कक्षा 12वीं के बाद बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस) कैसे करें, जानिए पूरी डिटेल्स

बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस) कोर्स एक अंडरग्रेजुएट कोर्स है जिसकी अवधि अन्य मेडिसिन कोर्स से मुकाबले अधिक है। ये कोर्स 5 साल 6 महीने की अवधि का कोर्स है, जिसे छात्र कक्षा 12वीं के बाद कर सकते हैं। बीएएमएस कोर्स को पूरी दुनिया में स्वीकार किया जाता है। लोग आयुर्वेदिक उपचार की ओर भी अपने कदम बढ़ाने लगे हैं, इसके पीछे का मुख्य कारण इससे किसी प्रकार की हानी न होना है। बीएएमएस कोर्स एमबीबीएस डिग्री के बराबर माना जाता है, इसलिए जो छात्र आयुर्वेदा मेडिसिन में अपनी करियर बनना चाहते हैं वह इस कोर्स को कर सकते हैं।

 

बीएएमएस कोर्स में पढ़ रहे छात्रों को संस्कृत, शरीर रचना और क्रिया, चरक संहिता, रसशास्त्र, कायाचिकित्सा, स्वस्थवृत्त, कौमारभृत्य परिचय, शालाक्य तंत्र और शल्य तंत्र जैसे कई विषयों की जानकारी शामिल है। इस विषय को प्रोफेशन वर्ष के अनुसार या सत्र के अनुसार 4 भागों में बांटा गया है। साथ ही कोर्स करने वाले छात्रों के लिए 1 साल की इंटर्नशिप महत्वपूर्ण है। इस कोर्स के सिलेबस और इंटर्नशिप के माध्यम से छात्रों को थ्योरी विषयों के ज्ञान के साथ वास्तविक ज्ञान की आवश्यकता होता है जो इंटर्नशिप के माध्यम से पूरी होती है। कोर्स करने के बाद छात्र एक आयुर्वेदिक डॉक्टर और सर्जन के तौर पर कार्य कर सालना 7 से 13 लाख रुपये का वेतन प्राप्त कर सकता है। आइए आपको कोर्स करने के कॉलेज, उनकी फीस और कोर्स के बाद के स्कोप के बारे में जानकारी दें।

कक्षा 12वीं के बाद बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस) कैसे करें, जानिए पूरी डिटेल्स

बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस): योग्यता

 

- कक्षा 12वीं पास, परीक्षा में शामिल होने वाला छात्र या परीक्षा के रिजल्ट का इंतजार कर रहा छात्र कोर्स के लिए आवेदन कर सकता है।
- कोर्स में प्रवेश के लिए 12वीं में कम से कम 50 से 60 प्रतिशत अंकों की आवश्यकता है।
- साइंस विषय के मुख्य विषय पीसीबी मेडिकल कोर्स के लिए आवश्यक है विषय है छात्रों को 12वीं में इन विषयों का पढ़ा हुआ अनिवार्य है, उसके साथ अंग्रेजी का ज्ञान भी आवश्यक है।
- अधिकतम आयु सीमा जनरल श्रेणी के उम्मीदवारों के लिए 20 वर्ष है।
- आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को अंक प्रतिशत के साथ आयु सीमा में भी छूट प्राप्त है। (आयु में 4 वर्ष की छूट)

बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस): प्रवेश परीक्षा
1. नीट
2. केईएएम
3. आईपीयू सीईटी
4. बीवीपी सीईटी

कक्षा 12वीं के जो छात्र इस कोर्स में प्रवेश लेने की इच्छा रखते हैं उन्हें बता दें की कोर्स में प्रवेश केवल प्रवेश परीक्षा के आधार पर ही प्राप्त किया जा सकता है।

बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस): कोर्स की अवधि

अन्य कोर्स की अवधि 3 से 4 वर्ष की होती है लेकिन बीएएमएस कोर्स की अवधि 5 वर्ष और 6 महीने की है। जिसे वार्षिक आधार पर 4 सेशन में बाटा गया है। इसमें शुरुआत के तीन सेशन 1 साल 6 महीने के हैं और अंतिम सेशन 1 साल का है। छात्रों के कोर्स का सिलेबस नीचे दिया गया है।

बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस): कॉलेज और फीस

  1. बनारस हिंदू विश्वविद्यालय - 22,369 रुपेय
  2. डॉ डीवाई पाटिल विद्यापीठ, पुणे - 3,95,000 रुपेय
  3. आईएमएस वाराणसी - 2,25,000 रुपेय
  4. डीवाई पाटिल विश्वविद्यालय मुंबई - 6,00,000 रुपेय
  5. केएलई विश्वविद्यालय - 25,000 रुपेय
  6. एससीएसवीएमवी विश्वविद्यालय - 3,77,500 रुपेय
  7. भारती विद्यापीठ डीम्ड विश्वविद्यालय - 3,49,250 रुपेय
  8. येनेपोया विश्वविद्यालय - 3,75,000 रुपेय
  9. टांटिया विश्वविद्यालय - 2,95,000 रुपेय
  10. एलएनसीटी यूनिवर्सिटी - 2,75,000 रुपेय
  11. एवीएस आयुर्वेद महाविद्यालय - 37,180 रुपेय
  12. अभिलाषी विश्वविद्यालय - 2,50,000 रुपेय
  13. आरके विश्वविद्यालय - 2,70,000 रुपेय
  14. शोभित विश्वविद्यालय - 2,76,200 रुपेय
  15. पारुल विश्वविद्यालय - 4,00,000 रुपेय
  16. डीआरएस किरण और पल्लवी पटेल ग्लोबल यूनिवर्सिटी - 3,60,000 रुपेय
  17. गोकुल ग्लोबल यूनिवर्सिटी - 2,25,000 रुपेय

बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस): सरकारी कॉलेज और फीस

  1. आईएमएस बीएचयू - 225000 रुपेय
  2. गवर्नमेंट आयुर्वेद कॉलेज एंड हॉस्पिटल, नागपुर - 2,30,000 रुपेय
  3. पोदार आयुर्वेद मेडिकल कॉलेज, मुंबई - 41,250 रुपेय
  4. केयूएचएस - 60,000 रुपेय
  5. मदन मोहन मालवीय राजकीय आयुर्वेद महाविद्यालय, उदयपुर - 25,000 रुपेय

बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस): प्राइवेट कॉलेज और फीस

  1. टांटिया विश्वविद्यालय - 295000 रुपेय
  2. पारुल यूनिवर्सिटी वडोदरा - 271000 रुपेय
  3. राम विश्वविद्यालय, कानपुर - 204600 रुपेय
  4. येनेपोया विश्वविद्यालय - 375000 रुपेय
  5. श्री विश्वविद्यालय - 325000 रुपेय

बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस): सिलेबस

प्रोफेशनल सत्र 1
पदार्थ विज्ञान और आयुर्वेद इतिहास
मौलिक सिद्धांत अवुम अष्टांग हृदय
शरीर रचना
शरीर क्रिया
संस्कृत

प्रोफेशनल सत्र 2
द्रव्यगुण विज्ञान
चरक संहिता
रसशास्त्र
रोग निदान

प्रोफेशनल सत्र 3
अगडतंत्र
चरक संहिता (उत्तरार्द्ध)
कौमारभृत्य परिचय
प्रसूति तंत्र एवम स्त्री रोग
स्वस्थवृत्त

प्रोफेशनल सत्र 4
कायाचिकित्सा
रिसर्च मैथडोलॉजी एंड मेडिकल स्टैस्टिक्स
शालाक्य तंत्र
शल्य तंत्र
पंचकर्म

बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस): स्पेशलाइजेशन

  • पदार्थ विज्ञान
  • शरीर रचना
  • शरीर क्रिया
  • स्वस्थवृत्त
  • रस शास्त्र
  • अगद तंत्र
  • रोग और विकृति विज्ञान
  • चरक संहिता
  • प्रसूति और स्त्री रोग
  • कौमारभृत्य
  • कायाचिकित्सा
  • शल्य तंत्र
  • शालाक्य तंत्र
  • चरक संहिता

बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस): भर्तीकर्ता

  • सरकारी और प्राइवेट अस्पताल
  • क्लिनिक
  • हेल्थ केयर कम्यूनिटी
  • लाइफ साइंस इंडस्ट्री
  • डिसपेंसरी

बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस): जॉब प्रोफाइल और वेतन

  1. आयुर्वेदिक फिजिशियन - 3 से 5 लाख रुपये
  2. आयुर्वेदिक डॉक्टर - 10 से 14 लाख रुपये
  3. मेडिकल ऑफिसर - 5 से 7 लाख रुपये
  4. सेल्स रिप्रेजेंटेटिव - 2 से 3 लाख रुपये
  5. लेक्चरर - 2 से 3.5 लाख रुपये
  6. फार्मेसिस्ट - 2 से 4 लाख रुपये

अनुभव के आधार पर वेतन

शुरुआती लेवल - 2 से 6 लाख रुपये
सीनियर लेवल - 3 से 9 लाख रुपये

बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस): उच्च शिक्षा

बीएएमएस कोर्स पूरा कर कई छात्र उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं वह छात्र नीचे दिए निम्नलिखित कोर्स कर सकते हैं।

ब्रिज कोर्स - बीएएमएस कोर्स के बाद ब्रिज कोर्स कर सकते हैं। कई बीएएमएस छात्रों द्वारा इस कोर्स को किया जाता है। ब्रिज कार्यक्रम की शुरुआत 2017 में की गई थी। छात्र इस कोर्स को इग्नू से कर सकते हैं।

एमडी - उच्च शिक्षा प्राप्त करने की इच्छा रखने वाले छात्र बैचलर डिग्री के बाद संबंधित विषय में एमडी की डिग्री के लिए आवेदन कर सकते हैं।

कक्षा 12वीं के बाद बीएससी इन रेस्पिरेटरी थेरेपी में करियर कैसे बनाएं

कक्षा 12वीं के बाद बीएससी ऑडियोलॉजी कैसे करें, जानिए कोर्स फीस, कॉलेज और करियर स्कोप के बारे में

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Bachelor of Ayurvedic Medicine and Surgery (BAMS) course is an undergraduate course with a duration of 5 years 6 months duration which the students can pursue after class 12th. BAMS course is accepted all over the world. People have also started taking steps towards Ayurvedic treatment, the main reason behind this is that it does not cause any harm. BAMS course is considered equivalent to MBBS degree, so students who want to pursue their career in Ayurveda medicine can pursue this course.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X