Engineers Day 2022: जानिए सर एम विश्वेश्वरैया के 10 उपलब्धियों के बारे में

भारत के सबसे प्रतिष्ठित इंजीनियरों में से एक सर एम विश्वेश्वरैया का जन्म 15 सितंबर 1860 को हुआ था। आज उनके 162वें जन्मदिन के अवसर पर, जिसे इंजीनियर दिवस के रूप में भी मनाया जाता है, जानते हैं मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया के कुछ प्रसिद्ध उपलब्धियों के बारे में। बता दें कि उन्होंने 1934 में भारतीय अर्थव्यवस्था की योजना बनाई थी। जबकि उन्हें 1955 में, इंजीनियरिंग और शिक्षा के क्षेत्र में उनके कार्यो के लिए स्वतंत्र भारत के महानतम सम्मान, भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

 

हालांकि, सर एम विश्वेश्वरैया की उत्कृष्टता का वर्णन करने के लिए शब्द कम पड़ जाते हैं। वे एक गर्वित कन्नडिगा जो मांड्या में ग्रेट केआरएस बांध के निर्माण के पीछे मुख्य वास्तुकार थे। उनका यह कार्य बंजर भूमि को खेती के लिए उपजाऊ भूमि में बदलने में सहायक था। सर एम विश्वेश्वरैया का काम इतना लोकप्रिय हो रहा था कि भारत सरकार ने उन्हें 1906-07 में जल आपूर्ति और जल निकासी व्यवस्था की स्टडी करने के लिए यमन देश के अदन शहर भेज दिया। उन्होंने ऐसा ही किया और अपने अध्ययन के आधार पर एक परियोजना तैयार की जिसे अदन में लागू किया गया।

जानिए सर एम विश्वेश्वरैया के 10 उपलब्धियों के बारे में

जानिए सर एम विश्वेश्वरैया के 10 उपलब्धियों के बारे में

 

1. 1903 में स्वचालित वियर फ्लडगेट की एक प्रणाली को डिजाइन और पेटेंट कराने में उनका महत्वपूर्ण योगदान था।
2. सर एम वी मैसूर में महान कृष्ण राजा सागर बांध के वास्तुकार थे। यह कर्नाटक और आसपास के राज्यों में विश्वेश्वरैया के प्रमुख योगदानों में से एक है।
3. उन्होंने मुसी नदी द्वारा हैदराबाद शहर के लिए बाढ़ सुरक्षा प्रणाली तैयार की।
4. उन्होंने तिरुमाला और तिरुपति के बीच सड़क निर्माण की योजना तैयार की थी।
5. सर एम वी ने विशाखापत्तनम बंदरगाह को समुद्री कटाव से बचाने के लिए एक प्रणाली विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
6. वह मैसूर साबुन कारखाने, मैसूर आयरन एंड स्टील वर्क्स (भद्रावती), श्री जयचामाराजेंद्र पॉलिटेक्निक संस्थान, बैंगलोर कृषि विश्वविद्यालय और स्टेट बैंक ऑफ मैसूर की स्थापना के लिए जिम्मेदार थे।
7. सर एमवी को अखंड 50 वर्षों के लिए लंदन इंस्टीट्यूशन ऑफ सिविल इंजीनियर्स की मानद सदस्यता से सम्मानित किया गया था।
8. सर एम वी ने 1909 में मैसूर राज्य के मुख्य इंजीनियर के रूप में और 1912 में मैसूर रियासत के दीवान के रूप में कार्य किया, इस पद पर वे सात वर्षों तक रहे। दीवान के रूप में, उन्होंने राज्य के समग्र विकास में बहुत बड़ा योगदान दिया।
9. उन्होंने मैसूर राज्य में कई नई रेलवे लाइनों को भी चालू किया था।
10. सर विशेश्वरैया ने 1895 में सुक्कुर नगर पालिका के लिए वाटरवर्क्स का डिजाइन और संचालन किया था। उन्हें ब्लॉक सिस्टम के विकास का भी श्रेय दिया जाता है जो बांधों में पानी के व्यर्थ प्रवाह को रोकेगा।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Sir M Visvesvaraya, one of the most eminent engineers of India, was born on 15 September 1860. Today, on the occasion of his 162nd birthday, which is also celebrated as Engineer's Day, let us know about some of the famous achievements of Mokshagundam Visvesvaraya. Let us tell you that he had planned the Indian economy in 1934. Whereas in 1955, he was awarded the Bharat Ratna, the highest honor of independent India, for his work in the fields of engineering and education.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X