पंडित जवाहरलाल नेहरू जीवनी: Jawaharlal Nehru in Hindi

भारत के पहले और सबसे लंबे समय तक प्रधानमंत्री पद पर रहने वाले पंडित जवाहरलाल नेहरू एक दूरदर्शी व्यक्ति थे। पंडित जवाहरलाल नेहरू को आधुनिक भारत का वास्तुकार भी कहा जाता है। महात्मा गांधी की विचारधारा से प्रेरित होने वाले जवाहरलाल नेहरू भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के नेताओं में से एक थे। वह उन वरिष्ठ नेताओं में से एक थे जिन्होंने रैलियों का आयोजन किया और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के साथ जनता को प्रशासित किया। उन्हें आधुनिक भारतीय राष्ट्र- एक संप्रभु, समाजवादी, धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक गणराज्य का निर्माता भी माना जाता है।

 

जवाहरलाल नेहरू को कुछ लोग 'चाचा' नेहरू के नाम से भी पूकारते हैं। भारत की अधिकांश विदेश नीतियों को उन्होंने ही डिजाइन किया था। आजादी के बाद 1947 में, जवाहरलाल नेहरू लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने वाले पहले व्यक्ति बने। नेहरू की पहली प्रतिबद्धता भारत को एक आत्मनिर्भर अर्थव्यवस्था बनाने की थी। नतीजतन, उन्होंने आधुनिक शिक्षा और विशाल सार्वजनिक क्षेत्र के उद्योगों की स्थापना कि जो एक बढ़ते राष्ट्र और उसके लोगों की जरूरतों को पूरा करते थे।

पंडित जवाहरलाल नेहरू जीवनी

पंडित जवाहरलाल नेहरू जीवनी एक नजर में

• जवाहर लाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर, 1889 को इलाहाबाद (प्रयागराज) में एक कश्मीरी पंडित परिवार में हुआ। उनके पिता का नाम पंडित मोतीलाल नेहरू था जो कि एक वकील थे और उनकी माता का नाम स्वरूप रानी था।
• भारत में प्रत्येक वर्ष 14 नवंबर को जवाहर लाल नेहरू की जयंती बाल दिवस के रूप में मनाई जाती है।
• पंडित नेहरू का 27 मई, 1964 को दिल का दौरा पड़ने से निधन हुआ था। जिसमें की उनके दाह संस्कार को देखने के लिए लगभग 15 लाख लोग एकत्र हुए।
• 16 साल की उम्र तक नेहरू के पिता ने उन्हें घर पर ही प्राइवेट गवर्नेस और ट्यूटर्स से शिक्षा दिलवाई थी।
• वे अक्टूबर 1907 में कैम्ब्रिज के ट्रिनिटी कॉलेज गए और 1910 में प्राकृतिक विज्ञान में ऑनर्स की डिग्री के साथ स्नातक की उपाधि प्राप्त की।
• 1910 में अपनी डिग्री पूरी करने के बाद, नेहरू लंदन चले गए और इनर टेम्पल इन में कानून की पढ़ाई की।
• अगस्त 1912 में भारत लौटने के बाद, उन्होंने इलाहाबाद उच्च न्यायालय के एक वकील के रूप में अपना नामांकन कराया।
• 1916 में पंडित नेहरू का विवाह कमला नेहरू से हुआ।
• वह एनी बीसेंट के बहुत बड़े प्रशंसक और समर्थक थे और 1916 में वे एनी बेसेंट द्वारा स्थापित होम रूल लीग के सदस्य बने।
• 1919 में ब्रिटिश साम्राज्यवाद से लड़ने की महात्मा गांधी की विचारधारा से प्रेरित होकर नेहरू भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए जो अंग्रेजों से अधिक स्वायत्तता के लिए लड़ रही थी।
• 1920 और 1930 के दशक के दौरान नेहरू को सविनय अवज्ञा के लिए अंग्रेजों द्वारा बार-बार कैद किया गया था।
• 1927 में, वह पूर्ण राष्ट्रीय स्वतंत्रता का विचार देने वाले और आईसीएस सहित ब्रिटिश साम्राज्य से भारतीयों को सभी संबंधों से जोड़ने वाले पहले व्यक्ति बने थे।
• 1928 में वे कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए और 1929 में, नेहरू कांग्रेस अध्यक्ष के पद पर आसीन हुए और तब से कांग्रेस के नेतृत्व में स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
• 31 दिसंबर, 1929 को नेहरू ने लाहौर में विशाल जनसभाओं और कांग्रेस के स्वयंसेवकों के सामने भारतीय तिरंगा फहराया।
• सन् 1935 में, उन्होंने जेल में अपनी आत्मकथा लिखी। नेहरू द्वारा "टुवर्ड फ्रीडम" शीर्षक से लिखी गई पुस्तक वर्ष 1936 में यूएसए में प्रकाशित हुई थी।
• भारत के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान पंडित जवाहरलाल नेहरू 9 बार जेल गए। नेहरू को कुल 3259 दिनों के लिए अंग्रेजों ने जेल में डाला गया था, जो उनके जीवन के 9 साल जेल में बिताए गए थे।
• 15 अगस्त 1947 को नेहरू स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री बने। उन्होंने 1964 में अपनी मृत्यु तक इस पद पर रहे। उन्होंने उदारवादी समाजवादी आर्थिक सुधारों को लागू किया और भारत को औद्योगीकरण की नीति के लिए प्रतिबद्ध किया।
• भारत के प्रथम प्रधानमंत्री के रूप में जाने वाले नेहरू एक राजनेता, बुद्धिजीवी और विद्वान थे। अर्थव्यवस्था, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, अंतर्राष्ट्रीय संबंधों और शिक्षा पर उनकी नीतियों ने देश के भविष्य के पाठ्यक्रम को डिजाइन किया था।
• नेहरू ने 'द डिस्कवरी ऑफ इंडिया', 'ग्लिम्प्सेज ऑफ वर्ल्ड हिस्ट्री' और उनकी आत्मकथा 'टुवार्ड फ्रीडम' सहित कई किताबें लिखीं। उन्होंने अपनी बेटी इंदिरा गांधी को लिखे पत्रों का एक संग्रह 'लेटर्स फ्रॉम अ फादर टू हिज डॉटर' नामक पुस्तक के रूप में प्रकाशित किया था।
• उनकी दो छोटी बहनें थी, नेहरू से छोटी बहन विजया लक्ष्मी पंडित संयुक्त राष्ट्र महासभा की पहली महिला अध्यक्ष थीं और उनकी सबसे छोटी बहन कृष्णा हुथीसिंग एक प्रसिद्ध लेखिका बनीं।
• द्वितीय विश्व युद्ध के अंत तक, नेहरू को गांधी के उत्तराधिकारी के रूप में मान्यता दी गई थी। उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता पर बातचीत में केंद्रीय भूमिका निभाई। उन्होंने धर्म के आधार पर भारत के विभाजन पर मुस्लिम लीग के आग्रह का विरोध किया। अंतिम ब्रिटिश वायसराय लुई माउंटबेटन ने विभाजन को सबसे तेज़ और सबसे व्यावहारिक समाधान के रूप में वकालत की और नेहरू अनिच्छा से सहमत हुए।
• नेहरू ने भारत के विदेश मंत्री के रूप में भी कार्य किया। अक्टूबर 1947 में, उन्हें कश्मीर राज्य पर पाकिस्तान के साथ संघर्ष का सामना करना पड़ा, जो स्वतंत्रता पर विवादित था। नेहरू ने भारत के दावे का समर्थन करने के लिए राज्य में सेना भेजी।
• जवाहरलाल नेहरू को 1950 से 1955 तक शांति के लिए 11 बार नोबल पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया था, लेकिन उन्हें नोबेल से एक भी पुरस्कार नहीं मिला।
• शीत युद्ध की पृष्ठभूमि के खिलाफ, नेहरू ने भारत के लिए 'सकारात्मक तटस्थता' की नीति विकसित की। वह अफ्रीका और एशिया के गुटनिरपेक्ष देशों के प्रमुख प्रवक्ताओं में से एक बन गए, जिनमें से कई पूर्व उपनिवेश थे जो किसी भी बड़ी शक्ति पर निर्भरता से बचना चाहते थे।
• दोनों देशों के सहयोग के प्रयासों के बावजूद, 1962 में भारतीय-चीनी सीमा विवाद युद्ध में बदल गया और भारतीय सेना को निर्णायक रूप से पीटा गया। इसका नेहरू के गिरते स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा। 27 मई 1964 को उनका निधन हो गया।
• दो साल बाद नेहरू की बेटी इंदिरा गांधी प्रधानमंत्री बनीं। केवल तीन साल तक वे प्रधानमंत्री पद पर रही जिस दौरान 1984 में अपनी हत्या कर दी गई। उनके बेटे राजीव गांधी 1984 से 1989 तक भारत के प्रधान मंत्री थे, लेकिन उनकी भी हत्या कर दी गई थी।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Pandit Jawaharlal Nehru, the first Prime Minister of India, was born on 14 November 1889 in Allahabad (Prayagraj) in a Kashmiri Pandit family.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X