बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश में करियर (Career in BA Communicative English After 12th)

बैचलर ऑफ आर्ट्स- बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश 3 साल का अंजरग्रेजुएट कोर्स है, जिसे सेमेस्टर सिस्टम के तहत 6 सेमेस्टर में बांटा गया है। 6 सेमेस्टर के अनुसार कोर्स के सिलेबस को भी उसी के मुताबिक बांटा गया है। छात्र इस कोर्स में 12वीं के बाद प्रवेश ले सकते हैं। बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश में छात्रों को हिस्ट्री ऑफ इंग्लिश लिटरेचर, रेमेडियल ग्रामर, राइटिंग स्किल्स, कन्वर्सेशन इंग्लिश, ब्रॉडकास्टिंग, एंटरप्रेन्योरशिप डेवलपमेंट और टीचिंग आदि के बारे में विस्तार से पढाया जा सकता है। इस कोर्स को पूरा करने के बाद छात्रों के पास कई स्कोप है। जिसके बारे में उन्हे ज्यादा जानकारी नहीं है। बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश छात्रों के लिए कई करियर ऑप्शन खोलता है। जिसमें आप सालाना 2 से 8 लाख तक कमा सकते हैं। जिसकी जानकारी इस लेख में नीचे दी गई है। बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश कोर्स की फीस की बात करें तो इस कोर्स की फीस 2 हजार से 1 लाख तक जा सकती है। कोर्स की फीस संस्थान और कॉलेज पर आधारित होती है। ये इस बात पर भी निर्भर करता है कि कॉलेज की रैंकिंग पर भी निर्भर करता है। सरकारी संस्थानों के मुकाबले प्राइवेट संस्थानों की फीस अधिक होती है।

 
बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश में करियर (Career in BA Communicative English After 12th)

बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया

किसी भी कोर्स को करने से पहले छात्रों को उस कोर्स की योग्ता (एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया) के बारे में जानना जरूरी है। उसी प्रकार छात्रों को इस कोर्स को करने से पहले इसकी योग्यता के बारे में जानना जरूरी है। ताकि वह उसके अनुसार कोर्स के लिए आवेदन कर सकें। बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश कोर्स की योग्यता कुछ इस प्रकार है-

  • किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से कक्षा 12वीं पास होना आवश्यक है।
  • कक्षा 12वीं में छात्रों के कम से कम 50 प्रतिशत अंक होने अनिवार्य हैं।
  • किसी भी स्ट्रीम से 12वीं पास छात्र इस कोर्स के लिए आवेदन कर सकता हैं।
  • आरक्षित श्रेणी के छात्रों को अंक प्रतिशत में 5 प्रतिशत अंकों की छुट है।

बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश प्रवेश प्रक्रिया

कम्यूनिकेटिव इंग्लिश में बीए करने की इच्छा रखने वाले छात्र कोर्स में दो तरह से प्रवेश ले सकते हैं। मेरिट और प्रवेश परीक्षा के माध्यम से।

कई संस्थान छात्रों को उनके 12वीं कक्षा के अंकों के आधार पर अपने संस्थान में दाखिला देते हैं वहीं कई ऐसे संस्थान है जो प्रवेश परीक्षा के आधार पर छात्रों को संस्थान और कॉलोज में प्रवेश देते हैं। प्रवेश परीक्षा में छात्रों को कॉलेज द्वारा आयोजित परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करना होता है। छात्रों को उनके प्रदर्शन के आधार पर रैंक किया जाता है जिसके आझार पर वह अपनी पसंद का कॉलेज चुन सकते हैं या फीर अलॉट किए हुए कॉलेज में प्रवेश ले सकते हैं।

दोनों ही माध्यम से कॉलेज में प्रवेश लेने के लिए छात्रों को कॉलेज के लिए आवेदन करना है। आवेदन के लिए छात्रों को संस्थान की आदिारिक वेबसाइट पर जा कर आवेदन करना है। आवेदन प्रक्रिया के लिए छात्रों को वेबसाइट पर लॉगिन जनरेट कर के लॉगिन विवरण के माध्यम से लॉगिन कर आपना आवेदन पत्र भरना है। आवेदन पत्र में छात्रे से जुड़ी मांगी गई जानकारी भरनी है। उसके बाद अगले पेज पर छात्रों के मांगे गए दस्तावेजों को अपलोड करना है। और सबमिट कर आवेदन शुल्क भरना है।

बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश टॉप प्रवेश परीक्षा

  1. सीयूईटी
  2. एनपीएटी
  3. टीआईएसएस बीएटी
  4. आईपीयू सीईटी
  5. जेएनयूईई
  6. डीयूईटी
  7. पीयूबीडीईटी

बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश सिलेबस

बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश कोर्स 3 साल का प्रोग्राम है जिसे छात्रों के लिए शिक्षा को आलान बनाने के लिए 6 सेमेस्टर में बांटा गया है। जिसका सिलेबस कुछ इस प्रकार है।

सेमेस्टर 1

  • कोर सब्जेक्ट: इंग्लिश लैंग्वेज एंड लिटरेचर
  • पोयट्री
  • वोकेशनल सब्जेक्ट: कम्युनिकेटिव,इंग्लिश
  • फोनेटिक्स

सेमेस्टर 2

  • कोर सब्जेक्ट: इंग्लिश लैंग्वेज एंड लिटरेचर
  • प्रोस
  • वोकेशनल सब्जेक्ट: कम्युनिकेटिव इंग्लिश
  • अप्लाइड फोनेटिक्स

सेमेस्टर 3

  • कोर सब्जेक्ट: इंग्लिश लैंग्वेज एंड लिटरेचर
  • हिस्ट्री ऑफ इंग्लिश लिटरेचर पार्ट- 1
  • पेपर- 4 ड्रामा
  • वोकेशनल सब्जेक्ट: कम्युनिकेटिव इंग्लिश
  • रेमेडियल ग्रामर
  • राइटिंग स्किल्स
  • एजुकेशनल फिजियोलॉजी एंड एजुकेशनल टेक्नोलॉजी
  • एग्जलिरी सब्जेक्ट : इंग्लिश लैंग्वेज टेक्नॉलिजी

सेमेस्टर 4

 
  • कोर्स सब्जेक्ट : इंग्लिश लैंग्वेज एंड लिटरेचर
  • हिस्ट्री ऑफ इंग्लिश लिटरेचर
  • पेपर- 5 फिक्शन
  • वोकेशनल सब्जेक्ट : कम्युनिकेटिव इंग्लिश
  • कन्वर्सेशन इंग्लिश पार्ट 1
  • कन्वर्सेशन इंग्लिश पार्ट 2
  • एग्जलिरी सब्जेक्ट : इंग्लिश लैंग्वेज टीचिंग
  • प्रैक्टिस टीचिंग

सेमेस्टर 5

  • कोर सब्जेक्ट : इंग्लिश लैंग्वेज एंड लिटरेचर
  • लिटरेरी क्रिटिसिजम पार्ट ए
  • हिस्ट्री ऑफ इंग्लिश लैंग्वेज पार्ट ए
  • वोकेशनल सब्जेक्ट : कम्युनिकेटिव इंग्लिश
  • ब्रॉडकास्टिंग- रेडियो
  • ब्रॉडकास्टिंग

सेमेस्टर 6

  • कोर सब्जेक्ट : इंग्लिश लैंग्वेज एंड लिटरेचर
  • लिटरेरी क्रिटिसिजम पार्ट बी
  • हिस्ट्री ऑफ इंग्लिश लैंग्वेज पार्ट बी
  • वोकेशनल सब्जेक्ट : कम्युनिकेटिव इंग्लिश
  • प्रोजेक्ट एंड ऑन द जॉब ट्रेनिंग
  • एंटरप्रेन्योरशिप डेवलपमेंट

बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश टॉप किताबें और उनके राइटर

कम्युनिकेटिव ग्रामर ऑफ इंग्लिश : जेफ्री लीच

कम्युनिकेटिव इंग्लिश : सुरेश कुमार

स्पोकन एंड कम्युनिकेटिव इंग्लिश : एच एस भाटिया और पीएस भाटिया

कम्युनिकेशन इंग्लिश- ए यूनिवर्सल एक्सरसाइज बुक : रंजन बारटेंडर

कम्युनिकेटिव इंग्लिश 1 : सविता मणिकोंडा

बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश कॉलेज और फीस

लेडी श्री राम कॉलेज फॉर विमेन : 16,390 रुपए
लोयोला कॉलेज : 4,614 रुपए
क्राइस्ट यूनिवर्सिटी : 50,000 रुपए
मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज : 18,719 रुपए
प्रेसीडेंसी विश्वविद्यालय : 2,000 रुपए
जय हिंद कॉलेज : 5,730 रुपए
सेंट जेवियर्स कॉलेज, अहमदाबाद : 8,010 रुपए
सेंट जेवियर्स कॉलेज कोलकाता : 32,600 रुपए
दिल्ली कॉलेज ऑफ आर्ट्स एंड कॉमर्स : 9,095 रुपए
गार्गी कॉलेज : 12,695 रुपए

बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश स्कोप

बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश कोर्स पूरा करने के बाद छात्र चाहें तो नौकरी कर सकते हैं और चाहें तो कोर्स पूरा करने के बाद छात्र आगे उच्च स्तर की पढ़ई के लिए आवेदन कर सकते हैं। छात्र आगे की पढाई के लिए जिन कोर्स के लिए आवेदन कर सकते है वह निम्नलिखित हैं।

एमए इन इंग्लिश
एमफिल
पीएचडी
एमबीए
जर्नलिज्म

बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश जॉब रोल

कंटेंट राइटर
जनरलिस्ट
एडिटर
प्रोफेसर या लेक्चरर
पीआर मैनेजर
ट्रांसलेटर
लैंग्वेज कंसलटेंट
प्रेस रिलीज एक्सपर्ट
ब्लॉगर

टॉप भर्तिकर्ता

टाइम्स ऑफ इंडिया
द हिंदू
डिजिटल मार्केटिंग कंपनीज
एंबेसी
ओरियंट प्रेस
इंडिया टुडे
फेमिना

बीए कम्यूनिकेटिव इंग्लिश जॉब प्रोफाइल और सैलरी

कंटेंट राइटर के तौर पर आप कोर्स पूरा करने के बाद साल का 3 लाख रुपए आराम से कमा सकते हैं।

एडिटर के तौर पर आप 4 लाख रुपए सालाना आराम से कमा सकते हैं।

प्रोफेसर या लेक्चरर के पद पर छात्र साल का 8 लाख रुपए आराम से कमा सकते हैं।

पीआर मैनेजर के पद पर छात्र सालाना 7 लाख रुपए आराम से कमा सकते हैं।

कोर्स पूरा होने के बाद एक ट्रांसलेटर के तौर पर आप 2 से 3 लाख आराम से कमा सकते हैं।

जनरलिस्ट के तौर पर आप 2.50 लाख तक आरम से कर सकते हैं।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
BA Communicative English is a 3 year undergraduate course divided into 6 semester. Student can opt this course after class 12th. BA Communicative English stored many career opportunity for students.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X