Independence Day 2022: राजस्थान की महिला स्वतंत्रता सेनानियों की सूची

राजस्थान राज्य में कई रियासतें हैं जिन्होंने समाज के विभिन्न वर्गों में स्वतंत्रता की लड़ाई में अपने-अपने तरीके से योगदान दिए हैं। तो चलिए आज के इस आर्टिकल में हम आपको राजस्थान की उन वीर महिलाओं से परिचित कराते हैं जिन्होंने देश की आजादी के लिए स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लिया था।

 

बता दें कि राजस्थान अपने ऐतिहासिक पहाड़ी किलों और महलों के लिए जाना जाता है, यह महलों से संबंधित पर्यटन के लिए सबसे अच्छी जगह के रूप में दावा किया जाता है। उम्मेद भवन पैलेस: यह राजस्थान का सबसे बड़ा रॉयल पैलेस है जो कि दुनिया के भी सबसे बड़े पैलेसों में से एक है।

राजस्थान की महिला स्वतंत्रता सेनानियों की सूची

राजस्थान की महिला स्वतंत्रता सेनानियों की सूची

  • नारायणी देवी वर्मा

माणिक्य लाल वर्मा की पत्नी, नारायणी देवी वर्मा, मेवाड़ की एक स्वतंत्रता सेनानी थीं। वे एक बहादुर योद्धा थी जो सामाजिक अन्याय के खिलाफ लड़ी और दलित वर्गों के अधिकारों के लिए खड़ी हुई। 1942 में, अंग्रेजों ने भारत छोड़ो आंदोलन में उनकी भागीदारी के लिए जेल में डाल दिया था। जिसके बाद जेल से रिहा होने पर 1944 में उन्होंने भीलवाड़ा में महिला आश्रम की स्थापना की थी। नारायणी देवी वर्मा ने 1970 से 1976 के बीच राज्यसभा सदस्य के रूप में भी कार्य किया।

 
  • जानकी देवी बजाज

एक भारतीय स्वतंत्रता कार्यकर्ता और राजस्थान की प्रमुख महिला स्वतंत्रता सेनानियों में से एक, जानकी देवी बजाज ने न केवल उत्पीड़ितों पर होने वाले अत्याचारों के खिलाफ लड़ाई लड़ी, बल्कि महिला सशक्तिकरण के लिए भी अपनी आवाज उठाई। वह सेठ जमना लाल बजाज की पत्नी थीं। साथ ही, गायों के विकास और संरक्षण के लिए काम किया और वे विनोबा भावे के करीबी सहयोगी थी जो प्रशंसित भारतीय दार्शनिक, अहिंसा और मानवाधिकारों के पैरोकार थे। 1932 में, अंग्रेजों ने जानकी देवी को सविनय अवज्ञा आंदोलन में भाग लेने के लिए जेल में डाल दिया गया था। लेकिन उसके बावजूद उन्होंने देश के लिए आजादी की लड़ाई। जिसके लिए उन्हें 1956 में पहली राजस्थानी प्राप्तकर्ता पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया।

  • दुर्गा देवी

दुर्गा देवी एक सामाजिक कार्यकर्ता, स्वतंत्रता सेनानी और शेखावाटी किसान आंदोलन की नायक थी। वे पंडित तड़केश्वर शर्मा की पत्नी थी।

  • फूलन देवी

फूलन देवी (10 अगस्त 1963 - 25 जुलाई 2001), जिन्हें "बैंडिट क्वीन" के नाम से जाना जाता है, एक डाकू थीं, जो बाद में समाजवादी पार्टी की एक महिला अधिकार कार्यकर्ता और राजनेता बन गईं, जिन्होंने संसद सदस्य के रूप में कार्य किया। हालांकि, फूलन देवी एक स्वतंत्रा सेनानी नहीं थी लेकिन फिर भी उन्होंने महिलाओं के अधिकारों के लिए काफी लंबे समय तक संघर्ष किया था। जिसके लिए उनका नाम हमेशा याद किया जाता है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
There are many princely states in the state of Rajasthan which have contributed in their own way to the freedom struggle among different sections of the society. So in today's article, we introduce you to the brave women of Rajasthan who participated in the freedom movement for the independence of the country.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X