एग्रीकल्चर डिप्लोमा कोर्स: एमडिशन प्रोसेस, एलिजिबिलिटी, फीस और टॉप 10 कॉलेज

भारत को कृषि प्रधान देश इसलिए कहा जाता है क्योंकि यहां का मुख्य व्यवसाय कृषि है। लेकिन उसके बावजूद छात्र अपना करियर इस क्षेत्र में नहीं बनाना चाहते। चलिए आज के इस आर्टिकल में आपको एक ऐसे कोर्स के बारे में बताते हैं जो कि आपके कृषि व्यवसाय को एक नई ऊर्जा देगा। दरअसल एग्रीकल्चर में डिप्लोमा 10वीं पास कर चुके छात्र कर सकते हैं। यह 2 साल का एक एकेडमिक प्रोग्राम है। जिसमें की प्रत्येक शैक्षणिक वर्ष को आमतौर पर दो सेमेस्टर में विभाजित किया जाता है।

 

एग्रीकल्चर डिप्लोमा
कोर्स का प्रकार: डिप्लोमा
अवधि: 2 वर्ष (4 सेमेस्टर)
पात्रता मानदंड: 10वीं पास (न्यूनतम योग्यता)

 एग्रीकल्चर डिप्लोमा कोर्स: एमडिशन प्रोसेस, एलिजिबिलिटी, फीस और टॉप 10 कॉलेज

जैसा कि नाम से पता चलता है, एग्रीकल्चर डिप्लोमा में ये कोर्स कृषि के अनुशासन पर केंद्रित है। पहले कृषि क्षेत्र में तकनीक पर कम और शारीरिक श्रम पर ज्यादा भरोसा करते थे। लेकिन समय के साथ, तकनीक उन्नत हुई। जिससे कि हमारी कृषि पद्धतियों में भी बदलाव आया। अब हम अपनी कृषि उत्पादकता को बढ़ावा देने के लिए कृषि मशीनरी, उर्वरक, कीटनाशकों और जीव विज्ञान की अवधारणाओं पर निर्भर हैं।
एग्रीकल्चर डिप्लोमा कोर्स उपरोक्त विषयों पर केंद्रित है। यह विभिन्न प्रकार की प्रौद्योगिकी (मशीनरी, रसायन, बीज आदि) से संबंधित है जो हमें कृषि उत्पादकता में सुधार करने में मदद करती है।

 

एग्रीकल्चर डिप्लोमा कोर्स के लिए पात्रता मानदंड

एग्रीकल्चर डिप्लोमा एक ऐसा कोर्स है जिसे 2 से 3 साल की अवधि में पूरा किया जा सकता है, कोर्स की अवधि पाठ्यक्रम के अनुसार बदलती रहती है और यह संस्थान के पाठ्यक्रम पर भी निर्भर करता है। विभिन्न कॉलेजों में कृषि में डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के लिए आवेदन करने के लिए न्यूनतम पात्रता मानदंड की जाँच करें
• उम्मीदवार 10वीं कक्षा में पास होना चाहिए
• 10वीं कक्षा में न्यूनतम 40% होना चाहिए

एग्रीकल्चर डिप्लोमा में एडमिशन लेने के लिए प्रवेश प्रक्रिया

एग्रीकल्चर डिप्लोमा कोर्स कराने के लिए जाने-माने संस्थान योग्यता आधारित प्रवेश प्रक्रिया आयोजित कराते हैं। तो वहीं पॉलिटेक्निक प्रवेश या अन्य प्रासंगिक प्रवेश परीक्षा में छात्रों द्वारा प्राप्त मेरिट अंकों को ध्यान में रखा जाता है। योग्य उम्मीदवारों को संबंधित प्रवेश परीक्षा में प्राप्त योग्यता स्कोर के आधार पर सीटें आवंटित की जाती हैं।
भारत में, एग्रीकल्चर डिप्लोमा कोर्स निजी और सरकारी दोनों संस्थानों द्वारा संचालित किया जाता है। कृषि विश्वविद्यालय, पॉलिटेक्निक संस्थान और अन्य तकनीकी शिक्षा संस्थान भारत में इस शैक्षणिक कार्यक्रम को उपलब्ध करने के लिए जाने जाते हैं।
एग्रीकल्चर डिप्लोमा, योग्यता परीक्षा में उम्मीदवारों के प्रदर्शन के आधार पर किया जाएगा जो कि कक्षा 10वीं की परीक्षा है। विवाहित आधार वर्गों में एक उम्मीदवार द्वारा अर्हक परीक्षा में प्राप्त अंकों को पाठ्यक्रम में प्रवेश देने के लिए माना जाता है, प्रवेश प्रक्रिया में शामिल विभिन्न चरण नीचे दिए गए हैं।

डिप्लोमा इन एग्रीकल्चर कोर्स में प्रवेश प्रक्रिया या तो प्रवेश आधारित है या योग्यता आधारित है
• चूंकि अधिकांश कॉलेज और रोल छात्रों को विवाहित उम्मीदवारों के आधार पर उच्च प्रतिशत में भाग लेने की सलाह दी जाती है, जो कक्षा 10 वीं की परीक्षा में होते हैं।
• विभिन्न पाठ्येतर गतिविधियों जैसे क्लब स्पोर्ट्स और एनजीओ स्वयंसेवा में भागीदारी और प्रमाणन योग्यता की सूची के लिए निर्णायक कारक हो सकते हैं।
• प्रवेश आधारित चयन के मामले में एक अच्छे कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए अच्छा प्रदर्शन करना और प्रवेश परीक्षा में अर्हक अंकों से ऊपर अंक प्राप्त करना बहुत महत्वपूर्ण है।
• नवीनतम परीक्षा पैटर्न से अच्छी तरह वाकिफ होना चाहिए, किसी को परीक्षा में प्रत्येक अनुभाग को दिए गए वेटेज को भी जानना चाहिए और उसके अनुसार तैयारी करनी चाहिए
• एक साल पहले प्रवेश परीक्षा की तैयारी शुरू कर देनी चाहिए क्योंकि इससे सीखने और संशोधन के लिए पर्याप्त समय मिलता है, अपने लक्षित संस्थान को ध्यान में रखें।

एग्रीकल्चर डिप्लोमा के लिए प्रवेश परीक्षा

केवल कुछ चयनित कॉलेज हैं जो कृषि पाठ्यक्रम में डिप्लोमा में प्रवेश के लिए प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं, परीक्षा में ज्यादातर 2 से 3 घंटे की अवधि होती है, जिसके दौरान छात्र को वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्नों का प्रयास करने की आवश्यकता होती है, कृषि परीक्षा विवरण में डिप्लोमा जारी किया जाता है। कॉलेज में हर साल कुछ प्रवेश परीक्षाओं का उल्लेख कृषि में डिप्लोमा में प्रवेश के लिए किया जाता है
• ICAR AIEEEA
• BCECE
• JCECE
• KCET
• BVP CET
• OUAT
• TS POLYCET
• AP POLYCET

कैरियर की संभावनाएं और नौकरी के अवसर

डिप्लोमा इन एग्रीकल्चर कोर्स करने के बाद उम्मीदवारों के पास निजी के साथ-साथ सरकारी क्षेत्र की नौकरियों तक पहुंच है। यह योग्यता इन दोनों क्षेत्रों में प्रवेश स्तर की नौकरियों को सुरक्षित करने के लिए पर्याप्त है। जैसे कि
• बैंक
• फुड प्रोडकशन फर्
• सरकारी कृषि बोर्ड
• निजी उर्वरक निर्माण फर्म
• सरकारी उर्वरक निर्माण फर्म
• कृषि मशीनरी निर्माण फर्म
• प्लांटेशन

भारत में एग्रीकल्चर डिप्लोमा के लिए टॉप 10 कॉलेज सूची

कॉलेज का नामफीस
तमिलनाडु कृषि विश्वविद्यालय, कोयंबटूर21,100
पंजाब कृषि विश्वविद्यालय, लुधियाना53,570
आनंद कृषि विश्वविद्यालय, आनंदी2,020
गांधीग्राम ग्रामीण संस्थान, डिंडीगुल22,720
आचार्य एनजी रंगा कृषि विश्वविद्यालय, हैदराबाद
7,500
केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय, इंफाल22,000
इग्नू दिल्ली- इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय
8,000
बीएचयू वाराणसी- बनारस हिंदू विश्वविद्यालय20,000
अन्नामलाई विश्वविद्यालय, अन्नामलाई नगर70,000
ओपीजेएस विश्वविद्यालय, राजगढ़22,000
स्वामी विवेकानंद विश्वविद्यालय, सागर20,000
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
India is said to be an agricultural country. Agriculture is considered as the main occupation here but in spite of that the students do not want to make their career in this field. In today's article, we are going to tell you about a course that will give a new energy to your agriculture business. Actually, students who have passed 10th Diploma in Agriculture can do it. It is an academic program of 2 years duration. Each academic year is usually divided into two semesters.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X