वीर सावरकर जयंती: सावरकर के बारे में रोचक तथ्य

वीर सावरकर भारत के स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में एक महान क्रांतिकारी थे। वह एक महान वक्ता, विद्वान, विपुल लेखक, इतिहासकार, कवि, दार्शनिक और सामाजिक कार्यकर्ता थे। उनका वास्तविक नाम विनायक दामोदर सावरकर था। उनका जन्म 28 मई, 1883 को नासिक के पास भागपुर गांव में हुआ था। सावरकर ने बहुत कम उम्र में अपने पिता दामोदरपंत सावरकर और माँ राधाबाई को खो दिया था।

 

वीर सावरकर ने 'मित्र मेला' के नाम से एक संगठन की स्थापना की, जिसने भारत की "पूर्ण राजनीतिक स्वतंत्रता" के लिए लड़ने के लिए प्रभावित किया। मित्र मेला सदस्यों ने नासिक में प्लेग के पीड़ितों की सेवा की। बाद में उन्होंने "मित्र मेला" को "अभिनव भारत" कहा और "भारत को स्वतंत्र होना चाहिए" घोषित किया। भारत में बहुत कम लोग जानते हैं कि वीर सावरकर ने भारत में अस्पृश्यता के खिलाफ सबसे शक्तिशाली सामाजिक सुधार आंदोलनों में से एक की शुरुआत की थी। वीर सावरकर एक बहुआयामी व्यक्तित्व थे - वे एक स्वतंत्रता सेनानी, समाज सुधारक, लेखक, और राजनीतिक विचारक थे।

वीर सावरकर जयंती: सावरकर के बारे में रोचक तथ्य

वीडी सावरकर के बारे में रोचक तथ्य

• सावरकर बचपन से ही वे हिंदुत्व के हिमायती थे। प्रसिद्ध लेखक ज्योतिर्मय शर्मा ने अपनी पुस्तक "हिंदुत्व: एक्सप्लोरिंग द आइडिया ऑफ हिंदू नेशनलिज्म" में प्रदर्शित किया कि जब सावरकर 12 साल के थे, तो उन्होंने अपने हिंदुओं पर अत्याचारों का बदला लेने के लिए अपने सहपाठियों को मस्जिद में तोड़फोड़ करने के लिए प्रेरित किया था।
• 1911 में, सावरकर को मॉर्ले-मिंटो सुधारों (भारतीय परिषद अधिनियम 1909) के खिलाफ विद्रोह करने के लिए अंडमान की सेलुलर जेल, जिसे काला पानी के नाम से भी जाना जाता है, उसमें 50 साल की सजा सुनाई गई थी। राजनीति में भाग न लेने के लिए कई दया याचिकाओं के बाद, उन्हें 1924 में रिहा कर दिया गया।
• हिंदुत्व के प्रचारक होने के बावजूद भी वे कभी भी गौ-पूजक नहीं रहे बल्कि लोगों को वो उनकी देखभाल करने के प्ररित करते थे। वे गोमूत्र के सेवन के भी खिलाफ थे।
• हिन्दू महासभा राजनीतिक दल के अध्यक्ष के रूप में कार्य करते हुए, उन्होंने 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन का विरोध किया। वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और भारत के विभाजन की स्वीकृति के आलोचक थे।
• जेल से छूटने के बाद उन्होंने रत्नागिरी में अस्पृश्यता उन्मूलन पर काम किया।
• अपनी पुस्तक 'द हिस्ट्री ऑफ द वार ऑफ इंडियन इंडिपेंडेंस' में उन्होंने 1857 के विद्रोह की परिस्थितियों का विश्लेषण किया। सावरकर अंग्रेजों के खिलाफ स्वतंत्रता के लिए भारत के पहले लेखक थे जिन्होंने युद्ध का आह्वान किया था।
• सावरकर महात्मा गांधी के आलोचक भी थे और उन्हें 'पाखंडी' कहते थे। 1948 में, उन्हें महात्मा गांधी की हत्या में सह-साजिशकर्ता के रूप में आरोपित किया गया था, हालांकि, उनके खिलाफ सबूतों की कमी के कारण उन्हें अदालत ने रिहा कर दिया था।
• सन् 2002 में अंडमान और निकोबार की राजधानी पोर्ट ब्लेयर स्थित अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे का नाम वीर सावरकर के नाम पर ऱखा गया।
• 1964 में, उन्होंने महसूस किया कि भारत की स्वतंत्रता का उनका लक्ष्य प्राप्त हो गया है और उन्होंने समाधि प्राप्त करने की अपनी इच्छा की घोषणा की। उन्होंने 1 फरवरी, 1966 को भूख हड़ताल शुरू की और 26 फरवरी, 1966 को उनका निधन हो गया।

 

सावरकर चाहते थे हिंदू राष्ट्र

वीर सावरकर स्व-घोषित नास्तिक होने के बावजूद भी उन्होंने हिंदू धर्म की अवधारणा को पूरे दिल से प्रोत्साहित किया था क्योंकि वे हिंदू धर्म को एक राजनीतिक और सांस्कृतिक पहचान के रूप में मानते थे, न कि केवल एक धर्म के रूप में। उनके पास हमेशा 'हिंदू राष्ट्र' या संयुक्त भारत बनाने का एक दृष्टिकोण था जिसमें हिंदू, जैन, बौद्ध और सिख समुदाय शामिल थे।
सावरकर की दृष्टि "हिंदू धर्म" की अवधारणा को लोकप्रिय बनाने की थी। वह लोगों में हिंदूत्व की भावना पैदा करना चाहते थे जो कि उन्होंने अपने भाषणों और लेखन के माध्यम से ऐसा किया था। उनकी विचारधारा जातिगत भेदभाव और अन्य तत्वों से मुक्त थी जिसने सभी हिंदुओं को खंडित कर दिया। उन्होंने अपने विश्वास पर कई किताबें लिखीं और वे हमेशा से ही भारत को अंग्रेजों के चंगुल से आजाद कराना चाहते थे।
सावरकर का राजनीतिक दर्शन काफी अनूठा था क्योंकि इसमें विभिन्न नैतिक, धार्मिक और दार्शनिक सिद्धांतों के तत्व थे। दूसरे शब्दों में, उनका राजनीतिक दर्शन मूल रूप से मानवतावाद, तर्कवाद, सार्वभौमिकता, प्रत्यक्षवाद, उपयोगितावाद और यथार्थवाद का मिश्रण था। उन्होंने भारत की कुछ सामाजिक बुराइयों के खिलाफ भी काम किया, जैसे कि जातिगत भेदभाव और अस्पृश्यता जो उनके समय में प्रचलित थी।

भारत छोड़ो आंदोलन की प्रतिक्रिया

हिन्दू महासभा ने सावरकर के नेतृत्व में भारत छोड़ो आंदोलन का सार्वजनिक रूप से विरोध और बहिष्कार किया। सावरकर ने "स्टिक टू योर पोस्ट्स" शीर्षक से एक पत्र भी लिखा, जिसमें उन्होंने हिंदू सभाओं को सलाह दी जो "नगर पालिकाओं, स्थानीय निकायों, विधायिकाओं, या सेना में सेवा करने वालों के सदस्य थे" देश भर में "अपने पदों पर बने रहें"।

मुस्लिम लीग और अन्य के साथ संबंध

• 1937 के भारतीय प्रांतीय चुनावों में, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने मुस्लिम लीग और हिंदू महासभा को बड़े अंतर से हराया। 1939 में, हालांकि, भारतीय लोगों से परामर्श किए बिना, वायसराय लॉर्ड लिनलिथगो के द्वितीय विश्व युद्ध में भारत को जुझारू घोषित करने के फैसले के विरोध में कांग्रेस मंत्रालयों ने इस्तीफा दे दिया। सावरकर की अध्यक्षता में, हिंदू महासभा ने कुछ प्रांतों में सरकार बनाने के लिए मुस्लिम लीग और अन्य दलों के साथ सेना में शामिल हो गए। सिंध, एनडब्ल्यूएफपी और बंगाल सभी ने गठबंधन सरकारें बनाई हैं।
• सिंध में हिंदू महासभा के सदस्य गुलाम हुसैन हिदायतुल्ला की मुस्लिम लीग सरकार में शामिल हो गए। सावरकर के शब्दों में, "इस तथ्य का गवाह है कि हाल ही में सिंध में, सिंध-हिंदू-सभा ने गठबंधन सरकार चलाने वाली लीग के साथ हाथ मिलाने का निमंत्रण स्वीकार किया।"
• 1943 में, हिंदू महासभा के सदस्यों ने मुस्लिम लीग के सरदार औरंगजेब खान के साथ मिलकर उत्तर-पश्चिम सीमा प्रांत में सरकार बनाई। वित्त मंत्री मेहर चंद खन्ना कैबिनेट के महासभा सदस्य थे।
• दिसंबर 1941 में, हिंदू महासभा बंगाल में फजलुल हक की प्रगतिशील गठबंधन सरकार में शामिल हो गई, जिसका नेतृत्व कृषक प्रजा पार्टी ने किया था। सावरकर ने गठबंधन सरकार की कुशलता से काम करने की क्षमता की सराहना की।

सावरकर की प्रमुख कृतियां और रचनाएं

सावरकर की सबसे महत्वपूर्ण साहित्यिक कृतियों में 'माजी जन्मथेप,' 'कमला' और 'इंडियन वॉर ऑफ इंडिपेंडेंस' शामिल हैं। उनकी कई रचनाएं उनके जेल में बिताए हुए समय से प्रेरित है। जिनमें से एक पुस्तक है 'काले पानी' जो कि अंडमान और निकोबार द्वीप समूह की कुख्यात सेलुलर जेल में भारतीय स्वतंत्रता कार्यकर्ताओं के संघर्षों का वर्णन करती है। उन्होंने 'गांधी गोंधल' शीर्षक नामक पुस्तक में महात्मा गांधी की राजनीति कि आलोचना भी की हैं। सावरकर को 'जयोस्तुत' और 'सागर प्राण तलमलाला' जैसी विभिन्न कविताओं को लिखने के लिए भी जाना जाता है। उन्हें कई नवशास्त्रों का श्रेय भी दिया जाता है, जैसे 'हुतात्मा, 'दिग्दर्शक,' 'दूरध्वनी,' 'संसद,' 'टंकलेखान,' 'सप्तहिक,' 'महापुर,' और 'शतकर' आदि।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Veer Savarkar was a great revolutionary in the history of India's freedom struggle. He was a great orator, scholar, prolific writer, historian, poet, philosopher and social worker.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X