NASSCOM Technology Leadership Forum 2021: पीएम मोदी ने टेक्नोलॉजी और स्किल डवलपमेंट पर कही ये बड़ी बातें

By Careerindia Hindi Desk

NASSCOM Technology Leadership Forum 2021: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज नैसकॉम टेक्नोलॉजी एंड लीडरशिप फोरम को संबोधित किया। पीएम मोदी ने अपने भाषण में कहा कि डिजिटल इंडिया की चर्चा पूरे विश्व में की जा रही है। यूपीआई के द्वारा ऑनलाइन पेमेंट की तारीफ वर्ल्ड बैंक भी कर रहा है। भारत डिजिटली स्ट्रोंग हो रहा है। अब हम ज्यादा से ज्यादा मेड इन इंडिया की तरफ बढ़ रहे हैं। गोबल टेक्नोलॉजी बनने के लिए हम संकल्पित हैं।

NASSCOM Technology Leadership Forum 2021: पीएम मोदी ने टेक्नोलॉजी स्किल डवलपमेंट पर कही ये बड़ी बात

 

एम मोदी के भाषण की बड़ी बातें

  • एक समय था जब हम चेचक के टीके के लिए दूसरे देशों पर निर्भर थे। आज, हम अन्य देशों को COVID से लड़ने के लिए 'मेड इन इंडिया' टीके उपलब्ध करा रहे हैं। जब चिप्स नीचे थे, तो भारत के आईटी उद्योग के प्रमुख ने चीजों को चालू रखा। पिछले साल के आंकड़े दुनिया को हैरान कर सकते हैं, लेकिन भारत आपकी क्षमता को जानकर हैरान नहीं है। जब हर क्षेत्र महामारी से बुरी तरह प्रभावित था, तो आपने 2% की वृद्धि दर्ज की।
  • अभी एक ऐसा समय जब दुनिया भारत की तरफ नई उम्मीद और भरोसे के साथ देख रही है। हमारे यहां कहा गया है- न दैन्यं न पलायनम्। यानी चुनौती कैसी भी हो, हमें खुद को कमजोर नहीं समझना चाहिए और न चुनौती से पलायन करना चाहिए। कोरोना के दौरान भारत के ज्ञान, विज्ञान ने न सिर्फ खुद को साबित किया है, बल्कि खुद को इवोल्व किया है।
  • नया भारत, हर भारतवासी, प्रगति के लिए अधीर है। हमारी सरकार नए भारत के युवाओं की इस भावना को समझती है। 130 करोड़ से अधिक भारतवासियों की आकांक्षाएं हमें तेजी से आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती हैं। सभी डेटा और संकेतक बताते हैं कि आईटी उद्योग की वृद्धि की गति नई ऊंचाई को निर्धारित करने के लिए निर्धारित है।
  • न्यू इंडिया में हर भारतीय विकास के लिए अधीर है। हमारी सरकार समझती है कि हमारे युवा इसके बारे में कैसा महसूस करते हैं। 130 करोड़ भारतीयों की आकांक्षाएं हमें तेजी से आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती हैं। हमारी सरकार ये भलीभांति जानती है कि बंधनों में भविष्य की लीडरशिप विकसित नहीं हो सकती। इसलिए सरकार द्वारा Tech Industry को अनावश्यक regulations से, बंधनों से बाहर निकालने का प्रयास किया जा रहा है।
  • हमारी सरकार की नीतियों और फैसलों ने यह साबित कर दिया है कि हमने प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग के लिए एक नया दृष्टिकोण अपनाया है। हमारी सरकार की नीतियों और फैसलों ने यह साबित कर दिया है कि हमने प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग के लिए एक नया दृष्टिकोण अपनाया है। एक प्रमुख कदम में, मानचित्रण और भू-स्थानिक डेटा के बारे में नीतियों को उद्योग के लिए उदार बनाया गया है। यह कदम हमारे टेक स्टार्ट-अप इको-सिस्टम और आत्मानिभर भारत के मिशन को सशक्त करेगा।
  • हमारे स्टार्ट-अप और युवा उद्यमियों को दुनिया भर में पैदा होने वाले अवसरों का उपयोग करने की सभी स्वतंत्रता होनी चाहिए। इसे ध्यान में रखते हुए, हमने ये निर्णय लिए हैं। सरकार को भारत के नागरिकों, स्टार्ट-अप्स और इनोवेटर्स पर पूरा भरोसा है। इस विश्वास के साथ, हम स्व-प्रमाणीकरण को बढ़ावा दे रहे हैं। सरकार को देश के नागरिकों पर, स्टार्ट्अप पर, इनोवेटर्स पर पूरा भरोसा है।
  • इसी भरोसे के साथ सेल्फ सर्टिफिकेशन को प्रोत्साहित किया जा रहा है। बीते 6 वर्षों में आईटी इंटस्ट्री ने जो समाधान तैयार किए हैं, उन्हें हमने गवर्नेंस का अहम हिस्सा बनाया है। पिछले छह वर्षों में, आईटी उद्योग द्वारा निर्मित उत्पाद और समाधान एक शासन का हिस्सा बन गए हैं। खासकर, डिजिटल इंडिया मिशन में। तकनीक ने देश में नियमित नागरिक को सशक्त बनाया है और उसे सरकार के साथ जोड़ा है। हमने डेटा का लोकतांत्रिककरण किया है और अंतिम-मील सेवा वितरण भी प्रभावी रहा है।
  • पारदर्शिता गुड गवर्नेंस की सबसे अहम शर्त होती है। यही बदलाव अब देश की शासन व्यवस्था पर हो रहा है। यही कारण कि हर सर्वे में भारत सरकार पर जनता का भरोसा मजबूत से मजबूत होता जा रहा है। हमारे इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़े प्रोजेक्ट्स हों या गरीबों के घर, हर प्रोजेक्ट्स की Geo Tagging की जा रही है, ताकि वो समय पर पूरे किए जा सकें। यहां तक कि आज गांवों के घरों की मैपिंग ड्रोन से की जा रही है, टैक्स से जुड़े मामलों में भी ह्यूमेन इंटरफेस को कम किया जा रहा है।
  • पिछले तीन-चार वर्षों में, भारत एक भारी नकदी पर निर्भर समाज से कम नकदी वाले समाज में बदल गया है। डिजिटल लेनदेन जितना अधिक होगा, काला धन उतना ही कम होगा। आज भारत की तकनीक विश्व स्तर पर जिस छवि को देख रही है, उसे देखते हुए देश आप पर अपनी उम्मीदें जगाता है। बहुत सारी आकांक्षाएँ आप पर सवार होती हैं। आपने सुनिश्चित किया है कि हमारी तकनीक यथासंभव स्वदेशी हो जाए। आपके समाधान, भी, अब एक मेक फॉर इंडिया चिह्न होना चाहिए।
  • सोचिए, आप कैसे विश्वस्तरीय उत्पाद बना सकते हैं जो वैश्विक बेंचमार्क को उत्कृष्टता पर स्थापित करेंगे। इन लक्ष्यों पर कोई समझौता नहीं हो सकता। उनके बिना, हम एक अनुयायी भी होंगे और वैश्विक नेता नहीं। हमें प्रौद्योगिकी और एआई के साथ कृषि और स्वास्थ्य और कल्याण क्षेत्रों में मदद करनी चाहिए। टेक उद्योग को भी शिक्षा और कौशल विकास के संबंध में जनता से जुड़े समाधान प्रदान करने की आवश्यकता है।
  • अटल टिंकरिंग लैब्स से लेकर अटल इंक्यूबेशन सेंटर्स तक, भारत आज स्कूलों और कॉलेजों में प्रौद्योगिकी की संस्कृति का निर्माण कर रहा है। आत्मनिर्भर भारत के बड़े सेंटर आज देश के टियर-2, टियर-3 शहर बनते जा रहे हैं। यही शहर आज आईटी बेस्ड तकनीक की डिमांड और ग्रोथ के बड़े सेंटर बनते जा रही हैं। देश के इन छोटे शहरों के युवा अद्भुत इनोवेटर के रूप में सामने आ रहे हैं। सरकार का फोकस भी इन छोटे शहरों में बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण पर है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
NASSCOM Technology Leadership Forum 2021: Prime Minister Narendra Modi addressed the NASSCOM Technology and Leadership Forum today. PM Modi said in his speech that Digital India is being discussed all over the world. The World Bank is also praising online payments through UPI. India is going strong digitally. Now we are moving more and more towards Made in India. We are determined to become Gobal Technology.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X