Sardar Vallabhbhai Patel Jayanti 2022: जानिए स्टैच्यू ऑफ यूनिटी से जुड़े रोचक तथ्यों के बारे में

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, जिसे दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा माना जाता है, इसका अनावरण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 31 अक्टूबर, 2018 को सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती के अवसर पर गुजरात में किया था। सरदार वल्लभभाई पटेल ने 1947 में 562 रियासतों को एकजुट करके भारत गणराज्य का निर्माण किया था, जिस वजह से पटेल की जयंती को भारत में एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है। सरदार पटेल को स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के साथ-साथ देश के पहले उप प्रधानमंत्री और गृह मंत्री के रूप में भी जाना जाता है।

 

भारत सरकार द्वारा 31 अक्टूबर 2013 को लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती के अवसर पर स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का शिलान्यास किया गया था जो कि 182 मीटर की ऊंचाई के साथ न केवल दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा है, बल्कि सबसे कम समय में पूरी हुई मूर्ति भी है। बता दें जो छात्र प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं, उन्हें सामान्य जागरूकता में अच्छा स्कोर करने के लिए स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के बारे में निम्नलिखित तथ्यों को अवश्य जानना चाहिए।

Sardar Patel Jayanti 2022:सरदार वल्लभभाई पटेल के जीवन से जुड़े 10 रोचक तथ्य

जानिए स्टैच्यू ऑफ यूनिटी से जुड़े रोचक तथ्यों के बारे में

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी से जुड़े रोचक तथ्य निन्मलिखित है

 
  • स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की ऊंचाई 182 मीटर है, जो दुनिया की सबसे बड़ी मूर्ति है। इसके बाद चीन में स्प्रिंग टेम्पल बुद्धा और जापान में उशीकु दाइबुत्सु क्रमशः 153 मीटर और 120 मीटर है।
  • स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को पद्मश्री राम सुतार ने डिजाइन किया है जिन्होंने भारतीय संसद में गांधी की प्रतिमा भी बनाई थी।
  • लार्सन एंड टुब्रो को डिजाइनिंग, इंजीनियरिंग, निर्माण, संचालन और रखरखाव के लिए स्टैच्यू ऑफ यूनिटी परियोजना की जिम्मेदारी दी गई है। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का बजट लगभग 2989 करोड़ रुपये है।
  • दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी में 153 मीटर की एक व्यूइंग गैलरी है, जो बांध और उसके परिवेश का दृश्य प्रदान करने के अलावा, एक बार में 200 टूरिस्ट को समायोजित कर सकती है।
  • स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के निर्माण का समय 42 महीने तय किया गया था। जबकि यह 33 महीने के रिकॉर्ड समय में तैयार की गई, जो कि इसके शीर्ष में एक और उपलब्धि है। हालांकि, चीन में स्प्रिंग टेम्पल बुद्ध की मूर्ति अब तक की सबसे लंबी थी जिसे बनाने में 11 साल लगे थे।
  • स्टैच्यू ऑफ यूनिटी हवा के वेग को 60 मीटर/सेकंड तक कंपन और भूकंप का सामना करने में सक्षम है।
  • स्टैच्यू ऑफ यूनिटी में दो अर्ध-जुड़े, मिश्रित कंक्रीट बेलनाकार कोर शामिल है, जो बाहरी आवरण का समर्थन करने के लिए एक संरचनात्मक स्टील स्पेस फ्रेम से घिरे हुए है।
  • स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की गैलरी से सरदार सरोवर बांध और इसके 200 किमी लंबे जलाशय, सतपुड़ा और विंध्य पर्वत श्रृंखला को देखा जा सकता है।
  • स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के निर्माण में लगभग 5700 मिलियन टन स्ट्रक्चरल स्टील और 18500 मिलियन टन के सुदृढीकरण बार का निर्माण किया गया था।
  • गुजरात के केवड़िया शहर में साधु द्वीप में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को जोड़ने के लिए सरकार 3.5 किमी राजमार्ग बनाकर पर्यटकों की भीड़ बढ़ाने पर विचार कर रही है।
  • श्रेष्ठ भारत भवन स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के बगल में बनाया गया था, जिसे भोजन सेवा, अतिथि सुविधाओं और सम्मेलन सुविधाओं के साथ 128-कुंजी, तीन सितारा होटल सुविधा के लिए डिज़ाइन किया गया है।
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
The Statue of Unity, considered to be the tallest statue in the world, was unveiled by Prime Minister Narendra Modi in Gujarat on October 31, 2018, on the birth anniversary of Sardar Vallabhbhai Patel. Sardar Vallabhbhai Patel created the Republic of India in 1947 by uniting 562 princely states, due to which Patel's birth anniversary is celebrated as Unity Day in India.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X