National Youth Day 2022 Theme History स्वामी विवेकानंद की जयंती कैसी बनी राष्ट्रीय युवा दिवस जानिए पूरी कहानी

By Careerindia Hindi Desk

National Youth Day Swami Vivekananda Jayanti स्वामी विवेकानंद की जयंती की जयंती के उपलक्ष्य में हर साल 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस वर्ष भारत में 25वां राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जा रहा है। राष्ट्रीय युवा दिवस 2022 की थीम "यह सब दिमाग में है" रखी गई है। महान भारतीय दार्शनिक और समाज सुधारक स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता में हुआ था। उनका असली नाम नरेंद्रनाथ दत्त है और वह वह 19वीं सदी के भारतीय रहस्यवादी रामकृष्ण के प्रमुख शिष्य थे। स्वामी विवेकानंद पर निबंध, भाषण और लेख आलेख प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है। ऐसे में यदि आपको भी स्वामी विवेकानंद पर निबंध, भाषण लेख आलेख लिखना है तो यह लेख आपकी मदद करेगा। तो आइये जानते हैं स्वामी विवेकानंद पर निबंध भाषण लेख आलेख कैसे लिखें।

 
National Youth Day 2022 Theme History स्वामी विवेकानंद की जयंती कैसी बनी राष्ट्रीय युवा दिवस जानिए

राष्ट्रीय युवा दिवस 2022
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25वें राष्ट्रीय युवा दिवस पर पांच दिवसीय महोत्सव का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उद्घाटन और सभा को संबोधित करेंगे। पांच दिवसीय उत्सव केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी में आयोजित किया जाएगा। इसके अलावा 13 जनवरी को राष्ट्रीय युवा शिखर सम्मेलन भी आयोजित किया जाएगा, जिसका उद्देश्य भारत की विविध संस्कृतियों के माध्यम से 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' के एक संयुक्त सूत्र में एकीकृत करना है। यह अभियान वर्ष 2015 में शुरू किया गया था। इस वर्ष यह उत्सव 5 दिनों की अवधि में 12 से 16 जनवरी तक चलेगा और चार चरणों में आयोजित किया जाएगा। जिसमें एक युवा शिखर सम्मेलन, स्वदेशी खेल जागरूकता, योग और सांस्कृतिक समारोह शामिल हैं।

राष्ट्रीय युवा दिवस 2022 की थीम
भारत सरकार राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर प्रत्येक वर्ष एक नई थीम रखती है। थीम को देश में प्रासंगिक और समकालीन परिदृश्य के अनुसार चुना जाता है। राष्ट्रीय युवा दिवस 2022 की थीम 'इट्स ऑल इन द माइंड' रखी गई है।

 

राष्ट्रीय युवा दिवस का उद्देश्य
राष्ट्रीय युवा दिवस मनाने का उद्देश्य भारत के युवाओं को राष्ट्र निर्माण की दिशा में प्रोत्साहित करना, एकजुट करना, प्रेरित करना और सक्रिय करना है। इस महोत्सव में देश के हर जिले का प्रतिनिधित्व करने वाले युवाओं को शामिल करना है। स्थानीय और वैश्विक स्तर पर विचारों का आदान-प्रदान करना है। ताकि विशेषज्ञों द्वारा भविष्य में एक भारत श्रेष्ठ भारत का निर्माण किया जा सके।

राष्ट्रीय युवा दिवस का इतिहास
भारत सरकार ने सन 1984 में पहली बार स्वामी विवेकानंद की जयंती यानी 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की। सरकार का मुख्य उद्देश्य युवाओं को उनके जीवन के तरीके और स्वामी विवेकानंद के विचारों से प्रेरित करके देश के लिए बेहतर भविष्य बनाना है। यह दिवस युवाओं में नई उर्जा और शक्ति का संचार करने का शानदार तरीका है। तब से हर साल युवाओं को प्रेरित करने के लिए 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है।

राष्ट्रीय युवा दिवस का महत्व
राष्ट्रीय युवा दिवस को 'युवा दिवस' के रूप में भी जाना जाता है। 12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके सम्मान और योगदान के लिए राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है। भारत में, विभिन्न राज्य इस दिन को मनाने के लिए विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करते हैं। उत्तर प्रदेश में, मिशन भारतीय के रूप में दो दिवसीय कार्यक्रम आयोजत किया जाता है। इस आयोजन को बस्ती युवो महोत्सव भी कहा जाता है। जिसमें सरकारी और गैर सरकारी संगठन भी भाग लेते हैं।

राष्ट्रीय युवा दिवस कैसे मनाया जाता है
भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस स्वामी विवेकानंद की जयंती के रूप में मनाया जाता है। स्कूलों और कॉलेजों में स्वामी विवेकानंद पर भाषण दिए जाते हैं। युवाओं के लिए विभिन्न कार्यक्रम और प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। भारत के कई राज्य इस दिन विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करते हैं। कई सरकारी संगठन और गैर-लाभकारी संगठन राष्ट्रीय युवा दिवस के लिए कार्यक्रमों में भाग लेते हैं। रामकृष्ण मठ और रामकृष्ण मिशन केंद्रों में, राष्ट्रीय युवा दिवस को पारंपरिक तरीके से मनाया जाता है। जिसमें दैवीय पूजा, ध्यान का अभ्यास, भक्ति कार्यक्रम, हवन और धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

राष्ट्रीय युवा दिवस स्वामी विवेकानंद कोट्स
एक विचार लो, उस एक विचार को अपना जीवन बना लें, उसके बारे में सोचें, उसके सपने देखें, उस विचार पर जिएं। मस्तिष्क, मांसपेशियों, नसों और आपके शरीर के हर हिस्से को उस विचार से भर दें और हर दूसरे विचार को अकेला छोड़ दें। यही सफलता का मार्ग है: स्वामी विवेकानंद

कभी मत सोचो कि आत्मा के लिए कुछ भी असंभव है। ऐसा सोचना सबसे बड़ा विधर्म है। यह कहना कि आप कमजोर हैं या दूसरे कमजोर हैं, सबसे बड़ा पाप है: स्वामी विवेकानंद

यदि स्वयं पर विश्वास अधिक व्यापक रूप से सिखाया और अभ्यास किया गया होता, तो मुझे यकीन है कि हमारे अंदर की बुराइयों और दुखों का नाश हो गया होता: स्वामी विवेकानंद

ब्रह्मांड की सभी शक्तियां पहले से ही हमारी हैं। हम ही हैं जिन्होंने रोते हुए और अंधरों में अपनी आंखों पर अपना हाथ रखा है: स्वामी विवेकानंद।

युवाओं की शक्ति पूरे विश्व के लिए साझा धन है। युवाओं के चेहरे हमारे अतीत, हमारे वर्तमान और हमारे भविष्य के चेहरे हैं। समाज का कोई भी वर्ग युवाओं की शक्ति के बिना अधुरा है: कैलाश सत्यार्थी

Swami Vivekananda Quotes In Hindi 2022 स्वामी विवेकानंद के ये कोट्स सिखाते हैं जीवन जीने का तरीका

Speech On Sardar Vallabhbhai Patel सरदार वल्लभ भाई पटेल पर भाषण

Essay On Sardar Vallabhbhai Patel सरदार वल्लभ भाई पटेल पर निबंध

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Speech Essay On National Youth Day 2022 Theme History Significance Activities Swami Vivekananda Jayanti Quotes : Every year 12 January is celebrated as National Youth Day to the birth anniversary of Swami Vivekananda. This year 25th National Youth Day is being celebrated in India. The theme of National Youth Day 2022 is "It's all in the mind". Swami Vivekananda, the great Indian philosopher and social reformer, was born on 12 January 1863 in Calcutta, India. His real name is Narendranath Datta and he was a chief disciple of the 19th century Indian mystic Ramakrishna. Essay, speech and article writing competition is organized on Swami Vivekananda. know how to write essay, speech and article on Swami Vivekananda.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X