Coronavirus India: कार्यालयों में कोरोनावायरस संक्रमित पाए जाने पर सील नहीं होगा ऑफिस

By Careerindia Hindi Desk

नई दिल्ली: भारत में कोरोनावायरस महामारी के बीच लॉकडाउन के बाद फिर से खुलने वाले कार्यालयों में यदि किसी कोविड-19 मामले की पुष्टि होती है तो, ऑफिस को पूरी तरह सील नहीं किया जाएगा। केंद्र सरकार ने यह फैसला प्रोटोकॉल के साथ आर्थिक गतिविधियों को फिर से शुरू करने के लिए लिया है। सरकार के इस फैसले के बाद तमाम भारत की आर्थिक व्यवस्था को मजबूती मिलेगी। देशभर लॉकडाउन के बाद सभी कार्यालय बंद किए जा चुके हैं, यदि 3 मई के बाद लॉकडाउन खुलता है तो कम्पनियों के लिए यह रहत भरी खबर होगी।

Coronavirus India: कार्यालयों में कोरोनावायरस संक्रमित पाए जाने पर सील नहीं होगा ऑफिस

 

इकनोमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक, अधिकारियों ने कहा कि प्रोटोकॉल के साथ परिचित अधिकारियों को भारत में अधिक आर्थिक गतिविधियों को फिर से शुरू करने के लिए कहा गया है। कार्यस्थल पर यदि कोई कोरोनावायरस संक्रमित पाया जाता है तो, कार्यालय की इमारत को सील नहीं किया जाएगा और ना ही उसे एक नियंत्रण क्षेत्र घोषित नहीं किया जाएगा। इसके बजाय, अधिकारी स्थानीय अधिकारियों की सलाह के आधार पर कोरोनावायरस कोविड19 पॉजिटिव व्यक्ति के संपर्कों के क्षेत्र को सैनिटाइज किया जाएगा। एक अन्य अधिकारी ने कहा कि जिलाधिकारी स्वास्थ्य विशेषज्ञों की सलाह के अनुसार काम करेंगे। लेकिन इमारत को तीन महीने के लिए सील करने के कोई निर्देश नहीं हैं।

पूल परीक्षण प्रस्तावित

यह हालिया पत्र में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला की सलाह को ध्यान में रखते हुए है, जिसमें उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देश "किसी भी निर्माण और वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों के प्रबंधन को परेशान करने के लिए उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद अब पूल परीक्षण जैसे रोकथाम और शमन उपायों पर विचार कर रहे हैं।

 

पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया (PHFI) के अध्यक्ष के श्रीनाथ रेड्डी ने ईटी को बताया कि अब जब हम अधिक एंटीजन किट की उपलब्धता देख रहे हैं, तो हम पूल परीक्षण करने में सक्षम हो सकते हैं। यह तय करने में सक्षम होगा कि भवन के किन हिस्सों, कार्यालय परिसर या आवासीय परिसर को सील करने की आवश्यकता है और जहां अन्य लोगों को दिखाया गया है वह कार्य करना जारी रख सकता है।

एक अधिकारी ने कहा कि स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय में कोविड -19 पर तकनीकी समिति ने सुझाव दिया है कि एक संक्रमित कार्यस्थल को भी लंबे समय तक सील करने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन इसके बजाय इसे 12 घंटों के बाद सैनिटाइज कर और इस्तेमाल किया जा सकता है।

नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के निदेशक सुजीत कुमार सिंह ने कहा कि तब्लीगी जमात मामले में भी, पूरे क्षेत्र को सैनिटाइज कर दिया गया और 48 घंटे के लिए सुरक्षित स्थान पर क्वारंटीन कर दिया गया। यह परिसर को साफ करने और उपयोग के लिए 12 घंटे बाद इसे खोलने के लिए एक नया मानदंड हो सकता है।

नियोक्ताओं के लिए सलाहकार

नियोक्ता को किसी भी समय कर्मचारी के साथ काम करने और सामाजिक दूरी, स्वच्छता और स्वच्छता सुनिश्चित करने की सलाह दी गई है। यदि कोई कर्मचारी अस्वस्थ महसूस कर रहा है, तो उसे तुरंत कार्यस्थल छोड़ देना चाहिए और बाकी अवधि के लिए अपने रिपोर्टिंग अधिकारी को सूचित करना चाहिए। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) में कहा गया है कि जो कर्मचारी अधिक उम्र और गर्भवती महिलाओं को फ्रंट लाइन कार्य में नहीं आना चाहिए। सरकार का आरोग्य सेतु ऐप भरेसोमंद है, या ऐप संपर्क ट्रेसिंग में मदद करेगा और केवल वे जो निकट संपर्क में हैं उन्हें स्व-संगरोध के लिए कहा जा सकता है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Coronavirus India: If a lockdown opens on 3 May amid a coronavirus epidemic in India, if a Kovid-19 case is confirmed in the reopened offices, the office will not be fully sealed. The central government has taken this decision to resume economic activities with protocol. After this decision of the government, all India's economic system will get strengthened.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X