बीई इन सिविल इंजीनियरिंग कैसे करें, जानिए कोर्स, फीस और टॉप कॉलेज के बारे में

हर साल लाखों छात्र इंजीनियरिंद करने का सपना देखते है और उस सपने को पूरा करने के लिए इंजीनियरिंग कोर्स में प्रवेश लेने वाली मुख्य परीक्षा जेईई परीक्षा में शामिल होते हैं। इंजीनियरिंग के क्षेत्र में कई कोर्स है जिसमें छात्र अपना करियर बना सकते हैं। समय के साथ इस क्षेत्र में कई नए कोर्स शामिल हुए हैं, लेकिन इससे परंपरागत कोर्सेस की डिमांड में कोई कमी नहीं आई है। इंजीनियरिंग के परंपरागत कोर्सेस की लिस्ट में सिविल इंजीनियरिंग का कोर्स शामिल है। आज इस लेख के माध्यम से हम आपको इस कोर्स के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे। आइए आपको कोर्स के बारे में बताएं।

 

बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग इन सिविल इंजीनियरिंग जिसे शॉर्ट में बीई इन सिविल इंजीनियरिंग भी कहा जाता है 4 साल की अवधि का अंडरग्रेजुएट प्रोग्राम है। इस कोर्स को छात्रों के लिए आसान बनाने के सिए आठ सेमेस्टर में बांटा गया है। हर सेमेस्टर पूरा होने के बाद छात्रों की परीक्षा में शामिल होना होता है। इस कोर्स में छात्रों को डैम्स एंड हाइड्रॉलिक स्ट्रक्चर्स, ट्रांसपोर्टेशन इंजीनियरिंग, प्रोजेक्ट मैनेजमेंट, जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग, मकैनिक्स ऑफ स्ट्रक्चर और रोड सेफ्टी मैनेजमेंट जैसे कई विषयों की जानकारी दी जाती है।

बीई इन सिविल इंजीनियरिंग कोर्स को पूरा करने के बाद छात्र नौकरी कर साल का 4 से 6 लाख आराम से कमा सकते है और उच्च शिक्षा प्राप्त करने के इच्छुक छात्र एमई इन सिवल इंजीनियरिंग के लिए भी जा सकते हैं। बीई इन सिविल इंजीनियरिंग कोर्स की फीस की बात करें तो कोर्स की फीस संस्थान की पॉपुलैरिटी और उसकी रैंक पर आधारित होती है। इसके साथ संस्थान प्राइवेट है या सरकारी इस बात का भी फीस पर बहुत असर पढ़ता है। इस कोर्स की फीस 10 हजार से 2 लाख तक जा सकती है।

 
बीई इन सिविल इंजीनियरिंग कैसे करें, जानिए कोर्स, फीस और टॉप कॉलेज के बारे में

बीई इन सिविल इंजीनियरिंग : योग्यता

- बीई इन सिविल इंजीनियरिंग करने की इच्छा रखने वाले छात्रों को कोर्स में प्रवेश लेने के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से कक्षा 12वीं साइंस स्ट्रीम में पास करनी होगी।
- कक्षा 12वीं साइंस की अंतिम परीक्षा देने वाला छात्र भी प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन कर सकता है।
- साइंस स्ट्रीम में छात्रों को मुख्य विषय रूप में फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथमेटिक्स का पढ़ा होना आवश्यक है। साथ ही अंग्रेजी का ज्ञान भी होना चाहिए।
- कक्षा 12वीं में छात्रों को कम से कम 50 प्रतिशत अंकों के साथ पास होना होगा, तभी वह कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं।
- कक्षा 10वीं का छात्र जिसके पास मैकेनिकल या अप्लाईड साइंस में डिप्लोमा है वह भी बीई इन सिविल इंजीनियरिंग कोर्स के लिए आवेदन कर सकता है।

बीई इन सिविल इंजीनियरिंग : प्रवेश परीक्षा

1. जेईई मेंस
2. जेईई एडवांस
3. बीआईटीएसएटी
4. डब्ल्यूबीजेईई
5. एसआईएमजेईई

बीई इन सिविल इंजीनियरिंग : कॉलेज और फीस

सीईजी, अन्ना विश्वविद्यालय
फीस - 50,000 रुपये
प्लेसमेंट पैकेज - 5,00,000 रुपये

जादवपुर विश्वविद्यालय
फीस - 2,400 रुपये
प्लेसमेंट पैकेज - 3,00,000 रुपये

जेएमआई, नई दिल्ली
फीस - 10,850 रुपये
प्लेसमेंट पैकेज - 4,50,000 रुपये

थापर इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी फीस - 3,24,800 रुपये
प्लेसमेंट पैकेज - 7,00,000 रुपये

बिट्स पिलानी
फीस - 4,23,475 रुपये
प्लेसमेंट पैकेज - 6,00,000 रुपये

बिट्स रांची
फीस - 3,29,000 रुपये
प्लेसमेंट पैकेज - 10,00,000 रुपये

एसएसएन कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग
फीस - 50,000 रुपये
प्लेसमेंट पैकेज - 5,71,000 रुपये

पीएसजी कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी
फीस - 87,000 रुपये
प्लेसमेंसट पैकेज - 4,00,000 रुपये

आरआईटी बैंगलोर
फीस - 66,806 रुपये
प्लेसमेंट पैकेज - 3,75,000 रुपये

टीसीई मदुरै
फीस - 50,000 रुपये
प्लेसमेंट पैकेज - 3,20,000 रुपये

बीई इन सिविल इंजीनियरिंग : सिलेबस

बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग इन सिविल इंजीनियरिंग कोर्स 4 साल का कोर्स है। इस कोर्स को सेमेस्टर सिस्टम के तहत 8 सेमेस्टर में बांटा गया है ताकि छात्रों के लिए कुछ हद तक आसान बनाया जा सके। इस कोर्स में प्रवेश लेने की इच्छा रखने वाले छात्रों को कोर्स सिलेबस से संबंधित जानकारी होना आवश्यक है। 8 सेमेस्टर के सिलेबस में कुछ इलेक्टिव कोर्स भी शामिल है इसमें से छात्रों को अपने पसंद के अनुसार कुछ विषय चुनने को मिलते हैं उसका सिलेबस भी लेख में नीचे दिया गया है। आइए आपको 8 सेमेस्टर के सिलेबस के बारे में बताएं।

सेमेस्टर 1
इंजीनियरिंग मैथमेटिक्स 1
इंजीनियरिंग फिजिक्स
इंजीनियरिंग केमिस्ट्री
सिस्टम इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग
बेसिक इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग/ बेसिक इलेक्ट्रिक इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग
प्रोग्रामिंग एंड प्रोबलम सॉल्विंग सॉल्विंग/ इंजीनियरिंग मैकेनिक्स
वर्कशॉप

सेमेस्टर 2
इंजीनियरिंग मैथमेटिक्स 2
इंजीनियरिंग फिजिक्स/ इंजीनियरिंग केमेस्ट्री
बेसिक इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग/ बेसिक इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग
प्रोग्रामिंग एंड प्रोबलम सॉल्विंग/ इंजीनियरिंग मैकेनिकल
इंजीनियरिंग ग्रैफिक्स
प्रोजेक्ट बेसड लर्निंग
फिजिकल एजुकेशन - एक्सरसाइज एंड फ्लूएड एक्टिविटी

सेमेस्टर 3
बिल्डिंग टेक्नोलॉजी एंड आर्किटेक्चर एंड प्लैनिंग
मकैनिक्स ऑफ स्ट्रक्चर
फ्लूएड मैकेनिक्स
इंजीनियरिंग मैथमेटिक्स 3
इंजीनियरिंग जियोलॉजी
अवेयरनेस सिविल इंजीनियरिंग प्रैक्टिस/ रोड सेफ्टी मैनेजमेंट/ फॉरेन लैंग्वेज

सेमेस्टर 4
जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग
सर्वे
कंक्रीट टेक्नोलॉजी
स्ट्रक्चरल एनालिसिस
प्रोजेक्ट मैनेजमेंट,
प्रोजेक्ट बेस्ड लर्निंग

सेमेस्टर 5
हाइड्रोलॉजी एंड वॉटर रिसोर्सेस इंजीनियरिंग
इन्फ्राट्रक्चर इंजीनियरिंग एंड कंस्ट्रक्शन टेक्निक्स
स्ट्रक्चरल डिजाइन 1
स्ट्रक्चरल एनालिसिस 2
फ्लूएड मैकेनिक 2

सेमेस्टर 6
एडवांस सर्वे
प्रोजेक्ट मैनेजमेंट एंड इंजीनियरिंग इकोनॉमिक्स
फाउंडेशन इंजीनियरिंग
स्ट्रक्चरल डिजाइन 2
एनवायरमेंटल इंजीनियरिंग 1

सेमेस्टर 7
एनवायरमेंटल इंजीनियरिंग 2
ट्रांसपोर्टेशन इंजीनियरिंग
स्ट्रक्चर डिजाइन एंड ड्राइंग 3
इलेक्टिव 1
इलेक्टिव 2

सेमेस्टर 8
डैम्स एंड हाइड्रॉलिक स्ट्रक्चर्स
क्वांटिटी सर्वेइंग कॉन्ट्रैक्ट एंड टेंडर्स
इलेक्टिव 3
इलेक्टिव 4

इलेक्टिव 1 एंड 2 सिलेबस

  • स्ट्रक्चर डिजाइन ऑफ ब्रिज
  • सिस्टम अप्रोच इन सिविल इंजीनियरिंग
  • एडवांस कंट्री टेक्नोलॉजी,
  • आर्किटेक्चर एंड टाउन प्लैनिंग
  • एडवांस इंजीनियरिंग जियोलॉजी रॉक मैकेनिक्स
  • मैट्रिक्स मेथड ऑफ स्ट्रक्चरल एनालिसिस
  • इंटीग्रेटेड वाटर रिसोर्सेज एंड प्लैनिंग
  • टीक्यूएम एंड एमआईएस इन सिविल इंजीनियरिंग
  • अर्थक्वेक इंजीनियरिंग
  • एडवांस जिओ टेक्नोलॉजिकल इंजीनियरिंग

इलेक्ट्रिक 3 एंड 4 सिलेबस

  • एडवांस स्ट्रक्चरल डिजाइन
  • एडवांस फाउंडेशन इंजीनियरिंग
  • हाइड्रो पावर इंजीनियरिंग
  • एयर पोलूशन एंड कंट्रोल
  • फिनाइट एलिमेंट मेथड इन सिविल इंजीनियरिंग
  • कंस्ट्रक्शन मैनेजमेंट
  • एडवांस ट्रांसपोर्टेशन इंजीनियरिंग
  • स्टैटिसटिकल एनालिसिस एंड कंपाउंड पर्सनल मेथड इन सिविल इंजीनियरिंग
  • प्लंबरिंग इंजीनियरिंग
  • ग्रीन बिल्डिंग टेक्नोलॉजी
  • फेर्रसीमेंट टेक्नोलॉजी
  • सबसी इंजीनियरिंग
  • मशीन मैकेनिक

बीई इन सिविल इंजीनियरिंग : जॉब प्रोफाइल और वेतन

  1. स्ट्रक्चरल इंजीनियर - 4.80 लाख सालाना
  2. जियोटेक्निकल इंजीनियर - 3.60 लाख सालाना
  3. साइट इंजीनियर - 3.20 लाख सालाना
  4. कंस्ट्रक्शन इंजीनियर - 3.80 लाख सालाना
  5. लेक्चर एंड प्रोफेसर - 3. 80 लाख सालाना
  6. आर्किटेक्ट - 4 से 5 लाख सालाना
  7. टेक्निकल ऑफीसर - 3 से 4 लाख सालाना
  8. मैनेजर - 4 से 5 लाख सालाना
  9. बिजनेस एनालिस्ट - 4 लाख सालाना
  10. असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव इंजीनियर - 3 से 5 लाख सालाना

बीई इन सिविल इंजीनियरिंग : टॉप भर्तीकर्ता

  1. एल एंड टी
  2. टाटा कंसल्टिंग इंजीनियर्स लिमिटेड
  3. श्लमबर्गर
  4. पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड
  5. जैकब्स इंजीनियरिंग
  6. मेटास इंफ्रा लिमिटेड
  7. लैंड ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी
  8. जैकब्स इंजीनियरिंग
  9. शापूरजी पालनजी

बीई इन सिविल इंजीनियरिंग : स्कोप

बीई इन इंजीनियरिंग कोर्स करने के बाद छात्रों के पास दो ऑप्शन होते हैं जिसमें से पहला ऑप्शन नौकरी करने का होता है और दूसरा उच्च शिक्षा प्राप्त करने का।

बीई इन सिविल इंजीनियरिंग कोर्स करने के बाद छात्र कई अच्छी और बड़ी कंपनियों में नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं। इस कोर्स को पूरा कर कई छात्रों को प्लेसमेंट प्राप्त होती है तो कुछ कोर्स पूरा करने के बाद अपने अनुसार कंपनियों में नौकरी करते हैं। कोर्स पूरा करन नौकरी करने की इच्छा रखने वाले छात्र अच्छे पदों पर कार्य कर साल का 3 से 6 लाख रुपये तक आराम से कमा सकते हैं।

जो छात्र कोर्स पूरा करने के बाद उच्च शिक्षा प्राप्त करने की इच्छा रखते हैं वह नीचे दिए कोर्स में प्रवेश ले सकते हैं। उच्च शिक्षा प्राप्त करने के बाद करियर ऑप्शन और बढ़ते हैं।

1. मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग इन सिवल इंजीनियरिंग
2. पीएचडी
3 एमबीए

यह खबर पढ़ने के लिए धन्यवाद, आप हमसे हमारे टेलीग्राम चैनल पर भी जुड़ सकते हैं।

बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग कैसे करें, जानिए कोर्स, फीस और टॉप कॉलेज

बीटेक इन आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग कैसे करें, जानिए कोर्स, फीस और टॉप कॉलेज

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Bachelor of Engineering in Civil Engineering also known as BE in Civil Engineering in short is an undergraduate program of 4 years duration. This course is divided into eight semesters to make it easier for the students. After the completion of every semester students have to appear in the examination. In this course, students are exposed to various subjects like Dams and Hydraulic Structures, Transportation Engineering, Project Management, Geotechnical Engineering, Mechanics of Structures and Road Safety Management.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X