक एक अंडरग्रेजुएट प्रोग्राम है। जिसकी अवधि 4 साल की होती है। जिसमें प्रोडक्ट और उसकी इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट और मैन्युफैक्चरिंग के पहलुओं के बारे में ज्ञान दिया जाता है। इस कोर्स में प्रवेश छात्र केवल प्रवेश परीक्षा के माध्यम से ले सकते हैं। जिसके लिए मुख्य परीक्षा जेईई का आयोजन किया जाता है। इसके अतरिक्त संस्थान, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर कई प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया जाता है। जिसकी जानकारी लेख में नीचे दी गई है।

साथ ही आपको बता दें कि कोर्स कोर करने के बाद छात्र एनटीपीसी, टाटा पावर, रिलायंस, जैसी कई कपंनियों में कार्य कर सकते हैं।

बीटेक इन प्रोडक्टशन इंजीनियरिंग कोर्स की योग्यता

प्रोडक्टषन इंजीनियरिंग कोर्स करने के लिए छात्रों को साइंस स्ट्रीम से 12वीं कक्षा पास करनी होगी। इस कोर्स में प्रवेश के लिए छात्रों को पीसीएम के विषय और अंग्रेजी विषय पढ़ा हुआ होना आवश्यक है। इस कोर्स को केवल 17 से 25 वर्ष की आयु के छात्र ही कर सकते हैं।

प्रोडक्टशन इंजीनियरिंग के लिए प्रमुख प्रवेश परीक्षा

भारत में इंजीनियरिंग कोर्स में प्रवेश के लिए सबसे प्रमुख परीक्षा जेईई मेंस और जेईई एडवांस की होती है। इसके अलावा छात्र डब्ल्यूबीजेईई, वीआईटीईईई, केईएएम और एसआरएमजेईई की परीक्षाओं में भी शामिल हो सकते हैं। इसके साथ संस्थानों द्वारा भी परीक्षाओं का आयोजन किया जाता है जिसमें छात्र शामिल हो सकते हैं।
बीटेक इन प्रोडक्ट इंजीनियरिंग के टॉप कॉलेज

  1. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग, त्रिची - 1,61,700/-
  2. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग, कालीकट - 53,622/-
  3. जवाहरलाल नेहरू प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, हैदराबाद - 3,12,000/-
  4. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग, अगरतला - 1,50,100/-
  5. वोक्सेन यूनिवर्सिटी, हैदराबाद - 3,62,500/-
  6. बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग, रांची - 2,85,000/-
  7. ग्रेटर नोएडा इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग ग्रेटर नोएडा, - 1,27,970/-
  8. बीएमएल मुंजाल विश्वविद्यालय, गुरुग्राम - 2,52,000/-
  9. कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग, उड़ीसा - 3,50,000/-
  10. इंजीनियरिंग और प्रबंधन विश्वविद्यालय, कोलकाता - 1,71,000/-

बीटे प्रोडक्टशन इंजीनियरिंग के लिए विदेश के टॉप कॉलेज

भारत के अलावा प्रोडक्टशन इंजीनियरिंग के कई टॉप कॉलेज विदेश में भी है। जो छात्र विदेश से अपनी पढ़ाई पूरी करने की इच्छा रखते हैं वह नीचे दी गई लिस्ट के कॉलेज चेक कर सकते हैं। विदेश के कॉलेज से शिक्षा प्राप्त कर छात्र वहां की कंपनियों के साथ कार्य कर सकते हैं।

  1. नॉटिंघम विश्वविद्यालय, यूनाइटेड किंगडम - 24,63,300/-
  2. इंजीनियरिंग विश्वविद्यालय, ऑस्ट्रेलिया - 42,51,000/-
  3. टेक्सास विश्वविद्यालय, संयुक्त राज्य अमेरिका - 26,65,000/-
  4. न्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय, ऑस्ट्रेलिया - 23,60,000/-
  5. सिडनी विश्वविद्यालय, ऑस्ट्रेलिया - 36,38,000/-
  6. मैकमास्टर यूनिवर्सिटी, कनाडा - 18,81,000/-
  7. कन्फेडरेशन कॉलेज ऑफ एप्लाइड आर्ट्स एंड इंजीनियरिंग, कनाडा - 19,69,000/-
  8. आरएमआईटी विश्वविद्यालय, ऑस्ट्रेलिया - 41,81,000/-
  9. टीएएफई, ऑस्ट्रेलिया का चिशोल्म संस्थान - 29,69,000/-
  10. लॉरेंस टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी, संयुक्त राज्य अमेरिका - 36,77,000/-
  11. न्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय, ऑस्ट्रेलिया - 23,60,000/-
  12. सिडनी विश्वविद्यालय, ऑस्ट्रेलिया - 36,38,000/-
  13. मैकमास्टर यूनिवर्सिटी, कनाडा - 18,81,000/-

बीटेक प्रोडक्टशन इंजीनियरिंग का सिलेबस

आपको बता दें कि इंजीनियरिंग कोर्स का अवधि 4 साल की है और इसे 8 सेमेस्टर में बांटा गया है। प्रत्येक सेमेस्टर के बाद परीक्षा का आयोजन किया जाता है। छात्रों को सहायता के लिए यहां वार्षिक सिलेबस दिया गया है जिसके माध्यम से आप इस कोर्स में पढ़ाए जाने वाले विषयों के बारे में जान पाएंगे।

प्रथम वर्ष का सिलेबस
प्रोफेशनल कम्युनिकेशन,एनवायरमेंटल स्टडीज, इंजीनियरिंग फिजिक्स, फंडामेंटल ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, इंजीनियरिंग केमिस्ट्री, इंजीनियरिंग मैथमेटिक्स वन, फंडामेंटल ऑफ इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग, इंजीनियरिंग ड्राइंग, टेक्निकल कम्युनिकेशन, इंजीनियरिंग, मैथमेटिक्स टू, फंडामेंटल ऑफ कंप्यूटर

द्वितीय वर्ष का सिलेबस
मेटल जॉइनिंग प्रोसेस, मेटैलर्जी एंड मैटेरियल साइंस, प्रोडक्ट ड्रॉइंग, प्रोडक्ट प्रोसेसिंग, फ्ल्यूज मकैनिक्स एंड मशीन, न्यूमैरिकल टेक्निक्स, मशीन टूल्स 1, मशीन ड्रॉइंग, सिविल ड्राइंग, इंजीनियरिंग 3।

तृतीय वर्ष का सिलेबस
अप्लाइड स्टैटिसटिक्स, डायनेमिक ऑफ मशीन, रिसोर्स मैनेजमेंट टेक्नोलॉजी, रिएबिलिटी मेंटेनेंस एंड सेफ्टी, इंजीनियरिंग नॉन ट्रडिशनल मैन्युफैक्चरिंग प्रोसेस, डिजाइन ऑफ मैन्युफैक्चरिंग एंड एसैंबली, सीएनसी मशीन, थर्मल इंजीनियरिंग, मेट्रोलॉजी क्वालिटी एश्योरेंस, डिजाइन आफ मशीन एलिमेंट्स, कंप्यूटर ग्राफिक एंड CAD, कंप्यूटर ऐडेड ड्राफ्टिंग एंड कॉस्ट ऐस्टीमेशन

चौथे वर्ष का सिलेबस
फ्ल्यूड पावर कंट्रोल एंड मेकाट्रोनिक्स , वर्क डिजाइन एंड फैसिलिटी प्लानिंग, फ्लूट पावर कंट्रोल, इलेक्टिव विषय, डिज़ाइन ऑफ प्रोडक्शन टूल, इंडस्ट्रियल इकोनॉमिक्स, मैन्युफैक्चरिंग प्लैनिंग एंड कंट्रोल, ऑटोमेशन एंड CIM, मैन्युफैक्चरिंग सिस्टम एंड सिमुलेशन, प्रोजेक्ट वर्क

बीटेक प्रोडक्टशन इंजीनियरिंग के बाद जॉब प्रोफाइल

  1. प्रोडक्ट इंजीनियर के रूप में कार्य कर उम्मीदवार सालाना 3 से 4 लाख रुपये सालाना वेतन प्राप्त कर सकते हैं।
  2. प्रोसेस इंजीनियर के रूप में कार्य कर आप 4 लाख रुपये सालाना कमा सकते हैं।
  3. इंडस्ट्रियल मैनेजर के रूप में आप सालाना वेतन 25 लाख रुपये तक का प्राप्त कर सकते हैं।
  4. क्वालिटी इंजीनियर के पद पर आपक सालाना 5 लाख रुपये तक कमा सकते हैं।
  5. ऑपरेशन एनालिस्ट के पद पर कार्य कर उम्मीदवार 4 से 5 लाख रुपये कमा सकते हैं।
  6. हेल्थ एंड सेफ्टी इंजीनियर के तौर पर कार्य कर सालाना 5 से 6 लाख रुपये कमा सकते हैं।

इंजीनियरिंग के छात्रों के लिए DRDO ने निकाली DEBEL बैंगलुरु ग्रेजुएट अपरेंटिसशिप 2023, ऐसे प्राप्त करें 9 हजार

फोटोग्राफर बनने वालों के लिए Nikon India ने निकाली 1 लाख की स्कॉलरशिप, ऐसे करें आवेदन

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
B.Tech in Production Engineering is an undergraduate program. Whose duration is 4 years. In which knowledge is given about the product and its engineering, management and manufacturing aspects. Students can take admission in this course only through the entrance test. For which the main exam JEE is organized. Apart from this, many entrance tests are conducted at the institute, state and national level. Whose information is given below in the article.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X