अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस 26 जनवरी को क्यों मनाया जाता है

हर साल अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस 26 जनवरी को मनाया जाता है। इस दिवस को विश्व सीमा शुल्क संगठन की स्थापना के दिवस को चिन्हित करने के लिए मनाया जाता है। इस दिवस का मुख्य उद्देश्य सीमा शुल्क अधिकारियों के सामने आने वाली चुनौतियों और उनके द्वारा किए जा रहे कामों की स्थिति पर प्रकाश डालना है और प्रशासन में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका को याद करना है। हर देश में इस दिवस को मनाया जाता है और इस दिवस के आयोजन में प्रशंसा कार्यक्रम, कार्यशालाओं, सेमिनार और भाषणों की मेजबानी की जाती है।

 

वैश्विक स्तर पर रहे व्यापार को सुचारू और सुव्यवस्थित रूप में चलाना इन कार्य होता है और इस लिए इस दिवस को मना कर इनके द्वारा किए जा रहे कार्यों के लिए इन्हें सम्मानित किया जाता है। इस साल 40वां अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस मनाया जा रहा है। आपको बता दें कि इस दिवस को हर साल एक विषय (थीम) के साथ मनाया जाता है ठीक उसी तरह इस साल भी इस दिवस के लिए एक विशेष विषय तय किया गया है जो है "अगली पीढ़ी का पोषण: ज्ञान साझा करने की संस्कृति और पेशेवर गौरव और रीति-रिवाज को बढ़ावा देना"। आइए आज इस लेख के माध्यम से आपको अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस के बारे में बताएं।

अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस 26 जनवरी को क्यों मनाया जाता है

विश्व सीमा शुल्क संगठन क्या है?

 

विश्व सीमा शुल्क संगठन या शॉर्ट में कहे जाने वाले डब्ल्यूसीओ की स्थापना आज से 69 वर्ष पहले 1953 में हुई थी। शुरुआत में इस संगठन का नाम सीमा शुल्क सहयोग परिषद हुआ करता था जिसे 1994 में बदला गया और अब इसे विश्व सीमा शुल्क संगठन के नाम से जाना जाता है। ये एक एजेंसी है जो सीमा पार समान के प्रवाह को सुचारु रूप से चलाने का कार्य करती है।

इसके अलावा सीमा शुल्क दुनिया के सामाजिक, आर्थिक और पर्यावरणीय जरूरतों को पूरा करने में सहायता करती है, जो की स्थायी भविष्य के विकास में योगदान देती है। इसके इसी योगदान को देखते हुए और इसको अधिकारियों द्वारा किए जा रहे कार्य को सम्मानित करने के लिए इसके स्थापना के दिन को अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस के रूप में मनाया जाता है। आइए आपको इसती कुछ भूमिकाओं के बारे में बताएं, जो इस प्रकार है-

• कस्टम रिइंफोर्समेंट
• स्पलाई चेन
• वैश्विक स्तर पर होने वाली वैध वाणिज्य (कॉमर्स) के विस्तार को बढ़ावा देना।
• इंटलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स, इलीगल ड्रग इनफोर्समेंट आदि का मुकाबला करना।

विश्व सीमा शुल्क संगठन से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

1. सीमा शुल्क संगठन की स्थापना के बाद ये एकमात्र अंतर्राष्ट्रीय निकाय है जो पूरी तरह से सीमा शुल्क प्रशासन और सीमा नियंत्रण के लिए समर्पित है।
2. इसका मुख्यालय ब्रुसेल्स, बेल्जियम में स्थित है।
3. विश्व सीमा शुल्क संगठन में आज के समय में 182 सदस्य है जिसमें 75 प्रतिशत विकासशील देशों के हैं।
4. विश्व सीमा शुल्क संगठन (WCO) कस्टम प्रक्रियाओं की दक्षत में सुधार करने में मदद करता है। ये संगठन इस विश्वास है कि "जहां सीमाओं का विभाजन होता है, रीति रिवाज जुड़ते हैं" (व्हेयर बॉडर डिवाइड कस्टम्स कनेक्ट)।

इस संगठन का कार्य कस्टम रिइंफोर्समेंट, अंतर्राष्ट्रीय व्यापार की सुविधा, सप्लाई चेन आदि संबंधित मामलों पर काम करना है।

अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस का इतिहास

सीमा शुल्क परिषद की स्थापना 26 जनवरी 1953 में की गई थी। लेकिन आज की तिथि में इस परिषद को अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क संगठन के रूप में जाना जाता है। सीमा शुल्क दिवस (कस्टम डे) की स्थापना 1983 में सीमा शुल्क परिषद द्वारा की गई थी। उसकी साल इस दिवस को सबसे पहले मनाया गया था। सीमा शुल्क परिषद के 30 वर्ष पूरे होने की खुशी में इस दिवस की स्थापना की गई थी।

इस दिवस को मनाने के लिए 26 जनवरी की तारीख को इसलिए चुना गया क्योंकी सीमा शुल्क परिषद की स्थापना उसी दिन हुई थी और उसे चिन्हित करने लिए और उसके अनुसार 2023 में विश्व 40 वां अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस मनाने जा रहा है।

अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस का महत्व
अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस के महत्व की बात करें तो इस दिवस के माध्यम से व्यापार के अनदेखे पहलू, उसमें कार्य करने वाले लोगों, उनकी जीवन शैली और कार्य के दौरान फेस की जाने वाली चुनौतियों को प्रदर्शित किया जाता है ताकि लोगों में सीमा शुल्क और उसके लिए कार्य करने वाले कर्मचारियों की महत्वपूर्ण भूमिका के बारे में बताया जा सकें।

सीमा शुल्क के महत्वपूर्ण होने के कुछ कारण -

• सीम शुल्क एक एजेंसी है जो देशों के बीच माल (गुड्स) के सुव्यवस्थित और सुचारू प्रवाह के लिए जिम्मेदार है।

• सीमा शुल्क निकाय ग्लोबल कॉर्मस में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

• ये दिवस सीमा शुल्क विश्व व्यापात के सुचारू प्रबंधन और इसमें कार्य कर रहे अधिकारियों और एजेंसी के महत्व को प्रदर्शित करने का एक अच्छा अवसर है।

• इस दिवस के माध्यम से डब्ल्यूसीओ के सदस्यों द्वारा किए गए प्रयासों और उपलब्धियों को प्रदर्शित करता है।

• सीमा शुल्क संगठन वर्तमान समय में वैश्विक व्यापार में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है।

अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस थीम
• 2023 - अगली पीढ़ी का पोषण: ज्ञान साझा करने की संस्कृति और पेशेवर गौरव और रीति-रिवाज को बढ़ावा देना
• 2022 - सीमा शुल्क डिजिटल परिवर्तन को बढ़ाना
• 2021-सीमा शुल्क वसूली, नवीकरण और लचीलेपन को बढ़ावा दे रहा है
• 2020- सीमा शुल्क लोगों, समृद्धि और ग्रह के लिए स्थिरता को बढ़ावा दे रहा है

अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस कब मनाया जाता है, जानिए इतिहास और महत्व

CBSE 12वीं गणित परीक्षा में टॉप करने के लिए अपनाएं ये TIPS

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Every year International Customs Day is observed on 26 January. The day is observed to mark the day of establishment of the World Customs Organisation. The main objective of the day is to highlight the challenges faced by Customs officials and the status of the work they do and to remember the important role they play in administration. The day is celebrated in every country and appreciation events, workshops, seminars and speeches are hosted in celebration of this day.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X