Independence Day 2022: आंध्र प्रदेश की महिला स्वतंत्रता सेनानियों की सूची

भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में महिलाओं ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। देश के किसी भी अन्य हिस्से की तरह आंध्र प्रदेश ने भी स्वतंत्रता संग्राम में अहम योगदान दिया। जहां पुरुषों, महिलाओं और बच्चों ने एक ही उद्देश्य के साथ अंग्रेजों से लड़ने की पूरी कोशिश की और वो था देश की आजादी।

 

आंध्र में किए गए स्वतंत्रता संग्राम में, महिलाओं ने असहयोग आंदोलन, सविनय अवज्ञा आंदोलन और भारत छोड़ो आंदोलन में बड़ी संख्या में भाग लिया। विशेष रूप से खादर के निर्माण में, आंध्र में महिलाओं ने पुरुषों की तुलना में अधिक काम किया। तो चलिए आज के इस आर्टिकल में हम आपको आंध्र प्रदेएश की उन महिलाओं से परिचित कराते हैं जो कि जरूरत पड़ने पर देश की आजादी के लिए अपना सब कुछ क्रुबान करने को तैयार थी।

आंध्र प्रदेश की महिला स्वतंत्रता सेनानियों की सूची

आंध्र प्रदेश की महिला स्वतंत्रता सेनानियों की सूची

 

• दुर्गाबाई देशमुख
दुर्गाबाई देशमुख जिन्हें लेडी देशमुख के नाम से भी जाना जाता है। वे एक भारतीय स्वतंत्रता सेनानी, वकील, सामाजिक कार्यकर्ता और राजनीतिज्ञ थी। दुर्गाबाई देशमुख भारत की संविधान सभा और भारत के योजना आयोग की सदस्य थी।

दुर्गाबाई का जन्म आंध्र प्रदेश में स्थित राजमुंदरी में ब्राह्मण समुदाय से संबंधित गुम्मीदिथला परिवार में हुआ था। दुर्गाबाई की शादी 8 साल की उम्र में उनके चचेरे भाई सुब्बा राव से की गई थी। लेकिन बड़ी होने के बाद दुर्गाबाई ने अपने पति को छोड़ने और अपनी शिक्षा को बढ़ाने का फैसला लिया। जिस फैसले का उनके पिता और भाई ने समर्थन किया। जिसके बाद 1953 में, उन्होंने भारत के तत्कालीन वित्त मंत्री चिंतामन देशमुख से दूसरी शादी की। बता दें कि सी.डी. देशमुख भारतीय रिजर्व बैंक के पहले भारतीय गवर्नर थे।

• संगम लक्ष्मी बाई
संगम लक्ष्मी बाई ने अपने छात्र जीवन के दौरान साइमन कमीशन का बहिष्कार करके राजनीति में प्रवेश किया। उन्होंने नमक सत्याग्रह में सक्रिय भाग लिया और 1930-31 तक एक वर्ष के लिए जेल में रहीं। वह इंदिरा सेवा सदन (अनाथालय), राधिका मैटरनिटी होम, वासु शिशु विहार और हैदराबाद में मसेट्टी हनुमन्थु गुप्ता हाई स्कूल की संस्थापक और मानद सचिव थी।

उन्होंने आचार्य विनोबा भावे की पहली पैदल यात्रा की प्रभारी और हैदराबाद यादव महाजन समाज के अध्यक्ष और अखिल भारतीय छात्र सम्मेलन, हैदराबाद खाद्य परिषद और आंध्र युवा मंडली के उपाध्यक्ष के रूप में काम किया। बाई आंध्र प्रदेश के राज्य समाज कल्याण सलाहकार बोर्ड की कोषाध्यक्ष और हैदराबाद प्रदेश कांग्रेस कमेटी में महिला कांग्रेस की संयोजक भी थीं। वह 18 वर्षों तक आंध्र विद्या महिला संगम की सदस्य रहीं, कुछ वर्षों के लिए और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी में आंध्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी की कार्यकारिणी।
संगम लक्ष्मी बाई का विवाह बचपन में दुर्गा प्रसाद यादव से हुआ था, जो 18 वर्ष के थे जिसके कुछ दिनों बाद ही उनके पति की मृत्यु हो गई। संगम बाई के पिता को उनकी पढ़ाई में कोई दिलचस्पी नहीं थी, भले ही वह एक कार्यकर्ता और एक सक्रिय छात्रा थी।

• अरुतला कमला देवी
अरुतला कमला देवी एक भारतीय राजनीतिज्ञ, स्वतंत्रता सेनानी और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की नेता थी। उन्होंने 1952 से 1967 तक लगातार 3 बार अलेयर निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। वह निजाम (हैदराबाद की तत्कालीन रियासत के अंतिम शासक) के शासन के खिलाफ सशस्त्र स्वतंत्रता संग्राम में नेताओं और सेनानियों में से थी। निज़ाम के सामंती शासन को उखाड़ फेंकने के लिए 1940 के दशक के दौरान कम्युनिस्ट वर्तमान तेलंगाना राज्य में गरीब किसानों के साथ शामिल हुए। यह भारत के बड़े स्वतंत्रता संग्राम में एक उप आंदोलन था। वह भारत की पहली महिला विपक्षी नेता भी थी।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
In the freedom struggle carried out in Andhra, women participated in large numbers in the Non-Cooperation Movement, Civil Disobedience Movement and Quit India Movement. Women in Andhra did more work than men, especially in the manufacture of Khadar. So, in today's article, we introduce you to those women of Andhra Pradesh, who were ready to sacrifice everything for the country's independence if needed.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X