विश्व दूरसंचार एंव सूचना समाज दिवस 2022 थीम और महत्व

विश्व दूरसंचार एंव सूचना समाज दिवस हर साल 17 मई को एक नई थीम के साथ विश्वभर में मनाया जाता है। इसका मुख्य उद्देश संचार के महत्व को लेकर जागरुकता बढ़ाना है. खासकर आज के समय में जहां पूरा विश्व कोरोना महामारी से जूझ रहा है। इस महामारी से लोगों ने दुनिया में दूरसंचार का महत्व और अच्छी तरहा से समझा है।

 

जब पुरी दुनिया घर पर बंद होने को मजबूर हुई तो लोग आपस में अपने परिवार और प्रियजनों से दूरसंचार के माध्यम से जुड़े रहे, साथ ही अपने घर से ही दफ्तर के काम भी करे गए. इस वर्ष विश्व दूरसंचार एंव सूचना समाज दिवस (2022) की थीम "वृद्ध व्यक्तियों और स्वस्थ उम्र बढ़ाने के लिए डिजिटल तकनीक" रखी गई है। देखा जाए तो, बिना दूरसंचार के संसार की कल्पना करना भी कठिन होगा।

विश्व दूरसंचार एंव सूचना समाज दिवस 2022 थीम और महत्व

विश्व दूरसंचार और सूचना समाज दिवस का इतिहास

17 मई 1969 से हर वर्ष विश्व दूरसंचार दिवस मनाया जाता है। इसे आईटीयू (ITU- International Telecommunication and Union) की स्थापना दिवस और 1865 में पेरिस में पहले अंतर्राष्ट्रीय टेलीग्राफ कन्वेंशन पर हुए हस्ताक्षर के दिन पर मनाने का फैसला लिया गया था. इसके साथ ही 1973 में मैलेगा-टोरेमोलिनोस में प्लेनिपोटेंटरी सम्मेलन द्वरा इसे संकल्प के रूप में स्थापित किया गया।

 

औपाचारिक रूप से इस कार्यक्रम को 1973 में आईटीयू प्लेनिपोटेंटरी सम्मेलन में मैलेगा-टोरेमेंलिनोस, स्पेन में स्थापित किया गया था। इसमें हर वर्ष, एक समाजिक विषय का चयन किया जाता है और फिर विश्व दूरसंचार दिवस को दुनियाभर में मनाया जाता है। दूरसंचार और सूचना प्रोद्योगिकी और विशेष रूप से इंटरनेट के बढ़ते महत्व को ध्यान में रखकर यह माना जाता है कि विषय ऐसा हो जिसे जनता के ध्यान में लाया जा सके। इसी कारण से 2005 में वर्ल्ड समिट ऑन द इंफॉर्मेशन सोसाइटी नें संयुक्त राष्ट्र संघ महासभा से 17 मई को विश्व सूचना समाज दिवस के रूप में घोषित करना का अनुरोध किया।

2005 में हुए सूचना समाज विश्व शिखर स्म्मेंलन नें संयुक्त राष्ट्र महासभा को 17 मई को विश्व सूचना दिवस के रूप में घोषित करने के लिए आईसीटी के महत्व और डब्ल्यूएसआईएस द्वारा उठाए गए सूचना समाज से जुड़े हुए मुद्दों की श्रृंखला पर धयान केंद्रित करने कि बात करती है। महासभा ने मार्च 2006 में एक प्रस्ताव (ए/आरईएस/60/252) अपनाया, जिसके तहत कहा गया कि विश्व सूचना समाज दिवस हर वर्ष 17 मई को मनाया जाएगा।

इसी तरह नवंबर 2006 में तुर्की के अंताल्या में आईटीयू पूर्णाधिकार सम्मेलन ने 17 मई को 'विश्व दूरसंचार' और 'सूचना समाज दिवस' के रूप में दोनों को मनाने का फैसला लिया और इसे "विश्व दूरसंचार और सूचना समाज दिवस" कहा गया. इस अद्यतन संकल्प में 68 राज्य और क्षेत्र सदस्यों को प्रतिवर्ष राष्ट्रिय कार्यक्रम आयोजित करके इस दिन को मनाने के लिए आमंत्रित किया जाता है। इन सभी भागीदारों के साथ परिषद द्वारा चुने गए विषय के सभी पहलुओं पर वाद-विवाद किया जाता है। विषय के अंदर आने वाले सभी मुद्दों पर राष्ट्रीय चर्चा को दर्शाते हुए एक रिपोर्ट बनाई जाती है ताकि आईटीयू और बाकी के सदस्यों पर इसकी प्रतिक्रिया ली जाए।

दूरसंचार क्या है?

वह संचार जो केबल, टेलीग्राफ या प्रसारण के माध्यम से दूर से किया जाता है. अगर दूसरे शब्दों में इसे जाने तो- किसी को संदेश भेजना, संकेत, छवियों, शब्दों, ध्वनियों (फोन कॉल) आदि के रूप में किसी भी तरहा की जानकारी का प्रसारण करना दूरसंचार होता है। इसके बिना किसी भी तरह की सूचना का अदान-प्रदान संभव नहीं हो सकता है।

दूरसंचार से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

जब दूरसंचार की बात हो तो उसके कुछ अन्य तथ्य भी जानने जरूरी है. ऐसे तथ्य जो आपको चकित कर देंगे।

• पहला लिखित संदेश जो नील पापवर्थ ने भेजा था, वो एक उत्सव के बारे में था जिसमें 'मेरी क्रिसमस' लिखा था.
• सबसे पहला वौइस् ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल दिसंबर 1974 में बना।
• मोबाईल फोन का सबसे आम काम समय का देखना है.
• टेलीफोन की तारों को इस आधार पर रैंक किया गया है कि चूहे को वो कितनी स्वादिष्ट लगती हैं; टेलीफोन की तार जितनी स्वादिष्ट होगी, उसके इस्तेमाल की संभावना उतनी ही कम होगी.
• एसएमएस टेक्स संदेश प्राप्त करने वाली नोकिया मोबाईल की टोन वास्तव में एसएमएस के लिए मोर्स कोड है।
• सैन फ्रांसिस्को और न्यूयॉर्क के बीच पहली फोन लाइन को जोड़ने में लगभग एक वर्ष का समय लगा था।
• संयुक्त राज्य के इतिहास में टेलीफोन सबसे अधीक लाभकारी आविष्कार है।

पिछलें सालों विश्व दूरसंचार और सूचना समाज दिवस के लिए तैय की गई थीम

2015- दूरसंचार और आईसीटी: नवाचार के चालक
2016- आईसीटी समाजिक प्रभाव के लिए उद्यमिता
2017- बड़े प्रभाव के लिए बड़ा डेटा
2018- सभी के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के सकारात्मक उपयोग को सक्षम बनाना
2019- मानकीकरण की खाई को पाटना
2020- कनेक्शन 2030: सतत विकास के लक्ष्य के लिए आईसीटी
2021- चुनोतीपूर्ण समय में डिजिटन परिवर्तन में तेजी लाना।
2022 की थीम "वृद्ध व्यक्तियों और स्वस्थ उम्र बढ़ाने के लिए डिजिटल तकनीक"

वौश्विक आबादी का बुढ़ापा 21वीं सदी की परिभाषित जनसंख्यिकिय प्रवृत्ति होगी- यह आश्र्चर्य कि बात है कि वह अब भी उन अवसरों को देखने के लिए संघर्ष कर रहे हैं जो की इस प्रवृति को सामने ला सकते हैं। दूरसंचार प्रौद्योगिकी को स्वस्थ उम्र बढ़ाने में एक आहम भूमिका निभनी है। लेकिन साथ ही लोगों को स्मार्ट शहर बनाने, कार्यस्थन पर उम्र आधारित भेदभाव से मुकाबला करने और वृद्ध व्यक्तियों के वित्तीय समावेश को सुनिश्र्चित करने और दुनिया भर में लाखों देखभाल करने वालों का समर्थन करने में भी मदद करना है।

सोसाईटी डे 2020 का महत्व

महामारी के दौरान हुए लॉकडाउन नें लोग आपस में उतने जुड़े नहीं थे. दूरसंचार लोगों के लिए एक मात्र साधन है जिससे वह अपने परीवार और प्रियजनों से जुड़े रह सकते हैं. विश्व दूरसंचार और सूचना समाज दिवस 2022 का मुख्य उद्देश्य सुरक्षित रूप से लोगों के कनेक्शन के महत्व को प्रदर्शित करना है। संचार इस व्यस्त दुनिया में एक महत्वपूर्ण कारक है, जिससे लोग आपस में असानी से जुड़ पा रहे हैं। आज के समय में दूरसंचार आर्थिक, राजनीतिक और समाजिक कल्याण के लिए अहम भुमिका निभा रहा है, आजकल दूरसंचार व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है और साथ ही कई लोगों द्वारा असानी से पहचाना भी जाता है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
On World Telecommunication and Information Society Day, let's talk about the success of India in the sector of Telecommunication.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X