National Unity Day 2022: जानिए राष्ट्रीय एकता दिवस की थीम, महत्व और इतिहास के बारे में

भारत में हर साल 31 अक्टूबर यानि की सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती को राष्ट्रीय एकता दिवस व नेशनल यूनिटी डे के रूप में मनाया जाता है। सरदार वल्लभभाई पटेल को लोकप्रिय रूप से "भारत के एकीकरणकर्ता" के रूप में जाना जाता है, जिन्होंने भारत की 565 रियासतों के एकीकरण में योगदान दिया।

 

भारत में राष्ट्रीय एकता दिवस पूर्व उप प्रधान मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल के प्रयासों को सम्मानित करने के लिए मनाया जाता है। वह एक प्रभावशाली राजनेता थे जिन्होंने देश के एकीकरण में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। राष्ट्रीय एकता दिवस पहली बार सरदार वल्लभभाई पटेल की 139 वीं जयंती पर 31 अक्टूबर 2014 को मनाया गया था, जब प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने दिन का कार्यभार संभाला था।

National Unity Day 2022: जानिए राष्ट्रीय एकता दिवस की थीम, महत्व और इतिहास के बारे में

सरदार वल्लभभाई पटेल के बारें में प्रमुख बिंदु

 
  • सरदार वल्लभभाई पटेल का जन्म 31 अक्टूबर 1875 को गुजरात में हुआ था।
  • 1991 में उन्हें मरणोपरांत सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'भारत रत्न' से सम्मानित किया गया।
  • सरदार पटेल को राष्ट्र को एकीकृत करने के उनके प्रयासों के लिए "भारत के लौह पुरुष" और "भारत के एकीकरणकर्ता" के रूप में जाना जाता है।
  • बारडोली की महिलाओं ने उन्हें 'सरदार' या 'प्रमुख' की उपाधि दी थी।
  • वल्लभ भाई पटेल स्वतंत्र भारत के पहले उप प्रधान मंत्री और तत्कालीन गृह मंत्री थे।
  • सरदार वल्लभ भाई पटेल को श्रद्धांजलि देने के लिए गुजरात में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का निर्माण किया गया।

राष्ट्रीय एकता दिवस थीम 2022
राष्ट्रीय एकता दिवस प्रत्येक वर्ष एक अनूठी थीम के साथ मनाया जाता है। और फिर उसी थीम के आसपास समस्त भारत में सभी कार्यक्रमों, वार्ताओं, चर्चाओं, अभियानों आदि आयोजन किया जाता है। हालांकि, इस साल के लिए अभी तक थीम की घोषणा नहीं की गई है। पिछले वर्ष की एकता दिवस की थीम नीचे देखें:

  • राष्ट्रीय एकता दिवस थीम 2021- आत्मनिर्भर भारत
  • राष्ट्रीय एकता दिवस थीम 2020- अनेकता में एकता समानता में एकता से बेहतर है
  • राष्ट्रीय एकता दिवस थीम 2019- राष्ट्र को एक साथ लाने के लिए, संघर्ष और बढ़ते उग्रवाद के समय में एकजुट होना
  • राष्ट्रीय एकता दिवस थीम 2016- भारत का एकीकरण

राष्ट्रीय एकता दिवस का इतिहास
भारत सरकार द्वारा भारत के पहले उप प्रधान मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल को याद करने के लिए 31 अक्टूबर 2014 को राष्ट्रीय एकता दिवस की शुरुआत की गई थी। सरदार पटेल ने अखंड और सक्षम भारत के विचार की वकालत की और "एक भारत, श्रेष्ठ भारत" के इस विचार के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया। राष्ट्र को एकजुट करने के उनके प्रयासों के लिए उन्हें "भारत के लौह पुरुष" के रूप में सम्मानित किया जाता है। हालांकि, सरदार वल्लभभाई पटेल की 143 वीं जयंती पर, भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गुजरात में प्रसिद्ध नर्मदा नदी के पास एक विशाल स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का उद्घाटन किया गया।

राष्ट्रीय एकता दिवस का महत्व
भारत में, विविध संस्कृतियों, परंपराओं, धर्मों और भाषाओं की भूमि, लोगों के बीच एकता बनाए रखना महत्वपूर्ण है। ऐसे समय में जब भारत की कई रियासतें विभाजित थीं, सरदार वल्लभभाई पटेल ने अखंड भारत की परिकल्पना को कायम रखा और उसकी वकालत की। इसलिए, देश को एकजुट करने के लिए सरदार वल्लभभाई पटेल के प्रयासों को मान्यता देने के लिए राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है। इस दिन का महत्व निम्न प्रकार है:

  • इसका उद्देश्य भारत के लोगों के बीच एकजुटता की पुष्टि करना है।
  • इसका उद्देश्य लोगों के बीच "अनेकता में एकता" की भावना को बनाए रखना है।
  • राष्ट्रीय एकता दिवस भारत के नागरिकों को उन प्रयासों और कठिनाइयों की याद दिलाता है जो सरदार पटेल और अन्य कार्यकर्ताओं ने भारत के एकीकरण में डाले थे।

राष्ट्रीय एकता दिवस पर शपथ ग्रहण
राष्ट्रीय एकता दिवस पर सरकारी कार्यालयों और सार्वजनिक उपक्रमों में शपथ ग्रहण समारोह आयोजित किया जाता है। शपथ-
"मैं सत्यनिष्ठा से प्रतिज्ञा करता/करती हूं कि मैं राष्ट्र की एकता, अखंडता और सुरक्षा को बनाए रखने के लिए खुद को समर्पित करता/करती हूं और अपने साथी देशवासियों के बीच इस संदेश को फैलाने का भी प्रयास करूंगा/करूंगी। मैं यह प्रतिज्ञा अपने देश के एकीकरण की भावना से लेता/लेती हूं, जिसे सरदार वल्लभभाई पटेल की दूरदर्शिता और कार्यों से संभव बनाया गया था। मैं भी अपने देश की आंतरिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अपना योगदान देने का सत्यनिष्ठा से संकल्प लेता/लेती हूं।"

National Unity Day 2022 : एकता और अखंडता पर सरदार वल्लभभाई पटेल द्वारा दिए गए कोट्स

National Unity Day 2022 : राष्ट्रीय एकता दिवस के टॉप स्लोगन

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Every year in India, 31 October i.e. the birth anniversary of Sardar Vallabhbhai Patel is celebrated as National Unity Day and National Unity Day. Sardar Vallabhbhai Patel popularly known as the "Integrator of India" contributed to the unification of 565 princely states of India. National Unity Day was first celebrated on 31 October 2014 on the 139th birth anniversary of Sardar Patel.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X