5 नवंबर से जुड़ा भारतीय इतिहास (History of 5th November)

History of 5th November: 1556 में पानीपत की दूसरी लड़ाई लड़ी गई थी। इस बार हुआ युद्ध मुगल सम्राट अकबर और हिंदु राजा हिंदु राजा हेम चंद्र विक्रमादित्या के बीच हुआ था। जनवरी 1556 में हुमीयुं की मृत्यु के बाद अकबर मुगल सम्राज्य का नया शासक बना था। हुमायुं की मृत्यु हेम चंद्र के लिए मुगलों को हराने का एक अवसर बना औक उस अवसर का फायदा उठाने के लिए हेम चंद्र ने बंगाल से एक रैपिड मार्च शरू की और धीरे- धीरे उन्होंने इटावा, भरथना, बिधुना, लखना, कालपी और नारनौल से मुगलों को खदेड़ना शुरू किया। और ऐसे धीरे-धीरे उन्होंने मुगलों को पर आक्रमण करने शुरू किए।

 

तुगलकाबाद के विनाश के बारे में खबर पाने के बाद अकबर जो मुगल सम्राज्य का उत्तराधिकारि थें, संरक्षक बैरम खान के साथ दिल्ली के निकलें। 5 नवंबर 1556 में पानीपत में दोनों सेनाओं का आमना-सामना हुआ और एक ऐतिहासिक युद्ध हुआ। इस युद्ध में अकबर और बैरम खान की जीत हुई। अकबर ने बाद में हेम चंद्र को पकड़ कर उनका सिर काट दिया था।

5 नवंबर से जुड़ा भारतीय इतिहास (History of 5th November)

इस लेख के माध्यम से हम आपको 4 नवंबर को हुई एतिहासिक घटनाओं के साथ ये भी बताया जाएगा की इस दिन किन प्रमुख हस्तियों का जन्म हुआ था और किन हस्तियों की मृत्यु हुई थी। आइए आपको बताएं आज के इतिहास के बारे में।

 

4 नवंबर का इतिहास

1556- अकबर ने अपने पिता हुमायुं के बाद उनके उत्तराधिकारी का पद ग्रहण कर मुगलों के तीसरे शासक बने।

1556- पानीपत की दूसरी लड़ाई 5 नवंबर को हुई थी। ये लड़ाई उत्तर के हिंदु राजा हेम चंद्र विक्रमादित्या और मुगल सम्राट अकबर के बूच हुई थी। इस युद्ध में हिंदु राजा ने हेम चंद्र की हार हुई थी।

1870- चितरंजन दास भारतीय स्वतंत्रत सेनानी, राजनीतिक कार्यकर्ता और एक वकील थें। उन्हें देशबंधु के नाम से भी जाना जाता है। इनका जन्म 5 नंवबर को हुआ था। ये स्वराज पार्टी के फाउंडर और लीडर थें।

1904- भारतीय इतिहासकार, इंडोलॉजिस्य और बहुभाषाविद सोंडेकोप्पा श्रीकांत शास्त्री का जन्म 5 नवंबर को हुआ था। उन्होंने उन्होंने 200 से अधिक लेख, 12 पुस्तकें और कई मोनोग्राफों की समीक्षाएं अंग्रेजी, तेलुगु, कन्नड़ और संस्कृत भाषा में लिथीं है।

1952- भारतीय विद्वान, खाद्य संप्रभुता अधिनक्ता, पर्यावरण कार्यकर्ता और वैश्वीकरण विरोधी लेखिका वंदना शिवा का जन्म 5 नवंबर को हुआ था। उन्होंने अक्सर ही 'अनाज की गांधी' कहा जाता है, ये नाम उन्हें जीएमओ विरोधी आंदोलन में उनकी सक्रिया के लिए मिला था।

1953- भारतीय राजनयिक, राजनीतिज्ञ और लेखक और भारत विदेश सेवा के पूर्व अधिकारी पवन वर्मा जिन्होंने भूटान और साइप्रस में राजदुत के रूप में कार्य किया है। उनका जन्म 5 नवंबर को हुआ था।

1955- भारतीय वरिष्ठ पत्रकार करण थापर जो फिलहाल द वायर मीडिया संस्थान के साथ कार्य कर रहे हैं उनका जन्म 5 नवंबर को हुआ था।

1988- ऋत्विक धनजानी, भारतीय टेलीवजन अभिनेता और डांसर हैं जिन्होंन कई टीवी प्रोग्राम किए हैं और की शो होस्ट भी किए हैं। उनका जन्म 5 नवंबर को हुआ था।

1988- भारतीय क्रिकेटर विराट कोली जो भारतीय टीम बेस्ट बल्लेबाज हैं। जिन्होंने हाल ही में टी-20 में अपने जोरदार प्रदर्श के चलते आईसीसी टी20आई बल्लेबाजी की रैंकिंग में 10वें स्थान पर हैं। विराट कोली का जन्म 5 नवंबर को हुआ था।

1994- 5 नवंबर को अंतरिक्ष जांच यूलिसिस ने सूर्य के पीछे का रास्ता पूरा किया था।

1995- भारतीय मॉडल और अभिनेत्री मेहरीन पीरजादा का जन्म 5 नवंबर को हुआ था। वह मुख्य तौर पर तेलुगु और तमिल फिल्मों में दिखाई देती हैं।

2003- सुब्रता गुहा भारतीय क्रिकेट टीम के मध्यम तेजी ओपनिंग गेंदबाज थें। इन्होंने 1967 से 1969 के दौरान 4 टेस्ट मैच खेले थें। इनकी मृत्यु 5 नवंबर 2003 में हुई थी।

2008- बलदेव राज चोपड़ा या बी. आर. चोपड़ा नया दौर, हमराज, इंसाफ का तराजू और निकाह जैसी कई फिल्मों का निर्देशन किया है। उनकी सबसे अधिक जाने जाने वाली टीवी शो महाभारत है जो आज भी उतना ही पसंद किया जाता है जितना उस दौर में किया जाता था। बी. आर. चोपड़ा फिल्म इंडस्ट्री के एक महान निर्देशक थें। इनकी मृत्यु 5 नवंबर को हुई थी।

2009- भारतीय पत्रकार प्रभाष जोशी की मृत्यु 5 नवंबर 2009 में हुई थी। वह नैतिकता और पारदर्शिता के पक्षधर थें। उन्होंने गांधी के भूदान आंदोनल, डाकुओं के आत्मसमपर्ण और आपातकाल के खिलाफ हुए संघर्षों में भूमिका निभाई थी।

2011- असम के पार्श्व गायक, संगीतकार, फिल्म निर्माता और कवि डॉ भूपेन हजारका की मृत्यु 5 नवंबर को हुई थी।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
The second battle of Panipat was fought in 1556. This time the war took place between the Mughal emperor Akbar and the Hindu king Hem Chandra Vikramaditya. After hearing about the destruction of Tughlaqabad, Akbar, the heir to the Mughal Empire, left for Delhi with the patron Bairam Khan. On 5 November 1556, both the armies came face to face at Panipat and a historic battle took place. Akbar and Bairam Khan won this war. Akbar later captured Hem Chandra and beheaded him.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X