Buddha Religion गौतम बुद्ध की ये शिक्षाएं जीवन को सफल बनती हैं

Gautama Buddha Religion Buddhism Beliefs Philosophy: बौद्ध धर्म को दर्शन के रूप में जाना जाता है, जो आपको खुद से मिलवालने में यकीन रखता है। भारत में बौद्ध धर्म 6वीं और 5वीं शताब्दी ईसा पूर्व में आया। बौद्ध धर्म की स्थापना ऋषि सिद्धार्थ गौतम ने ने की थी। वह एक राजकुमार थे, सत्य की खोज के लिए वह एक आध्यात्मिक तपस्वी बने। उन्होंने अपनी वर्तमान स्थिति, धन पत्नी और परिवार सबको त्याग दिया और तपस्या में लीन हो गए। एक बार जब उन्हें मानवीय पीड़ा का पता चला तो उन्हें लगा कि उन्हें लोगों के दर्द को कम करने का कोई तरीका खोजना होगा। उन्होंने एक प्रबुद्ध व्यक्ति बनने के लिए सख्त आध्यात्मिक विषयों का अनुसरण किया, जिन्होंने दूसरों को वे साधन सिखाई जिससे वे संसार, दुख, पुनर्जन्म और मृत्यु के चक्र से बच सकें।

 
Buddha Religion गौतम बुद्ध की ये शिक्षाएं जीवन को सफल बनती हैं

बुद्ध पूर्णिमा या बुद्ध जयंती दुनिया भर के सभी बौद्ध अनुयायियों के लिए एक अत्यंत महत्वपूर्ण और पवित्र दिन है। एसी मान्यता है कि इस दिन भगवान बुद्ध ने अपनी शिक्षाओं पर आधारित बौद्ध धर्म की स्थापना हुई थी। उन्होंने धर्म, अहिंसा, दया और सद्भाव का उपदेश दिया। गौतम बुद्ध का जन्म नाम सिद्धार्थ गौतम था। उन्होंने सांसारिक सुख और भौतिक संपत्ति को पीछे छोड़ दिया ताकि वह एक सरल और आध्यात्मिक जीवन जी सकें। उन्होंने सभी जीवित प्राणियों के बीच समानता और प्रेम के सिद्धांतों का प्रचार किया।

भारत से मध्य और दक्षिण पूर्व एशिया, चीन, कोरिया और जापान में फैले बौद्ध धर्म ने एशिया के आध्यात्मिक, सांस्कृतिक और सामाजिक जीवन में एक केंद्रीय भूमिका निभाई है। बौद्ध धर्म का उदय पूर्वोत्तर भारत में 6वीं शताब्दी के अंत और 4वीं शताब्दी ईसा पूर्व की शुरुआत के बीच हुआ, जो महान सामाजिक परिवर्तन और गहन धार्मिक गतिविधि का काल था। बुद्ध के जन्म और मृत्यु की तिथियों को लेकर विद्वानों में मतभेद है। कई आधुनिक विद्वानों का मानना ​​है कि ऐतिहासिक बुद्ध लगभग 563 से लगभग 483 ईसा पूर्व तक जीवित रहे। कई अन्य लोगों का मानना ​​है कि वह लगभग 100 साल बाद (लगभग 448 से 368 ईसा पूर्व तक) जीवित रहे।

 

इस समय भारत में ब्राह्मण के बलिदान और कर्मकांड से काफी असंतोष था। उत्तर-पश्चिमी भारत में ऐसे तपस्वी थे जिन्होंने वेदों में पाए जाने वाले की तुलना में अधिक व्यक्तिगत और आध्यात्मिक धार्मिक अनुभव बनाने की कोशिश की। पूर्वोत्तर भारत जो वैदिक परंपरा से कम प्रभावित था, कई नए संप्रदायों का प्रजनन स्थल बन गया। आदिवासी एकता के टूटने और कई छोटे-छोटे राज्यों के विस्तार से समाज में काफी उथल-पुथल हुई। विभिन्न संशयवादियों, भौतिकवादी और एंटीनोमियन सहित नए संप्रदायों का विस्तार हुआ। बुद्ध के समय में उत्पन्न होने वाले सबसे महत्वपूर्ण संप्रदाय थे, हालांकि, आजीवक पर जोर दिया।

बौद्धों की तरह जैनियों को भी अक्सर नास्तिक माना गया है, जबकि उनकी मान्यताएं वास्तव में अधिक जटिल हैं। प्रारंभिक बौद्धों के विपरीत, अजीविका और जैन दोनों ही उन तत्वों के स्थायित्व में विश्वास करते थे जो ब्रह्मांड का निर्माण करते हैं, साथ ही साथ आत्मा के अस्तित्व में भी। जैसे-जैसे बौद्ध धर्म का प्रसार हुआ, उसे विचार और धर्म की नई धाराओं का सामना करना पड़ा। कुछ महायान समुदायों में अनुष्ठान कार्यों और भक्ति प्रथाओं की प्रभावकारिता पर जोर देने के लिए संशोधित किया गया।

गौतम बौद्ध ने कहा है कि जीवन में हर कोई अपनी खुशी और दुख के लिए जिम्मेदारी है। बुद्ध ने खुशहाल जीवन के लिए चार सिद्धांतों को प्रस्तुत किया है। जीवन में दुख का कारण इच्छा है। इच्छा समाप्त होते ही दुख को समाप्त हो जाते हैं। नियंत्रित और मध्यम जीवन शैली का पालन करने से इच्छा समाप्त हो होती है। इन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए बुद्ध ने नोबेल अष्टांगिक मार्ग प्रस्तुत किया है। विश्वास, संकल्प, भाषण, आचरण, व्यवसाय, प्रयास, दिमागीपन और ध्यान। यदि मनुष्य इन अष्टांगिक मार्ग का अनुसरण करेगा तो वह संसार चक्र से छूट जाएगा। बौद्ध धर्म भोग का त्याग करने पर जोर देता है। बुद्ध धर्म कहता है कि चरम तरीकों से बचें और तर्कसंगत के रास्ते पर चलें।

बौद्ध धर्म में जाति व्यवस्था शामिल नहीं है। यह समानता और मानव कल्याण के कार्य सिखाता है। बौद्ध धर्म के अनुसार, नर सेवा ही नारायण सेवा है। बाबासाहेब अम्बेडकर बुद्ध धर्म से इतने प्रभावित थे कि उन्होंने हिन्दू धर्म त्याग कर बुद्ध धर्म को अपनाया और लोगों से भी बुद्ध धर्म को अपनाने को कहां। 1956 में बाबासाहेब अम्बेडकर द्वारा शुरू किए गए महान धर्मांतरण आंदोलन के बाद कई लोगों ने बौद्ध धर्म को अपनाया। यही कारण है कि आज भी हजारों दलित समाज के लोग बौद्ध धर्म अपनाते हैं। बौद्ध धर्म सभी को आत्मविश्वास और सम्मान प्रदान करता है। जाति-आधारित सामाजिक व्यवस्था से परेशान लोग आज भी बुद्ध धर्म अपना रहे हैं।

Laughter Day 2022 अच्छे तन-मन के लिए हंसना जरूरी, रेसर्च में खुलासा

Labour Day 2022 Facts: भारत में मजदूर दिवस कब क्यों कैसे शुरू हुआ जानिए

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Gautama Buddha Religion Buddhism Beliefs History Philosophy Books Origin Practices Speech Essay On Buddha's Birthday : Gautam Buddh has said that everyone in life is responsible for his own happiness and sorrow. Buddha has presented four principles for a happy life. Desire is the cause of suffering in life. When desire ends, suffering ends. Following a controlled and moderate lifestyle eliminates desire.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X