National Girl Child Day 2023: राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाएं इन व्हाट्सएप सेंदेशों के साथ

भारत में हर साल राष्ट्रीय बालिका दिवस 24 जनवरी को मनाया जाता है। इस दिवस की शुरुआत महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा वर्ष 2008 में की गई थी। शुरुआती दशकों से महिलाओं और लड़कियों को भेदभाव का सामना करना पड़ता है। एक समय ऐसा था जब लड़कि पैदा होना अभिशाप हुआ करता था। लड़कियों का पढ़ने नहीं दिया जाता था या पैदा होने से पहले ही मार दिया जाता था। इस प्रकार की कई घटनाओं के बारे में आपने सुना होगा। इन असमानताओं और भेदभाव की स्थिति को कम करने एक सुरक्षित वातावरण के निर्माण उनके अधिकारों के लिए को लेकर जागरूकता फैलाने और लड़कियों के खिलाफ हो रहे अपराधों को रोकने के लिए इस दिवस को मनाने का फैसाला लिया गया था।

 

इस दिवस को मनाने के लिए 24 जनवरी की तिथि को इसलिए चुना गया क्योंकि इसी दिन वर्ष 1966 में भारत को अपनी पहली महिला प्रधानमंत्री मिली थी। 24 जनवरी 1966 में इंदिरा गांधी भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री बनी थी और इसी दिन को महिलाओं की उपलब्धियों की दर्शाने और महिलाओं के योगदानों को प्रदर्शित करने के लिए और उनके अधिकारों को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है।

National Girl Child Day 2023: राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाएं इन व्हाट्सएप सेंदेशों के साथ

आज भी कई लोग है जिनका नजरिया लड़कियों को लेकर ठीक नहीं है। उनका मानना है कि लड़कियों को घर में रहना चाहिए, घर बाहर नहीं जाना चाहिए, उन्हें पढ़ाना ठीक नहीं है या वह घर के काम आदि जैसे कार्यों के लिए बनी है। इस तरह की सोच को बदलने और इन सोचों के कारण हो रहे अपराधों को रोकने और उसके प्रति लोगो को जागरूकर करने के लिए इस दिवस को मनाया जाता है। ताकि लड़कियों के लिए एक ऐसे वातावरण का निर्माण किया जा सकें, जिसमें वह खुल कर बिना डरे जीवन जी सकें।

 

राष्ट्रीय बालिका दिवस व्हाट्सएप सेंदेश

• बेटी को बचाओ और उसका सम्मान करो क्योंकि वह तुम्हारे परिवार और समाज का भविष्य है। राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुभकामनाएं।

• बालिकाओं के राष्ट्रीय दिवस के अवसर पर, आइए हम लड़कियों के अधिकारों को पहचानें और उन्हें बेहतर जीवन, बेहतर भविष्य देने के लिए दुनिया भर में उनके सामने आने वाली समस्याओं को भी पहचानें।

• उसे युगों से नज़रअंदाज़ किया गया है लेकिन अब वह सभी का ध्यान, प्यार और देखभाल की हकदार है .... राष्ट्रीय बालिका दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

• एक बालिका को शिक्षित करने का अर्थ है एक पूरे परिवार को शिक्षित करना, एक लड़की को कभी कम मत समझना। राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुभकामनाएं।

• दुनिया एक बेहतर जगह होगी अगर हम अपनी लड़कियों को उसी तरह आगे बढ़ाएंगे जैसे हम अपने लड़कों को बढ़ावा देते हैं। राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुभकामनाएं।

• भारत में बालिकाओं के सामने कई चुनौतियाँ हैं और राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर हमें यह शपथ लेनी चाहिए कि हम इन चुनौतियों को उनके लिए अवसरों में बदल देंगे।

• राष्ट्रीय बालिका दिवस हमें याद दिलाता है कि यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम अपनी लड़कियों को वह महत्व दें जिसकी वे हकदार हैं और उनके खुशहाल जीवन के लिए मिलकर काम करें।

• वह दिलों को पिघला सकती है और वह दुनिया पर राज भी कर सकती है। बेटीयों को बचाओ। राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाते हुए।

• परिवार में एक लड़की के बिना, आपके पास समृद्धि, खुशी और वैभव नहीं हो सकता। हमेशा उसका सम्मान करें और उसकी देखभाल करें। राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुभकामनाएं।

• एक बालिका ही होती हैं जो साहस, दृढ़ संकल्प, त्याग, प्रतिबद्धता, प्रतिभा और प्रेम से बनी होती हैं। राष्ट्रीय बालिका दिवस हार्दिक शुभकामनाएं।

• लड़कियों को उड़ने के लिए पंख दो, रोने और मरने का दर्द नहीं। राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुभकामनाएं।

• राष्ट्रीय बालिका दिवस हमें याद दिलाता है कि यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम उन्हें वह महत्व दें जिसके वे हकदार हैं और उनके खुशहाल जीवन के लिए मिलकर काम करें।

• सपनों वाली छोटी लड़कियां दृष्टि वाली मजबूत महिला बनती हैं। राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुभकामनाएं।

• लंबे समय से बच्चियों के साथ भेदभाव होता आ रहा है। काफी समय से उन्हें परेशानी हो रही है। आइए इस बालिका दिवस पर उन्हें सम्मान दे।

• राष्ट्रीय बालिका दिवस के शुभ अवसर पर आइए हम सब स्वयं से वादा करें कि हम हमेशा बालिकाओं की सुरक्षा और विकास की दिशा में काम करेंगे।

National Girl Child Day 2023: राष्ट्रीय बालिका दिवस का उद्देश्य और अभियान

Republic Day 2023: गणतंत्र दिवस पर अमर जवान ज्योति से जुड़े 10 तथ्य जानिए

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
National Girl Child Day 2023: National Girl Child Day is celebrated every year on 24 January in India. This day was started by the Ministry of Women and Child Development in the year 2008. Women and girls face discrimination since early decades. There was a time when being born a girl was a curse. Girls were not allowed to study or were killed before they were born. You must have heard about many such incidents.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X