कक्षा 12वीं के बाद मरीन इंजीनियरिंग में बीटेक कैसे करें, जानिए कोर्स, कॉलेज और करियर स्कोप बारे में

मरीन इंजीनियरिंग में बीटेक का कोर्स 4 साल का अंडरग्रेजुएट कोर्स है जिसे छात्र कक्षा 12वीं के बाद कर सकते हैं। 4 साल की अवधि वाले इस कोर्स को छात्रों के लिए आसान बनाने के लिए सेमेस्टर सिस्टम के तहत 8 सेमेस्टर में बांटा गया है। इसमें हर सेमेस्टर की अवधि 6 महीने की होगी और सेमेस्टर पूरा होने के बाद सेमेस्टर परीक्षा का आयोजन किया जाता है। मरीन इंजीनियरिंग कोर्स भारत के कई बड़े संस्थानों द्वारा ऑफर किए जाते हैं, जिसकी जानकारी छात्रों के लिए लेख में नीचे दी गई है।

 

बीटेक इन मरीन इंजीनियरिंग में छात्रों को मरीन इंजीनियरिंग के बुनियादी पहलुओं के साथ एडवांस ज्ञान प्रदान किया जाता है। कोर्स में छात्रों को मैटेरियल साइंस, मरीन बॉयलर, फ्लूड मैकेनिक्स, डिजाइन एंड ड्राइंग, मरीन ऑक्सीलिरी, मैनेजमेंट साइंस एंड इकोनॉमिक्स, नवल आर्किटेक्चर, फायर कंट्रोल एंड लाइफ सेविंग, मरीन पावर प्लांट, एडवांस मरीन कंट्रोल और शिप स्ट्रक्चर एंड कंस्ट्रक्शन जैसे कई विषयों की जानकारी दी जाती है। कोर्स में छात्रों को थ्योरी से साथ प्रैक्टिकल नॉलेज भी दी जाती है।

कक्षा 12वीं के बाद मरीन इंजीनियरिंग में बीटेक कैसे करें, जानिए कोर्स, कॉलेज और करियर स्कोप

बीटेक इन मरीन इंजीनियरिंग : योग्यता

 

किसी भी इंजीनियरिंग कोर्स को करने के लिए उस कोर्स की योग्यता जानना आवश्यक है। कोर्स की योग्यता इस प्रकार है -

- कोर्स में प्रवेश के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से साइंस में कक्षा 12वीं पास होना आवश्यक है।
- साइंस में पीसीएम यानी फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथमेटिक्स विषय पढ़ा हुआ होना अनिवार्य है।
- कक्षा 12वीं में छात्रों के कम से कम 60 प्रतिशत अंक प्राप्त करने अनिवार्य है। (अन्य प्रवेश परीक्षा के लिए योग्यता)
- जेईई परीक्षा के माध्यम से प्रवेश लेने के लिए छात्रों को एआईआर के साथ कक्षा 12वीं में भी 75 प्रतिशत अंकों की आवश्यकता है। (एनटीए द्वारा जारी सूचना)
- कोर्स में प्रवेश के लिए आयु सीमा न्यूनतम 17 वर्ष और अधिकतम आयु 23 वर्ष होनी चाहिए।
- डिप्लोमा कोर्स करने वाले उम्मीदवारों को लेटरल एंट्री के माध्यम से भी कोर्स में प्रवेश लेने के लिए आवेदन है।

बीटेक इन मरीन इंजीनियरिंग : प्रवेश परीक्षा

1. जेईई मेंस (JEE Mains)
2. जेईई एडवांस (JEE Advance)
3. डब्ल्यूजेईई (WBJEE)
4. एमएचटी सीईटी (MHT CET)
5. बीआईटीएसएटी (BITSAT)

बीटेक इन मरीन इंजीनियरिंग : कॉलेज और फीस

कोचीन विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, कोच्चि - 1,98,740 से 8,44,000 रुपये
सीवी। रमन ग्लोबल यूनिवर्सिटी, भुवनेश्वर - 1,19,000 से 9,76,000 रुपये
आईके गुजराल पंजाब तकनीकी विश्वविद्यालय, पंजाब - 80,750 से 7,55,000 रुपये
एमएकेएयूटी (MAKAUT), कोलकाता - 49,000 से 6,75,000 रुपये
गणपत विश्वविद्यालय, मेहसाणा - 1,08,000 से 4,28,000 रुपये
भारतीय समुद्री विश्वविद्यालय, चेन्नई - 2,25,000 से 8,48,000 रुपये
समुद्री इंजीनियरिंग और अनुसंधान संस्थान, मुंबई - 2,25,000 से 7,96,000 रुपये
सीएमसी, कोयम्बटूर प्रवेश-आधारित - 11,60,000 से 9,88,000 रुपये
एचआईएमटी कॉलेज, चेन्नई - 3,00,000 से 6,65,000 रुपये

बीटेक इन मरीन इंजीनियरिंग : सिलेबस

सेमेस्टर 1
इंग्लिश
मैथमेटिक्स 1
बेसिक थर्मोडायनेमिक्स
बेसिक इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग
इंजीनियरिंगॉ मैकेनिक्स 1
वर्कशॉप टेक्नोलॉजी
जेमेट्रिकल ड्राइंग
बेसिक इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक लेबोरेटरी
वर्कशॉप प्रैक्टिकल 1
कम्युनिकेशन इंग्लिश लेबोरेटरी
सीमैनशिप, एलिमेंट्री नेवीगेशन एंड सर्वाइवल

सेमेस्टर 2
मैथमेटिक्स 2
अप्लाइड थर्मोडायनेमिक्स 1
स्ट्रेंथ ऑफ मेटेरियल 1
कंप्यूटर साइंस
इंजीनियरिंग मैकेनिकल 2
इंजीनियरिंग एंड मशीन ड्राइंग
अप्लाइड मैकेनिक्स लेबोरेटरी
वर्कशॉप प्रैक्टिकल 2
कंप्यूटर लेबोरेटरी 1

सेमेस्टर 3
कंप्यूटेशनल मैथमेटिक्स
एनालॉग इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन
अप्लाइड थर्मोडायनेमिक्स 2
स्ट्रेंथ ऑफ मेटेरियल 2
मकैनिक ऑफ मशीन 1
इलेक्ट्रिकल मशीन 1
मरीन इंजीनियरिंग ड्राइंग
इलेक्ट्रॉनिक्स लेबोरेटरी
हीट एंड केमिकल लेबोरेटरी
वर्कशॉप प्रैक्टिकल 3

सेमेस्टर 4
मरीन बॉयलर
डिजिटल इलेक्ट्रॉनिक एंड पीएलसी
मकैनिक ऑफ मशीन 2
इलेक्ट्रिकल मैकेनिकल 2
फ्लूड मैकेनिक्स
मरीन हीट इंजीन एंड एयर कंडीशन
अप्लाई मरीन कंट्रोल एंड ऑटोमेशन
हिट एंड बॉयलर केमिकल लेबोरेटरी
कंप्यूटर माइक्रोप्रोसेसर एंड पीएलसी लेबोरेटरी
वर्कशॉप प्रैक्टिकल 4
कंट्रोल इंजीनियरिंग लेबोरेटरी

सेमेस्टर 5
मैटेरियल साइंस
शिप स्ट्रक्चर एंड कंस्ट्रक्शन
मरीन इंटरनल कॉम्बस्शन इंजन 1 फ्लूड मैकेनिक्स
मरीन ऑक्सीलिरी मशीन 1
आर्किटेक्चर नवल 1
आर्किटेक्चर नवल 1
एलिमेंट्री डिजाइन एंड ड्राइंग
मैटेरियल साइंस लेबोरेटरी
वाइब्रेशन लेबोरेटरी एंड फ्लुएड मैकेनिक्स लेबोरेटरी
मरीन पावर प्लांट ऑपरेशन 1

सेमेस्टर 6
शिप फायर प्रीवेंशन एंड कंट्रोल
मरीन इंटरनेशनल कंप्यूटेशन इंजिन 2
मरीन इलेक्ट्रिकल टेक्नोलॉजी
मरीन ऑक्सीलिरी मशीन
नवल आर्किटेक्चर 2
नवल आर्किटेक्चर 2
मैनेजमेंट साइंस एंड इकोनॉमिक्स
मरीन स्टीम इंजीनयरिंग
फायर कंट्रोल एंड लाइफ सेविंग अप्लाइंसेज लेबोरेटरी
मरीन पावर प्लांट ऑपरेशन 2
इलेक्ट्रिकल लेबोरेटरी

सेमेस्टर 8
शिप ऑपरेशन एंड मैनेजमेंट
एडवांस मरीन कंट्रोल इंजीनियरिंग एंड ऑटोमेशन
आईएमओ - मरीन कंट्रोल इंजीनियरिंग एंड कन्वेंसेशन, क्लासिफिकेशन सोसाइटी
एडवांस मरीन टेक्नोलॉजी
इंजीन रूम मैनेजमेंट
इलेक्टिव मरीन मशीनरी एंड सिस्टम डिजाइन
सिम्युलेटर एंड सिमुलेशन लेबोरेटरी
टेक्निकल पेपर एंड प्रोजेक्ट

सेमेस्टर 8
ऑन बोर्ड ट्रेनिंग एंड एसेसमेंट
ट्रेनिंग रिपोर्ट
प्रोजेक्ट ऑन एनवायरनमेंट एंड इट्स प्रोजेक्टस
वाइवा वोस

बीटेक इन मरीन इंजीनियरिंग : स्कोप

मरीन इंजीनियरिंग में कोर्स करने के बाद उम्मीदवार उच्च शिक्षा भी ग्रहण कर सकते है और नौकरी के लिए भी आवेदन कर सकते हैं। जो छात्र नौकरी करने की इच्छा रखते हैं वह नीचे दिए गए पदों पर नौकरी कर सालाना 4 से 7 लाख रुपये आराम से कमा सकते हैं। इसके अलावा जो छात्र उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं वह मेई और एमटेक कोर्स में प्रवेश ले सकते हैं और आगे पीएचडी की शिक्षा प्राप्त कर किसी भी बड़े संस्थान में कार्य कर सकते हैं।

बीटेक इन मरीन इंजीनियरिंग : जॉब प्रोफाइल और सालाना वेतन

1. लॉजिस्टिक एग्जीक्यूटिव - 6.50 लाख रुपये सालाना
2. लॉजिस्टिक मैनेजर - 6.85 लाख रुपये सालाना
3. ट्रांसपोर्ट एंड डिस्ट्रब्यूशन मैनेजर - 5.50 लाख रुपये सालाना
4. वेयरहाउस मैनेजर - 6.25 लाख रुपये सालाना
5. जीएम कमर्शियल - 8.25 लाख रुपये सालाना

बीटेक इन मरीन इंजीनियरिंग : भर्तीकर्ता

1. पोस्टग्रेजुएट डिप्लोमा
2. एमटेक
3. एमबीए
4. एमफिल
5. पीएचडी
6. प्रतियोगिता परीक्षा

यह खबर पढ़ने के लिए धन्यवाद, आप हमसे हमारे टेलीग्राम चैनल पर भी जुड़ सकते हैं।

बीई बायोमेडिकल इंजीनियरिंग कैसे करें, जानिए कोर्स, फीस, टॉप कॉलेज और करियर स्कोप के बारे में

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग में बीटेक कैसे करें, जानिए कोर्स, फीस, टॉप कॉलेज और करियर स्कोप के बारे

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
B.Tech course in Marine Engineering is a 4-year undergraduate course that students can pursue after class 12th. This course with a duration of 4 years is divided into 8 semesters under the semester system to make it easier for the students. The course exposes students to a wide range of subjects such as Material Science, Marine Boiler, Fluid Mechanics, Design and Drawing, Marine Auxiliaries, Management Science and Economics, Naval Architecture, Fire Control and Life Saving, Marine Power Plant, Advanced Marine Control and Ship Structure and Construction. information is given.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X