Independence Day 2022: एनजी रंगा के जीवन से जुड़ी 10 बड़ी बातें

गोगिनेनी रंगा नायुकुलु (एनजी रंगा) एक भारतीय स्वतंत्रता सेनानी, शास्त्रीय उदारवादी के साथ-साथ सांसद और किसान नेता थे। वे स्वतंत्र पार्टी के संस्थापक अध्यक्ष और किसान दर्शन के प्रतिपादक थे। किसान आंदोलन में एन जी रंगा को उनके योगदान के लिए उन्हें पद्म विभूषण पुरस्कार दिया गया।

 

आइए आज के इस आर्टिकल में हम एनजी रंगा के जीवन से जुड़ी 10 प्रमुख बातों के बारे में बताते हैं कि उनका जीवन कैसा था, एक स्वतंत्रता सेनानी के रूप में उन्होंने देश के लिए क्या योगदान दिए।

एनजी रंगा के जीवन से जुड़ी 10 बड़ी बातें

एनजी रंगा के जीवन से जुड़ी 10 बड़ी बातें

1. एनजी रंगा का जन्म आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले के निदुब्रोलू गांव में हुआ था। उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा अपने गांव में ही की जिसके बाद वे 1926 में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र की पढ़ाई पढ़ कर आए।
2. भारत लौटने पर, उन्होंने पचैयप्पा कॉलेज, मद्रास (चेन्नई) में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर के रूप में पढ़ाना शुरू किया।
3. एनजी रंगा मद्रास में महात्मा गांधी से मिले और इतने प्रभावित हुए कि वे 1929 में सविनय अवज्ञा आंदोलन में शामिल हो गए। 1930 में केंद्रीय विधानसभा में प्रवेश के साथ वे मुख्यधारा की राजनीति का हिस्सा बन गए। उन्होंने साइमन कमीशन की रिपोर्ट का विरोध किया और पहले गोलमेज सम्मेलन में भाग लिया।
4. ब्रिटिश लेबर पार्टी के राजनीतिक स्कूल की कार्यप्रणाली के आधार पर, उन्होंने किसानों को राजनीतिक रूप से जागरूक नागरिकों में बदलने के लिए आंध्र में इसी तरह के स्कूलों की स्थापना की।
5. एनजी रंगा 1930 में गांधी के स्पष्ट आह्वान से प्रेरित होकर स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल हुए। उन्होंने 1933 में आंध्र के ऐतिहासिक रैयत आंदोलन का नेतृत्व किया। उन्होंने गांधी के साथ अपने विचार-विमर्श के बारे में एक किताब बापू आशीर्वाद लिखी।
6. वेंकटगिरी में जमींदारी उत्पीड़न के खिलाफ किसानों के आंदोलन के समर्थन में उनकी किसान समर्थक वकालत परिलक्षित हुई। उन्होंने कांग्रेस के अन्य सदस्यों के विरोध के बावजूद, गांधी को आंदोलन को समर्थन देने के लिए राजी किया। धीरे-धीरे किसान आंदोलन तेज हो गया और शेष भारत में फैल गया।
7. रंगा ने लगातार इस क्षेत्र के किसानों को संगठित किया और अपनी पत्नी भारती देवी के साथ सत्याग्रह (1940) और भारत छोड़ो आंदोलन (1942) के साथ खुद को जोड़ने के अलावा, उन्होंने किसानों को राष्ट्रीय मुक्ति आंदोलन से जोड़ने में निर्णायक भूमिका निभाई।
8. एनजी रंगा 1946 में एक सदस्य संविधान सभा के रूप में चुने गए और भारत की अनंतिम संसद (1952 में नए संविधान के तहत पहले चुनावों के बाद तक जारी) के सदस्य बने।
9. एनजी रंगा ने 1930 से 1991 तक छह दशकों तक भारतीय संसद में कार्य किया।
10. एनजी रंगा का 9 जून, 1995 को निधन हो गया। जिस पर की तत्कालीन प्रधानमंत्री पी. वी. नरसिम्हा राव ने शोक व्यक्त किया।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Gogineni Ranga Nayukulu (NG Ranga) was an Indian freedom fighter, classical liberal as well as parliamentarian and peasant leader. He was the founding president of the Swatantra Party and an exponent of the Kisan philosophy. NG Ranga was awarded the Padma Vibhushan for his contribution to the farmers' movement.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X