श्रीलंका आर्थिक संकट: Sri Lanka Crisis UPSC in Hindi

श्रीलंका में बीते कुछ महीनों से अभूतपूर्व आर्थिक संकट और गहरा गया है। विदेशी मुद्रा भंडार की कमी, कर्ज के बड़े ढेर, मुद्रा का अवमूल्यन, बढ़ती मुद्रास्फीति और गिरती अर्थव्यवस्था ने लोगों को बुनियादी जरूरत की वस्तुओं के लिए संघर्ष करने के लिए मजबूर किया है। बता दें कि श्रीलंका को सन् 1948 के बाद अब आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है। जिसके चलते देश के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा। देश को आर्थिक संकट की ओर ले जाने के लिए अधिकांश जनता का गुस्सा राष्ट्रपति गोतबया राजपक्षे और उनके भाई महिंदा पर निर्देशित किया गया है।

 

महिंदा राजपक्षे के इस्तीफा देने के बाद विपक्षी दल यूनाइटेड नेशनल पार्टी (यूएनपी) के नेता पूर्व प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने देश की कर्ज में डूबी अर्थव्यवस्था को स्थिर करने और राजनीतिक उथल-पुथल को समाप्त करने के लिए 12 मई 2022 को श्रीलंका के 26 वें प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली।

श्रीलंका आर्थिक संकट: Sri Lanka Crisis UPSC in Hindi

श्रीलंका की मुद्रा कौन सी है?

श्रीलंका की मुद्रा श्रीलंकन रुपया है। श्रीलंकाई में पैसे की जगह Cents का उपयोग होता है।

 

श्रीलंका में आर्थिक संकट (Sri Lanka Crisis UPSC in Hindi)

• पिछले कई महीनों से, श्रीलंका में लोगों को आवश्यक वस्तुओं को खरीदने के लिए लंबी लाइनों में इंतजार करना पड़ता है क्योंकि विदेशी मुद्रा संकट के कारण आयातित भोजन, दवाओं और ईंधन की भारी कमी हो गई है। नौकरी छूटना लगभग हर घर में एक आम बात हो गई है। इसके अलावा, कमाई में गिरावट के कारण गरीबी दर में वृद्धि हुई है।

• रूस-यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध के कारण तेल की कीमतों में भारी वृद्धि हुई है, जिस वजह से श्रीलंका के ईंधन भंडार लगभग समाप्त होने को हैं। ईंधन की कमी के कारण पेट्रोल स्टेशनों पर लंबी लाइनें लग गई हैं और डीजल की गंभीर कमी की वजह से कई थर्मल पावर प्लांट बंद कर दिए हैं, जिससे पूरे देश में बिजली की कटौती हो रही है।

• देश में चीजों की कमी इतनी अधिक हो गई है कि लाखों छात्रों की परीक्षाएं कागज और स्याही की कमी के कारण स्थगित करनी पड़ी हैं।

• इस बीच, 1 अप्रैल, 2022 तक के दौरान अमेरिकी डॉलर के मुकाबले श्रीलंकाई रुपये में 33 प्रतिशत की गिरावट आई। क्रॉस-मुद्रा विनिमय दर आंदोलनों को देखते हुए, श्रीलंकाई रुपये में गिरावट आई है। इस अवधि के दौरान भारतीय रुपया 31.6 प्रतिशत, यूरो 31.5 प्रतिशत, पाउंड स्टर्लिंग 31.1 प्रतिशत और जापानी येन 28.7 प्रतिशत बढ़ा।

• वस्तुओं की कीमतों में अचानक वृद्धि ने मुद्रास्फीति को रिकॉर्ड स्तर पर धकेल दिया है। अप्रैल में, देश की मुद्रास्फीति का आंकड़ा लगभग 30 प्रतिशत रहा - मध्यम अवधि में इसके केंद्रीय बैंक के लक्ष्य 4-6 प्रतिशत से काफी ऊपर।

श्रीलंका की आर्थिक तंगी में भारत का योगदान

• पिछले 3 महीनों में, भारत ने श्रीलंका को लगभग 2.5 बिलियन डॉलर की सहायता प्रदान की है, जिसमें ईंधन और भोजन के लिए ऋण सुविधाएं शामिल हैं।

• मार्च से अब तक भारत ने 2,70,000 मीट्रिक टन से अधिक डीजल और पेट्रोल श्रीलंका को वितरित किया है।

• इसके अलावा, हाल ही में विस्तारित $1 बिलियन की ऋण सुविधा के तहत लगभग 40,000 टन चावल की आपूर्ति की गई है।

• 10 अप्रैल को, भारत ने श्रीलंका के लोगों की सहायता के रूप में सब्जियां और दैनिक राशन सामग्री कोलंबो भेजी, जो बढ़ती महंगाई के बीच संघर्ष कर रहे लोगों को भोजन और दवा जैसी आवश्यक वस्तुओं की खरीद के लिए नियमित आधार हैं।

• जबकि सिंहली और तमिल नव वर्ष से पहले, भारत ने श्रीलंका के लोगों को उनके सबसे बड़े त्योहारों में से एक को मनाने में मदद करने के लिए 11,000 मीट्रिक टन चावल का एक शिपमेंट भेजा।

• फरवरी में, भारत सरकार की ओर से ऊर्जा मंत्रालय और सीलोन पेट्रोलियम कॉरपोरेशन के माध्यम से पेट्रोलियम उत्पादों को खरीदने में मदद करने के लिए भारत द्वारा श्रीलंका को 500 अरब डॉलर का ऋण दिया गया था।

• नवंबर 2021 में, भारत ने श्रीलंका को 100 टन नैनो नाइट्रोजन तरल उर्वरक दिए थे क्योंकि उनकी सरकार ने रासायनिक उर्वरकों के आयात को रोक दिया था।

• इसके अलावा, भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने एशियन क्लीयरेंस यूनियन के तहत सेंट्रल बैंक ऑफ श्रीलंका द्वारा 400 मिलियन डॉलर की मुद्रा स्वैप और आस्थगित भुगतान का विस्तार किया है।

श्रीलंका में क्या हुआ (श्रीलंका संकट यूपीएससी)

• मार्च 31: प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति गोतबया राजपक्षे के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए उनके घर पर धावा बोलने की कोशिश की और राष्ट्रपति से इस्तीफे की मांग की।
• अप्रैल 1: देश में आपातकालीन विरोध की स्थिति फैल गई और राष्ट्रपति गोतबया ने श्रीलंका में आपातकाल की स्थिति घोषित कर दी, जिसमें की 36 घंटे के राष्ट्रव्यापी कर्फ्यू में सुरक्षा बलों को संदिग्धों को गिरफ्तार करने और हिरासत में लेने के लिए व्यापक अधिकार दिए गए।
• अप्रैल 3: श्रीलंका के लगभग सभी मंत्रिमंडल ने देर रात की बैठक में इस्तीफा दे दिया, जिससे राष्ट्रपति गोतबया राजपक्षे और उनके भाई महिंदा राजपक्षे (प्रधानमंत्री) अलग-थलग पड़ गए।
• अप्रैल 4: गोतबया राजपक्षे और महिंदा राजपक्षे के नेतृत्व वाले एकता प्रशासन के तहत विपक्ष के साथ सत्ता साझा करने की पेशकश कि गई, लेकिन उन्हें मना कर दिया गया। जिसके बाद केंद्रीय बैंक के गवर्नर ने अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) से बेलआउट मांगने के आह्वान का विरोध किया और अपने इस्तीफे की घोषणा की।
• अप्रैल 5: राष्ट्रपति ने बहुमत खो दिया जिससे कि राजपक्षे की मुश्किलें और गहरी हो गईं क्योंकि वित्त मंत्री अली साबरी ने उनकी नियुक्ति के एक दिन बाद ही इस्तीफा दे दिया।
• अप्रैल 9: राजपक्षे के इस्तीफे की मांग को लेकर हजारों लोगों ने राष्ट्रपति कार्यालय पर सबसे बड़ा सड़क विरोध प्रदर्शन किया।
• अप्रैल 10: श्रीलंका के डॉक्टरों ने सरकार को दवाओं की कमी कि चेतावनी देते हुए कहा कि वो अब महामारी कोरोना से अधिक लोगों की जान बचाने में असमर्थ हो गए है।
• अप्रैल 12: देश ने घोषणा की कि वह अपने 51 बिलियन डॉलर के विदेशी ऋण को नहीं चुका पाएगा। जिसके बाद राष्ट्रपति गोतबया राजपक्षे ने अपने दो भाइयों और एक भतीजे को हटाकर अपने सबसे बड़े भाई महिंदा को प्रधानमंत्री के रूप में रखते हुए, एक नई सरकार का अनावरण किया।
• 9 मई: सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों और सरकार के समर्थकों के बीच झड़प में कई लोगों मारे गए। जिसके बाद तत्कालिन प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने सैनिकों को शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों पर हमला करने के लिए भेजा और अपने पद से इस्तीफा दे दिया। हालांकि प्रदर्शनकारियों ने देश भर में उनके कबीले के कई घरों के साथ-साथ कई राजपक्षे नेताओं के घरों में आग लगा दी। फिर सत्तारूढ़ दल के एक विधायक ने दो सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों को गोली मार दी, एक की हत्या कर दी, और फिर राजधानी के बाहर टकराव के दौरान अपनी जान ले ली। एक अन्य सत्तारूढ़ दल के राजनेता ने द्वीप के दक्षिण में दो प्रदर्शनकारियों की हत्या कर दी। अधिकारियों ने देशव्यापी कर्फ्यू की घोषणा की।
• 11 मई, 2022 - कोलंबो में भारतीय उच्चायोग ने इस द्वीपीय देश में अभूतपूर्व आर्थिक संकट के बीच सरकार द्वारा अपने सैनिकों को श्रीलंका भेजने की खबरों को खारिज कर दिया। श्रीलंका के स्थानीय मीडिया में खबरें आईं कि पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने त्रिंकोमाली में शरण मांगी है जिसके बाद उत्तरपूर्वी हिस्से में स्थित नेवल बेस के बाहर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए थे।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
For the past several months, people in Sri Lanka have been waiting in long lines to buy essential items as there has been a severe shortage of imported food, medicines and fuel due to the foreign exchange crisis.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X