Success Story: एक वक्त की रोटी पाने के लिए करना पड़ता था संघर्ष, आज बने यूएस में साइंटिस्ट

महाराष्ट्र के गढ़चिरौली के एक सुदूर गांव में बचपन में एक वक्त की रोटी के लिए संघर्ष करने से लेकर अमेरिका में वरिष्ठ वैज्ञानिक बनने तक, भास्कर हलामी का जीवन इस बात का उदाहरण है कि कड़ी मेहनत और दृढ़ संकल्प के साथ क्या हासिल किया जा सकता है।

 

कुरखेड़ा तहसील के चिरचडी गांव में एक आदिवासी समुदाय में पला-बढ़ा, हलामी अब मैरीलैंड, यूएसए में एक बायोफार्मास्यूटिकल कंपनी, सिरनाओमिक्स इंक के अनुसंधान और विकास खंड में एक वरिष्ठ वैज्ञानिक हैं। जो कि जेनेटिक दवाओं में रिसर्च करते हैं और आरएनए मैन्युफैक्चरिंग और सिंथेसिस का काम देखते हैं।

एक वक्त की रोटी पाने के लिए करना पड़ता था संघर्ष, आज बने यूएस में साइंटिस्ट

एक सफल वैज्ञानिक बनने की भास्कर की यात्रा बाधाओं से भरी रही है और उनके नाम पर कई चीजें पहली बार हुई हैं। वे अपने गांव चिरचडी से पहले विज्ञान स्नातक थे और मास्टर डिग्री और पीएचडी हासिल करने वाले गांव के पहले व्यक्ति थे।

 

एक वक्त की रोटी पाने के लिए करना पड़ता था संघर्ष

मीडिया से बात करते हुए, हलामी ने याद किया कि बचपन के शुरुआती वर्षों में, उनका परिवार बहुत कम आय पर जीवित था। 44 वर्षीय वैज्ञानिक भास्कर ने बताया कि, "हमें एक समय का भोजन पाने के लिए भी बहुत संघर्ष करना पड़ता था।" उन्होंने बताया कि साल के कुछ महीने, विशेष रूप से मानसून उनके और उनके परिवार के लिए अविश्वसनीय रूप से कठिन होते थे, क्योंकि उस वक्त परिवार के पास छोटे खेतों में कोई फसल नहीं होती थी और न ही कोई काम होता था।

भास्कर ने अपनी सफलता राह पर आने वाली कठनाईयों के बारे में बताते हुए कहा कि "हमने महुआ के फूल पकाए, जिन्हें खाना और पचाना आसान नहीं था। हम परसोद (जंगली चावल) इकट्ठा करते थे और चावल के आटे को पानी (अंबिल) में पकाते थे और इसे पीकर अपना पेट भरते थे। यह सिर्फ उन्हीं के घर की कहानी नहीं है, बल्कि उनके गांव चिरचड़ी के 90 फीसदी लोगों को इस तरह से जीवित रहना पड़ा था। जहां लगभग 400 से 500 परिवार रहते थे"

भास्कर के माता-पिता गांव में घरेलू सहायक के रूप में काम करते थे, क्योंकि उनके छोटे से खेत से परिवार को खिलाने के लिए पर्याप्त उत्पादन नहीं था। चीजें तब बेहतर हुईं, जब हलामी के पिता, जिन्होंने कक्षा 7 तक पढ़ाई की थी, को 100 किमी से अधिक दूर कसनसूर तहसील के एक स्कूल में नौकरी के बारे में पता चला और वे परिवहन के हर उपलब्ध साधन को लेकर उस स्थान पर पहुंचे।

हलामी ने बताया कि "मेरी मां के पास यह जानने का कोई तरीका नहीं था कि मेरे पिता उस स्थान पर पहुंचे थे या नहीं। हमें उनके बारे में तब पता चला जब वह तीन-चार महीने बाद अपने गांव लौटे। उन्हें कसनसूर के स्कूल में रसोइए के रूप में नौकरी मिली थी, जहां हम बाद में स्थानांतरित हो गए थे।

भास्कर हलामी का शैक्षणिक करियर

हलामी ने अपनी प्रारंभिक स्कूली शिक्षा कक्षा 1 से 4 तक कसनसुर के एक आश्रम स्कूल में की, और एक छात्रवृत्ति परीक्षा पास करने के बाद, उन्होंने कक्षा 10 तक यवतमाल के सरकारी विद्यानिकेतन केलापुर में अध्ययन किया।

गढ़चिरौली के एक कॉलेज से विज्ञान स्नातक की डिग्री हासिल करने के बाद, हलामी ने नागपुर में विज्ञान संस्थान से रसायन विज्ञान में स्नातकोत्तर की उपाधि प्राप्त की। जिसके बाद 2003 में, भास्कर को नागपुर में प्रतिष्ठित लक्ष्मीनारायण इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एलआईटी) में सहायक प्रोफेसर के रूप में नियुक्त किया गया था।

जब उन्होंने महाराष्ट्र लोक सेवा आयोग (MPSC) की परीक्षा उत्तीर्ण की, तब हलामी का ध्यान अनुसंधान पर रहा और उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका में पीएचडी की पढ़ाई की और अपने शोध के लिए डीएनए और आरएनए को चुना, जिसमें एक बड़ी संभावना थी। और फिर हलामी ने मिशिगन टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से पीएचडी की उपाधि प्राप्त की।

सफलता का श्रेय दिया माता-पिता को

भास्कर अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को देते हैं, जिन्होंने कड़ी मेहनत की और अपनी मामूली कमाई को उसकी शिक्षा में योगदान दिया। हलामी ने अपने परिवार के लिए चिरचडी में एक घर बनाया है, जहां उनके माता-पिता रहना चाहते थे। लेकिन उन्होंने कुछ साल पहले अपने पिता को खो दिया था।

भास्कर हलामी को हाल ही में गढ़चिरौली में राज्य आदिवासी विकास के अतिरिक्त आयुक्त रवींद्र ठाकरे द्वारा सम्मानित किया गया था। जहां आदिवासी विकास विभाग ने अपना 'ए टी विद ट्राइबल सेलेब्रिटी' कार्यक्रम शुरू किया, जिसमें हलामी पहले सेलिब्रिटी थे।

भारत की अपनी यात्राओं के दौरान, हलामी स्कूलों, आश्रम स्कूलों, कॉलेजों का दौरा करते हैं और यहां तक ​​कि अपने घर पर छात्रों से मिलते हैं और उन्हें करियर और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के तरीकों के बारे में सलाह देते हैं।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
From struggling for a one-time bread in a remote village in Gadchiroli, Maharashtra to becoming a senior scientist in the US, Bhaskar Halmi's life is an example of what can be achieved with hard work and determination. . Bhaskar's journey to become a successful scientist has been full of obstacles and many things have happened for the first time to his name.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X