राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस: कब और क्यों मनाया जाता है नेशनल डॉक्टर्स डे

प्रत्येक वर्ष भारत में डॉ बिधान चंद्र राय की जयंती के अवसर पर 1 जुलाई को राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाया जाता है। डॉ बिधान चंद्र राय एक प्रख्यात चिकित्सक, शिक्षाविद, स्वतंत्रता सेनानी और राजनीतिज्ञ थे जो कि भारत को आजादी मिलने के बाद पश्चिम बंगाल के पहले मुख्यमंत्री बने थे। बता दें कि सन् 1961 में बिधान चंद्र राय को भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

 
कब और क्यों मनाया जाता है नेशनल डॉक्टर्स डे

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस का महत्व

• कोविड प्रकोप के दौरान, चिकित्सा डॉक्टरों और कर्मचारियों ने 24x7 काम किया, अपनी और अपने परिवार की जान जोखिम में डालकर कई लोगों की जान बचाने की कोशिश की। उन्होंने अपने बारे में सोचने के बजाय देश को सबसे पहले रखा और भारत को बचाने का फैसला किया।
• यह दिन केवल राष्ट्र की प्रगति में डॉक्टरों की भूमिका को स्वीकार करने के लिए मनाया जाता है। उनकी उच्च भावना और समर्पण और प्यार के लिए यश है कि वे संकट की घड़ी में काम करते रहे।

नेशनल डॉक्टर्स डे का इतिहास

• पहली बार डॉक्टर्स डे मार्च 1933 में जॉर्जिया, संयुक्त राज्य अमेरिका में मनाया गया।
• डॉक्टरों को कार्ड देकर और मरने वाले डॉक्टरों और चिकित्सकों की कब्रों पर फूल चढ़ाकर दिन मनाया गया।
• भारत में पहला राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस 1991 में डॉ बिधान चंद्र रॉय को सम्मानित करने के लिए मनाया गया था, जिन्होंने चित्तरंजन कैंसर अस्पताल और चित्तरंजन सेवा सदन जैसे संस्थानों की स्थापना की थी।

 

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस कोट्स

• "खुद को खोजने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप खुद को दूसरों की सेवा में खो दें" -महात्मा गांधी
• "भविष्य का डॉक्टर कोई दवा नहीं देगा, लेकिन अपने रोगियों को मानव शरीर की देखभाल, आहार में और बीमारी के कारण और रोकथाम में रुचि देगा।" - थॉमस एडिसन
• मैं एक डॉक्टर हूँ - यह एक ऐसा पेशा है जिसे एक विशेष मिशन, एक भक्ति माना जा सकता है। यह अन्य सभी लोगों की मदद करने के लिए भागीदारी, सम्मान और इच्छा का आह्वान करता है। -ईवा कोपाक्ज़ू
• "अवलोकन, कारण, मानवीय समझ, साहस; ये चिकित्सक बनाते हैं।" -मार्टिन एच फिशर
• "सफेद कोट को गरिमा और गर्व के साथ पहनें, एक चिकित्सक के रूप में जनता की सेवा करना एक सम्मान और सौभाग्य की बात है।" -बिल एच. वॉरेन

कौन थे डॉ बिधान चंद्र राय

• डॉ राय का जन्म पटना में स्थित बांकीपुर में 1 जुलाई, 1882 को हुआ था।
• डॉ बी.सी. राय एक चिकित्सक, एक स्वतंत्रता सेनानी, एक शिक्षाविद् के साथ-साथ एक राजनीतिज्ञ भी थे।
• डॉ राय ब्रह्म समाज के अनुयायी थे। उन्होंने बंगाल में सविनय अवज्ञा आंदोलन (1930 में शुरू हुआ) का भी नेतृत्व किया।
• डॉ. बिधान राय ने पश्चिम बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री के रूप में कार्यभार संभाला था।
• उन्हें 1961 में देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।
• बी.सी. राय राष्ट्रीय पुरस्कार 1976 में उनके नाम पर चिकित्सा, राजनीति, विज्ञान, दर्शन, साहित्य और कला के क्षेत्र में काम करने के लिए स्थापित किया गया था।
• डॉ बी.सी. राय का निधन 1 जुलाई 1962 को कलकत्ता में हुआ था।

भारतीय चिकित्सा संघ (आईएमए)

• आईएमए भारत में चिकित्सकों का एक राष्ट्रीय स्वैच्छिक संगठन है, जो डॉक्टरों के हितों और बड़े पैमाने पर समुदाय की भलाई का ख्याल रखता है।
• भारतीय चिकित्सा संघ की स्थापना 1928 में हुए जिसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है।
• 1946 में IMA ने वर्ल्ड मेडिकल एसोसिएशन (WMA) के संगठन में मदद की। जिसके बाद वो इसके संस्थापक सदस्य बने। बता दें कि WMA का मुख्यालय फ्रांस में स्थित है।

डॉ बिधान चंद्र राय की जीवनी

• डॉ बिधान राय का जन्म पटना बंगाल प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत में 1882 में हुआ था। अगर उनकी शिक्षा की बात की जाए तो उन्होंने पहले गणित में स्नातक किया और जिसके बाद उन्होंने कलकत्ता विश्वविद्यालय में चिकित्सा का अध्ययन किया। उच्च लक्ष्य रखते हुए वह लंदन के प्रतिष्ठित सेंट बार्थोलोम्यू अस्पताल में भर्ती होने के लिए इंग्लैंड गए, लेकिन एशियाई महाद्वीप से आने के कारण शुरू में उन्हें प्रवेश से वंचित कर दिया गया। बहरहाल, 30 प्रयासों के बाद, आखिरकार उनका प्रवेश स्वीकृत हो गया।
• डॉ बिधान राय शुरूआत में लंदन के प्रमुख संस्थान में प्रवेश से वंचित कर दिया गया था। जिसके बाद 1911 में पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद वो रॉयल कॉलेज ऑफ फिजिशियन (MRCP) के सदस्य बने और फिर रॉयल कॉलेज ऑफ सर्जन्स (FRCS) का फेलो भी बने।
• जब बंगाल के विभाजन की घोषणा की गई, तब भी डॉ राय कलकत्ता में चिकित्सा कर रहे थे। कहा जाता है कि आंदोलन में शामिल होने के आग्रह का विरोध करते हुए, युवा डॉक्टर ने अपने पेशे में महारत हासिल करके योगदान देने की उम्मीद में अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित किया।
• लंदन से लौटने के बाद, डॉ राय स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल हो गए, अपने अल्मा मेटर में दवा पढ़ाने चले गए, जहां वे अंततः कुलपति बने। वह 1925 में राजनीति में शामिल हुए और पश्चिम बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री (1948-62) के रूप में कार्य किया।
• डॉ रॉय महात्मा गांधी के निजी चिकित्सकों में से एक और एक अच्छे दोस्त के रूप में जाने जाते थे। साथ ही उन्हें पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू का चिकित्सा सलाहकार भी कहा जाता था।
• भारत ने 1961 में डॉ राय को भारत रत्न से सम्मानित किया। डॉ राय का उनके 80 वें जन्मदिन पर 1 जुलाई, 1962 को निधन हो गया। हालांकि निधन से पहले उन्होंने अपनी मां अघोरकामिनी देवी के नाम पर एक नर्सिंग होम में परिवर्तित होने के लिए अपना घर दान कर दिया था।
• पहला राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस जुलाई 1991 में मनाया गया था। भारत में, यह दिन डॉ. बिधान चंद्र रॉय की जयंती के साथ-साथ उनकी पुण्यतिथि भी है। वह भारत के सबसे प्रसिद्ध चिकित्सकों और पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री में

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
National Doctor's Day is celebrated every year in India on 1st July to mark the birth anniversary of Dr. Bidhan Chandra Rai. Dr. Bidhan Chandra Rai was an eminent physician, educationist, freedom fighter and politician who was the first Chief Minister of West Bengal after India gained independence. Let us inform that in the year 1961, Bidhan Chandra Rai was awarded the Bharat Ratna.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X