Birju Maharaj Biography पंडित बिरजू महाराज की जीवनी

By Careerindia Hindi Desk

Birju Maharaj Biography Death Wife Age Daughter Family Dance News कथक सम्राट पंडित बिरजू महाराज का निधन 17 जनवरी 2022 को दिल का दौरा पड़ने से हो गया, उनकी उम्र 83 वर्ष की थी। बिरजू महाराज का जन्म 4 फरवरी 1938 को इलाहाबाद के ब्राह्मण परिवार में हुआ। भारत के सबसे प्रसिद्ध कथककार पंडित बिरजू महाराज लखनऊ के कालका-बिंदादीन घराने से तालुकात रखते थे। पंडित बिरजू महाराज का असली नाम ब्रिज मोहन नाथ मिश्रा था, उनके पिता का नाम अचन महाराज और माता का नाम अम्मा जी महाराज था। उनके परिवार में पांच बच्चे, तीन बेटियां और दो बेटे और पांच पोते-पोतियां हैं। पंडित बिरजू महाराज देश के दूसरे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म विभूषण के प्राप्तकर्ता हैं, वह भारत के सबसे प्रसिद्ध कलाकारों में से एक थे। बिरजू महाराज भी एक उत्कृष्ट गायक भी थे, उनकी ठुमरी, दादरा, भजन और ग़ज़ल पर भी अच्छी कमान थी। वह तबला बजाने की भी शौक़ीन थे।

 
Birju Maharaj Biography पंडित बिरजू महाराज की जीवनी

पंडित बिरजू महाराज पिछले एक महीने से डायलिसिस का इलाज करवा रहे थे। इसकी पुष्टि करते हुए, उनकी पोती रागिनी महाराज ने कहा कि पंडित जी किडनी और मधुमेह के कारण पिछले एक महीने से उपचार चल रहे थे, लेकिन सोमवार को कार्डियक अरेस्ट से उनकी मृत्यु हो गई। पंडित बिरजू महाराज लोगों के बीच काफी लोकप्रिय थे, वह हमेशा अपने परिवार और शिष्यों के साथ रहते थे। रविवार देर रात बिरजू महाराज अपने पोते के साथ खेल रहे थे, तभी उनकी तबीयत बिगड़ गई और वह बेहोश हो गए। उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

बिरजू महाराज की पोती रागिनी एक कथक नर्तक हैं, उन्होंने कहा कि जब यह हुआ तब वह हमारे साथ थे। उन्होंने अपना खाना खाया और हम 'अंताक्षरी' खेल रहे थे, क्योंकि उन्हें पुराने गीत बहुत पसंद थे। वह लेटे हुए थे और अचानक तेज तेज की सांस लेने लगे। हमें लगा, यह कार्डियक अरेस्ट है, क्योंकि वह एक हृदय रोगी भी है। उनके दो शिष्य और उनकी दो पोतियां, मेरी छोटी बहन यास्यश्विनी और मैं उनके साथ ही थे। वह अपने अंतिम क्षणों में हंस रहे थे। बिरजू महाराज कथक नर्तकियों के महाराज परिवार के वंशज थे, जिसमें उनके दो चाचा, शंभू महाराज और लच्छू महाराज, और उनके पिता और गुरु, अचन महाराज शामिल हैं।

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पंडित बिरजू महाराज के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि भारतीय नृत्य कला को विश्वभर में विशिष्ट पहचान दिलाने वाले पंडित बिरजू महाराज जी के निधन से अत्यंत दुख हुआ है। उनका जाना संपूर्ण कला जगत के लिए एक अपूरणीय क्षति है। शोक की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिजनों और प्रशंसकों के साथ हैं। ओम शांति!

भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी संवेदनाएं व्यक्त करते हुए कहा कि महान पंडित बिरजू महाराज का निधन एक युग के अंत का प्रतीक है। जिसके कारण भारतीय संगीत और सांस्कृतिक स्थान गहरी क्षति पहुंची है। वह कथक को विश्व स्तर पर लोकप्रिय बनाने में अद्वितीय योगदान देकर, लोगों के लिए एक मिसाल बने। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति संवेदना।

भारत के उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने पंडित बिरजू महाराज के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि महान कथक नर्तक, पंडित बिरजू महाराज के निधन से गहरा दुख हुआ। अपनी अनूठी शैली से विश्व प्रसिद्ध कथक प्रतिपादक दुनिया भर में एक संस्था और प्रेरणा थे। उनका निधन कला जगत के लिए अपूरणीय क्षति है।

ISRO Chief S Somanath Biography कौन है इसरो चीफ एस सोमनाथ, जानिए 10 बड़ी बातें

Chhattisgarh Colleges Closed छत्तीसगढ़ में कॉलेज बंद, ऑनलाइन परीक्षा के दिशानिर्देश जारी

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Birju Maharaj Biography Death Wife Age Daughter Family Dance News: Kathak emperor Pandit Birju Maharaj died on 17 January 2022 due to a heart attack, he was 83 years old. Birju Maharaj was born on 4 February 1938 in a Brahmin family of Allahabad. Pandit Birju Maharaj, the most famous Kathakkar of India, belonged to the Kalka-Bindadin gharana of Lucknow. Pandit Birju Maharaj's real name was Brij Mohan Nath Mishra, his father's name was Achan Maharaj and mother's name was Amma Ji Maharaj.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X