NEP 2022: राष्ट्रीय शिक्षा नीति के कार्यान्वयन पर पीएम मोदी ने कही ये बड़ी बातें

NEP 2022: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज 7 जुलाई 2022 को वाराणसी में राष्ट्रीय शिक्षा नीति के कार्यान्वयन पर अखिल भारतीय शिक्षा समागम का उद्घाटन किया। उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और राज्य मंत्री समेत की अधिकारी उपस्तिथ रहे। सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि 'अमृत काल' के वादों को साकार करने में हमारी शिक्षा प्रणाली और युवा पीढ़ी का एक बड़ा हिस्सा है। उन्होंने महामना मदन मोहन मालवीय को नमन करते हुए समागम के लिए शुभकामनाएं दीं। इससे पहले दिन में प्रधानमंत्री ने एलटी कॉलेज में अक्षय पात्र मिड-डे मील किचन का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि जिन छात्रों के साथ उन्होंने बातचीत की उनकी उच्च स्तर की प्रतिभा उस प्रतिभा का दोहन करने के लिए आवश्यक प्रयास का संकेत है।

 
NEP 2022: राष्ट्रीय शिक्षा नीति के कार्यान्वयन पर पीएम मोदी ने कही ये बड़ी बातें

प्रधानमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति का मूल आधार शिक्षा को संकीर्ण सोच से बाहर निकालना और इसे 21वीं सदी के आधुनिक विचारों से जोड़ना है। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में कभी भी बुद्धि और प्रतिभा की कमी नहीं थी, हालांकि, अंग्रेजों द्वारा बनाई गई शिक्षा प्रणाली कभी भी भारतीय लोकाचार का हिस्सा नहीं थी। प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा कि हमें न केवल डिग्री धारक युवाओं को तैयार करना चाहिए, बल्कि देश को अपनी शिक्षा प्रणाली देनी चाहिए, क्योंकि देश को आगे बढ़ने के लिए जो भी मानव संसाधन की आवश्यकता है।

पीएम मोदी ने कहा कि हमारे शिक्षकों और शिक्षण संस्थानों को इस संकल्प का नेतृत्व करना है। एक नए भारत के निर्माण के लिए प्रधानमंत्री ने कहा कि एक नई प्रणाली और आधुनिक प्रक्रियाएं महत्वपूर्ण हैं। कोरोना की बड़ी महामारी से हम न सिर्फ इतनी तेजी से उबरे, बल्कि आज भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। आज हम दुनिया के तीसरे सबसे बड़े स्टार्टअप इकोसिस्टम हैं। अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी जैसे क्षेत्रों में जहां पहले केवल सरकार ही सब कुछ करती थी, अब खिलाड़ियों के माध्यम से युवाओं के लिए एक नई दुनिया बनाई जा रही है।

 

पीएम मोदी ने कहा कि जो क्षेत्र पहले महिलाओं के लिए बंद हुआ करते थे, वे अब अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर रहे हैं। बच्चों को उनकी प्रतिभा और बच्चों की पसंद के अनुसार कुशल बनाने पर पूरा ध्यान दिया गया है। उन्होंने कहा कि हमारे युवा कुशल, आत्मविश्वासी, व्यावहारिक और गणनात्मक हों, शिक्षा नीति इसके लिए जमीन तैयार कर रही है। प्रधानमंत्री ने एक नई विचार प्रक्रिया के साथ भविष्य के लिए काम करने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि बच्चे आज बहुत हाई लेवल पर अपनी प्रतिभा को प्रदर्शित कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने एनईपी की तैयारी में किए गए प्रयासों की सराहना की, हालांकि, उन्होंने जोर दिया कि नीति तैयार करने के बाद गति को कम नहीं किया गया था। नीति के कार्यान्वयन पर लगातार चर्चा और काम होता रहा है। नीति के कार्यान्वयन के बारे में बात करने के लिए प्रधान मंत्री ने व्यक्तिगत रूप से कई सेमिनारों और कार्यक्रमों में भाग लिया। इसका परिणाम यह हुआ है कि देश के विकास में काउंटी के युवा सक्रिय भागीदार बन रहे हैं। प्रधानमंत्री ने देश में शिक्षा के बुनियादी ढांचे में बड़े बदलाव की भी बात की। देश में कई नए कॉलेज, विश्वविद्यालय, आईआईटी और आईआईएम खुल रहे हैं।

उन्होंने बताया कि 2014 के बाद मेडिकल कॉलेजों की संख्या में 55 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। विश्वविद्यालयों के लिए सामान्य प्रवेश परीक्षा विश्वविद्यालय प्रवेश में आसानी और समानता लाएगी। राष्ट्रीय शिक्षा नीति अब मातृभाषा में पढ़ाई का रास्ता खोल रही है। इसी क्रम में संस्कृत जैसी प्राचीन भारतीय भाषाओं को भी आगे बढ़ाया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने विश्वास व्यक्त किया कि भारत वैश्विक शिक्षा के एक बड़े केंद्र के रूप में उभर सकता है। उन्होंने कहा कि भारतीय उच्च शिक्षा को अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप तैयार करने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। संस्थानों के अंतरराष्ट्रीय मामलों के लिए 180 विश्वविद्यालयों में विशेष कार्यालय स्थापित किए गए हैं।

प्रधानमंत्री ने व्यावहारिक अनुभव और फील्डवर्क के महत्व पर जोर दिया और 'लैब टू लैंड' के दृष्टिकोण के लिए कहा। उन्होंने शिक्षाविदों से सत्यापित परीक्षण के साथ अपने अनुभव को मान्य करने के लिए कहा। उन्होंने भारत के जनसांख्यिकीय लाभांश पर शोध करने और इसका सर्वोत्तम उपयोग करने के तरीके खोजने और दुनिया के वृद्ध समाजों के लिए समाधान खोजने के लिए भी कहा। पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति ने हमें असंख्य संभावनाओं को साकार करने का एक साधन दिया है जो पहले उपलब्ध नहीं थी। हमें इसका पूरा उपयोग करने की आवश्यकता है।

बता दें कि अखिल भारतीय शिक्षा समागम शिक्षा मंत्रालय द्वारा 7 से 9 जुलाई तक आयोजन किया जा रहा है। यह प्रख्यात शिक्षाविदों, नीति निर्माताओं और अकादमिक नेताओं को अपने अनुभवों को साझा करने और राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) 2020 के प्रभावी कार्यान्वयन के रोडमैप पर चर्चा करने के लिए एक मंच प्रदान करेगा। यह कार्यक्रम 300 से अधिक की क्षमता निर्माण के हिस्से के रूप में आयोजित किया जा रहा है। पूरे देश से विश्वविद्यालयों के शैक्षणिक, प्रशासनिक और संस्थागत नेता इसमें शामिल हो रहे हैं।

इस कार्यक्रम में विभिन्न हितधारक अपने-अपने संस्थानों में एनईपी के कार्यान्वयन की प्रगति प्रस्तुत करेंगे और उल्लेखनीय कार्यान्वयन रणनीतियों, सर्वोत्तम प्रथाओं और सफलता की कहानियों को भी साझा करेंगे। तीन दिवसीय शिक्षा समागम के दौरान, एनईपी 2020 के तहत उच्च शिक्षा के लिए पहचाने गए नौ विषयों पर पैनल चर्चा आयोजित की जाएगी।

Top MBA Colleges in India 2022 भारत के टॉप एमबीए कॉलेज की लिस्ट

Top Law Colleges in India 2022 भारत के टॉप लॉ कॉलेज की लिस्ट

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
NEP 2022: Prime Minister Narendra Modi inaugurated the Akhil Bharatiya Shiksha Samagam on the implementation of the National Education Policy in Varanasi today, July 7, 2022. Officials including Uttar Pradesh Governor Anandiben Patel, Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath, Union Minister Dharmendra Pradhan and Minister of State were present. PM Modi said that we should not only prepare degree holder youth, but also give our education system to the country, because whatever human resource is needed for the country to move forward.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X