Independence Day 2022: भारत के राष्ट्रीय ध्वज में प्रस्तुत अशोक चक्र से जुड़े कुछ रोचक तथ्य जाने

भारत इस साल अपना 76वां स्वतंत्रता दिवस मानाने जा रहा है। भारत में राष्ट्रीय ध्वज को सबसे अधिक महत्वपूर्ण माना जाता है। लेकिन क्या आप जानते है भारत के राष्ट्रध्वज की बीच में स्थिति चक्र की क्या अहमियत है। उसे क्यों भारत के ध्वज में जगह दी गई। इस चक्र का हमारे ध्वज के लिए क्या महत्व है। भारत के ध्वज में अशोक चक्र का अपना एक महत्व है जिसके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं। भारत के ध्वज में सफेद पृष्ठभूमि पर अशोक चक्र को गहरे नीले रंग से बनाया गया है। भारतीय झंडे में केसरी रंग देश की ताकत और साहस का प्रतिक है। बीच में सफेद रंग शांति और सत्य का प्रतिक है और इस सफेद पृष्टभूमि पर अशोक चक्र स्थित है। ध्वज में हरा रंग वृद्धि और शुभता का प्रतिक माना जात है। आइए इस स्वतंत्रता दिवस पर भारत के राष्ट्रीय ध्वज में स्थित अशोक चक्र के बारे में जाने।

 
Independence Day 2022: भारत के राष्ट्रीय ध्वज में प्रस्तुत अशोक चक्र से जुड़े कुछ रोचक तथ्य जाने

अशोक चक्र से जुडें कुछ रोचक तथ्य

1). अशोक चक्र धर्मचक्र का एक चित्रण है। अशोक चक्र में 24 तिलियां हैं।

2). अशोक चक्र तिरंगे के बीच में स्थित किया गया है। अशोक चक्र में चौबीस तिलियां हैं। 22 जुलाई 1947 को इसे अपनाया गया था।

3). अशोक चक्र का सबसे महत्वपूर्ण उपयोग उसे भारत के ध्वज के केंद्र में अपना कर किया गया है। जहां इसे सफेद पृष्ठभूमि पर गहरे नीले रंग का प्रयोग करके में अशोक चक्र को प्रस्तुत किया गया है।

4). अशोक चक्र को कर्तव्य के पहिये के रूप में भी माना जाता है।

5). झंडे के बीचों बीच बने इस चक्र को अशोक चक्र कहा जाता है। इस चक्र को अशोक स्तंभ से लिया गया है। जिनमें से सबसे प्रमुख अशोक की सिंह राजधानी है।

6). अशोक चक्र की हर तिल्ली जीवन के एक सिद्धांत दर्शाती है और इसी के साथ यह चक्र दिन के चौबीस घंटों को भी दर्शता है। इस वजह से इसे 'समय का पहिया' भी कहा जाता है।

 

7). चक्र को 'धर्म का पहिया', हिंदू धर्म, जैन धर्म और विशेष रूप से बौद्ध धर्म से एक धार्मिक रूपांकन के बाद बनाया गया था।

8). चरखा या चक्र का विचार लाला हंसराज द्वारा रखा गया था। गांधी जी ने पिंगली वेंकय्या को लाल और हरे रंग के बैनर पर एक ध्वज डिजाइन करने के लिए नियुक्त किया था।

9). ध्वज के निर्माताओं ने प्रत्येक तिल्ली एक अर्थ देने की बात की - प्रत्येक तिल्ली एक मूल्य का प्रतिनिधित्व करती है जिसे भारत दुनिया में प्रगति करने के लिए उपयोग करेगा।

10). ओशोक चक्र की चौबीस तिल्ली चौबीस सिद्धांतों का प्रतिनिधित्व करती हैं। जिसमें से कुछ इस प्रकार हैं - प्रेम, साहस, धैर्य, आत्म-बलिदान, सच्चाई, धार्मिकता, आध्यात्मिक ज्ञान, नैतिकता, कल्याण, उद्योग, विश्वास और समृद्धि।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Ashok Chakra plays a very important role in Indian Flag. Ashok Chakra is from Ashok Stambh. Ashok Chakra has 24 spokes and each spoke of it has a different meaning.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X