Independence Day 2022: कर्नाटका की महिला स्वतंत्रता सेनानियों की सूची

कर्नाटक राज्य ने स्वतंत्रता संग्राम में बहुत योगदान दिया है। कन्नड़ लोग बहादुरी और साहस के लिए जाने जाते हैं। वे मानते थे कि स्वतंत्रता उनके जीवन से अधिक मूल्यवान है। आज जब कोई स्वतंत्रता की बात करता है तो कर्नाटक के शासकों, कदंब, होयसाल, चालुक्य, विजयनगर राजाओं को उनके प्रेम और स्वतंत्रता के प्रति समर्पण के लिए याद किया जाता है।

 

आज के इस आर्टिकल में हम आपको कर्नाटक की उन महिलाओं से परिचित कराते हैं जिन्होंने देश की आजादी में सक्रिय भूमिका निभाई थी। अधिकतर लोग स्वतंत्रता संग्राम की जब भी चर्चा करते हैं तो केवल पुरुषों की ही योगदान को याद किया जाता है। लेकिन बता दें कि करियर इंडिया की टीम आपके लिए हर राज्य के महिला स्वतंत्रता सेनानियों के आर्टिकल की सिरिज लेकर आई है। जिससे की आप पुरुषों के साथ-साथ उन महिलाओं के बारे में भी जान सकें जो कि देश की आजादी के कुछ भी कर गुजरने को तैयार थी। तो चलिए जानते हैं कर्नाटका की महिला स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में।

कर्नाटका की महिला स्वतंत्रता सेनानियों की सूची

 

1. कित्तूर रानी चेन्नम्मा
• जन्म - 23 अक्टूबर 1778, बेलगौम
• जीवनसाथी - राजा मल्लसरजा
• पुत्र - शिवलिंगप्पा
• मृत्यु - 2 फरवरी 1829, बैलहोंगला
कित्तूर रानी चेन्नम्मा भारत की स्वतंत्रता के लिए पहली महिला कार्यकर्ता थी जिन्होंने ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी। चेन्नम्मा उन्हें हरा नहीं सकीं लेकिन उन्होंने कई महिलाओं को देश में ब्रिटिश शासन के खिलाफ उठने के लिए प्रेरित किया। वह कर्नाटक में कित्तूर रियासत की रानी थी।

कर्नाटका की महिला स्वतंत्रता सेनानियों की सूची

2. उमाबाई कुंडापुर
• जन्म - 1892 कुंडापुरा, कर्नाटक
• माता-पिता - गोलिकेरी कृष्णा राव और जंगाबाई
• जीवनसाथी - संजीव राव कुंडापुर
• मृत्यु - 1992
उमाबाई कुंडापुर हुबली जिले की महिला थी जिन्होंने स्वतंत्रता संग्राम के समय बड़े स्वयंसेवकों को संगठित किया और उन स्थानीय महिलाओं को प्रोत्साहित किया जो अपने घर से बाहर नहीं निकली थीं। अपने बचपन के दौरान, वह अपने परिवार के साथ मुंबई चली गई थी। जलियांवाला बाग की घटनाओं ने उनके जीवन का मार्ग बदल दिया और वे महान क्रांतिकारियों के साथ स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल हो गई थी।

3. ओनाके ओबव्वा
• जन्म - 18वीं सदी
• पति - कहले मुड्डा हनुमा
• मृत्यु - 1779, चित्रदुर्ग
ओनाके ओबाव्वा एक वीर महिला थी जिन्होंने दुनिया को अपनी बहादुरी और अपने पति के प्रति सम्मान दिखाया। जब सेना ने चित्रदुर्ग साम्राज्य पर हमला किया तो वह अकेले ही अपनी अंतिम सांस तक के लिए लड़ी।

4. यशोधरा दासप्पा
जन्म - 28 मई 1905, बेंगलुरु
मृत्यु - 1980
पुरस्कार - पद्म भूषण
पुत्र - तुलसीदास दासप्पा
यशोधरा दासप्पा एक गांधीवादी और स्वतंत्रता सेनानी थी। वह राजनीतिक रूप से भारत की राष्ट्रीय कांग्रेस के साथ जुड़ी हुई थीं और उन्होंने एस. आर. कांथी और एस. निजलिंगप्पा के नेतृत्व वाली कर्नाटक राज्य सरकारों में मंत्री के रूप में कार्य किया।

5. कमलादेवी चट्टोपाध्याय
जन्म - 3 अप्रैल 1903, मैंगलोर
मृत्यु - 29 अक्टूबर 1988, मुंबई
जीवनसाथी: हरिंद्रनाथ चट्टोपाध्याय (1923-1955), कृष्णा राव (1917-1919)
कमलादेवी चट्टोपाध्याय एक महान महिला स्वतंत्रता कार्यकर्ता थी, जो मुख्य रूप से नमक सत्याग्रह में शामिल थीं, उन्हें स्वतंत्रता के बाद के समाज में हस्तशिल्प, हथकरघा आदि के उत्थान के लिए जाना जाता है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Whenever most people discuss the freedom struggle, only the contribution of men is remembered. But let us tell you that the team of Career India has brought for you a series of articles of women freedom fighters from every state. So that you can know about the men as well as those women who were ready to do anything for the independence of the country.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X