पीजी डिप्लोमा इन ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट में करियर (PGD in Travel & Tourism Management )

बहुत से लोगों को टूर एंड ट्रेवलिंग का शौक का होता है और वे इसी क्षेत्र में हायर स्टडीज कर अपने इस शौक को अपने प्रोफेशन में बदलना चाहते हैं। तो चलिए आज के इस आर्टिकल में हम आपको ऐसे कोर्स के बारे में बताते हैं जो कि आप ग्रेजुएशन करने के बाद कर सकते हैं। पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट 1 या 2 साल का डिप्लोमा कोर्स है, जो कि कुछ संस्थानों द्वारा 1 साल के लिए और अन्य संस्थानों द्वारा 2 साल की अवधि में कराया जाता है। यह कोर्स आमतैर पर 2-4 सेमेस्टर तक चलता है। जिसमें की इंडस्ट्री ट्रेनिंग भी शामिल होती है। इस कोर्स में मुख्यत: पर्यटकों से संबंधित विषयों के बारे में पढ़ाया व सिखाया जाता है।

 
पीजी डिप्लोमा इन ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट में करियर

पीजी डिप्लोमा इन ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट: एलिजिबिलिटी

  • उम्मीदवार के पास किसी मान्यता प्राप्त राज्य / केंद्रीय / निजी / डीम्ड विश्वविद्यालय से ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट में ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए।
  • ग्रेजुएशन की डिग्री में कम से कम 55% अंक प्राप्त होने चाहिए।

पीजी डिप्लोमा इन ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट: एडमिशन 2022

  • ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट में पीजी डिप्लोमा में एडमिशन एंट्रेंस एग्जाम के पर आधार पर दिए जाते हैं।
  • छात्रों को एंट्रेंस एग्जाम के लिए आवेदन पत्र ऑनलाइन भरना होता हैं।
  • आवेदन पत्र में सभी जानकारी भरने के बाद सबमिट करें और रजिस्ट्रेशन फीस भी जमा करें।
  • एग्जाम के बाद, कट-ऑफ लिस्ट जारी की जाती है और चयनित छात्रों को संबंधित संस्थान या कॉलेज द्वारा एडमिशन लेने के लिए आमंत्रित किया जाता है।
  • जिसके बाद छात्रों को आवश्यक दस्तावेज और फीस सबमिट करने के बाद अपनी सीट सुरक्षित करनी होती है।

पीजी डिप्लोमा इन ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट: एंट्रेंस एग्जाम
बता दें कि अधिकतर कॉलेज में इस कोर्स में एंट्रेंस एग्जाम के आधार पर एडमिशन दिया जाता है। ग्रैजुएशन की डिग्री में 50% पर्सेंटाइल के साथ, एंट्रेस एग्जाम पर्सेंटाइल भी एडमिशन प्रोसेस में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हालांकि, एंट्रेंस एग्जाम के लिए आवश्यक औसत पर्सेंटाइल संस्थान से संस्थान में भिन्न हो सकता है। पीजी डिप्लोमा इन ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट में एडमिशन के लिए एंट्रेंस एग्जाम नीचे सूचीबद्ध हैं,

 
  • सामान्य प्रवेश परीक्षा (सीएटी)
  • प्रबंधन योग्यता परीक्षा (एमएटी)
  • सामान्य प्रबंधन प्रवेश परीक्षा (सीएमएटी)
  • प्रवेश के लिए प्रबंधन के लिए एम्स टेस्ट (एटीएमए)
  • जेवियर एप्टीट्यूड टेस्ट (एक्सएटी)

पीजी डिप्लोमा इन ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट: सिलेबस
सेमेस्टर-I

  • मैनेजमेंट प्रोसेस एंड ऑर्गेनाइजेशनल बिहेवियर
  • ट्रांसपोर्ट इन ट्रेवल एंड टूरिज्म
  • टूरिज्म इकोनॉमिक्स
  • कम्युनिकेशन स्किल डेवलपमेंट
  • इंडियन हिस्ट्री आर्ट, कल्चर एंड आर्किटेक्चर

सेमेस्टर- II

  • टूरिज्म प्रोडक्ट्स ऑफ इंडिया
  • टूरिज्म मार्केटिंग
  • इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी एंड टूरिज्म
  • होटल मैनेजमेंट
  • मैनेजरियल कम्युनिकेशन स्किल्स

सेमेस्टर- III

  • सस्टेनेबल एंड इको-टूरिज्म
  • कंप्यूटर रिजर्वेशन सिस्टम
  • इवेंट मैनेजमेंट
  • होटल ऑपरेशन

सेमेस्टर-IV

  • टूरिज्म पॉलिसी ट्रैवल एंड डेवलपमेंट
  • रिसर्च मैथडोलॉजी
  • टूर ऑपरेशन
  • टूर गाइडेंस एंड विजिटर इंटरप्रिटेशन

पीजी डिप्लोमा इन ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट: टॉप कॉलेज और उनकी फीस

  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू)- फीस 20,000
  • नई दिल्ली वाईएमसीए प्रबंधन संस्थान- फीस 64,804
  • इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट कैटरिंग टेक्नोलॉजी एंड एप्लाइड न्यूट्रिशन- फीस 25,015
  • मैसूर विश्वविद्यालय- फीस 26,390
  • विक्रम विश्वविद्यालय- फीस 10,521

पीजी डिप्लोमा इन ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट: जॉब प्रोफाइल और सैलरी
इस कोर्स को पूरा करने के बाद आप सरकारी और प्राइवेट दोनों प्रकार के क्षेत्र में काम कर सकते हैं।
सरकारी नौकरियों में, सरकारी पर्यटन विभाग, भारतीय रेलवे खानपान और पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी), राज्य पर्यटन बोर्ड आदि में नौकरी के अवसर मिल सकते हैं।
और प्राइवेट क्षेत्र की नौकरियों के लिए आप मेक माई ट्रिप, निजी एयरलाइंस, निजी स्टार होटल, आदि में काम कर सकते हैं।

  • कैटरिंग मैनेजर- सैलरी (5,00,000)
  • ट्रेवल एजेंट- सैलरी (3,00,000)
  • कस्टमर केयर एक्जीक्यूटीव- सैलरी (3,00,000)
  • ऑपरेशन एनालिस्ट- सैलरी (4,00,000)
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Post Graduate Diploma in Travel and Tourism Management is a 1 or 2 year diploma course offered by some institutes for 1 year and by other institutes over a period of 2 years. This course usually lasts for 2-4 semesters. Including industry training. In this course, mainly subjects related to tourists are taught and taught.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X