Independence Day 2021: भारत पाकिस्तान का स्वतंत्रता दिवस एक ही दिन, स्वतंत्रता दिवस से जुड़ी 5 बड़ी बातें

By Careerindia Hindi Desk

15 अगस्त 1947 की मध्य रात्रि को भारत अंग्रेजी शासन से मुक्त हुआ और भारत में एक नए युग की शुरुआत हुई। तब से हर साल 15 अगस्त को भारत में स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। लेकिन इस आजादी के लिए भारत के कई वीर जवानों ने अपना खून दिया और भारत को ब्रिटिश राज से मुक्त करवाया। स्वतंत्रता सेनानियों के बिलदान की कहानी हर किसी को पता होनी चाहिए। आइये जानते हैं स्वतंत्रता दिवस से जुड़ी 5 बड़ी बातें।

 
Independence Day 2021: स्वतंत्रता दिवस से जुड़ी 5 बड़ी बातें, बहुत कम लोग जानते हैं इनके बारे में

1. स्वतंत्रता की तारीख
यह बहुत कम लोग जानते हैं कि 15 अगस्त 1947 यानि भारत के स्वतंत्रता दिवस की तारिख का चयन बहुत विचार के साथ किया गया था। दरअसल यह तारिख माउंटबेटन के घमंड को तोड़ने करने के लिए चुनी गई थी। अंग्रेजों ने 200 साल तक भारत पर अपना राज स्थापति किया, लेकिन द्वितीय विश्व युद्ध में वह बुरी तरह बर्बाद हुए और फिर वह इससे बाहर निकलना चाहते थे। जब अंतिम ब्रिटिश वायसराय लॉर्ड माउंटबेटन से पूछा गया कि उन्होंने भारतीयों को सत्ता सौंपने के लिए 15 अगस्त का दिन क्यों चुना? तब उन्होंने कहा कि मैं कई चीजों को लेकर असमंजस में था, अगस्त और सितम्बर को लेकर मेरे दिमाग में जापान के आत्मसमर्पण की दूसरी बरसी को लेकर कुछ चल रहा था। फिर अचानक मैंने 15 अगस्त के लिए हस्ताक्षर कर दिए। क्योंकि 15 अगस्त 1945 को जापान ने दो परमाणु बमों द्वारा कुचले जाने के बाद आत्मसमर्पण कर दिया था।

2. आजादी के बाद विभाजन
यह सर्वविदित था कि पंजाब को विभाजित करने से स्थिति लगभग निश्चित रूप से बढ़ जाएगी। दरअसल इसका उद्देश्य स्वतंत्रता से पहले विभाजन की घोषणा करना था, ताकि कोई भी पलायन करना चाहे तो उसके लिए रास्ता निकले। उस वक्त के पंजाब के गवर्नर इवान जेनकिंस ने 15 अगस्त से पहले माउंटबेटन को बाउंड्री बनाने के लिए पत्र लिखा। जिसको ध्यान में रखते हुए सर सिरिल रैडक्लिफ ने 9 अगस्त तक सीमा तैयार कर ली थी। लेकिन माउंटबेटन ने 17 अगस्त तक पुरस्कार प्रकाशित करने से इनकार कर दिया। और फिर 15 अगस्त की सुबह जब भारत आजाद हुआ तो उन्हें यह नहीं पता था कि वह भारत के नागरिक हैं या पाकिस्तान के। जिसके बाद कई दिनों तक हिंसाएं होती रही।

 

3. पाकिस्तान का स्वतंत्रता दिवस
भले ही पाकिस्तान 14 अगस्त को अपना स्वतंत्रता दिवस मनाता है, लेकिन आधिकारिक तौर पर देखें तो 15 अगस्त को ही पाकिस्तान का स्वतंत्रता होता है। भारत की स्वतंत्रता अधिनियम बिल्कुल स्पष्ट है जब इसके राज्यों में कहा गया है कि 15 अगस्त 1947 भारत में दो स्वतंत्र डोमिनियन स्थापित किए जाएंगे। जिन्हें क्रमशः भारत और पाकिस्तान के रूप में जाना जाएगा। वास्तव में, पाकिस्तान ने जो पहला डाक टिकट छापा था, उस पर स्वतंत्रता की तारीख के रूप में "15 अगस्त 1947" लिखा हुआ था। पाकिस्तान में, हालांकि, इस तारीख को बाद में 1948 में 14 अगस्त कर दिया गया था। कुछ लोग सोचते हैं कि ऐसा इसलिए था क्योंकि माउंटबेटन ने 14 अगस्त, 1947 को कराची में राजा की स्वतंत्रता का संदेश दिया था। जबकि कई लोग मानते हैं कि यह इसलिए था क्योंकि 14 अगस्त, 1948, में अत्यंत पवित्र था, क्योंकि इस दिन रमजान का 27वां दिन था। जबकि कुछ लोग कहते हैं कि ऐसे इसलिए है क्योंकि पाकिस्तान सिर्फ भारत से एक दिन आगे रहना चाहता था।

4. पूर्ण स्वराज का सच
कांग्रेस की प्रतिमा में, उसके 1930 के पूर्ण स्वराज प्रस्ताव का विशेष स्थान है। यह पहली बार था जब पार्टी ने प्रभुत्व की स्थिति से आगे बढ़ते हुए पूर्ण स्वतंत्रता को अपने लक्ष्य के रूप में घोषित किया था। जब भारत ने 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्रता प्राप्त की, तब किंग जॉर्ज VI भारत के राजा थे। हालांकि, भारत ने 26 जनवरी, 1950 को एक गणतंत्र बनकर राजशाही को समाप्त कर दिया। पाकिस्तान 1956 तक एक प्रभुत्व बना रहा। नतीजतन, 1953 में जब एलिजाबेथ द्वितीय ने शपथ ली, तो उनकी एक उपाधि पाकिस्तान की रानी थी।

5. स्वतंत्रता दिवस का जश्न
सत्ता हस्तांतरण होने के बाद 15 अगस्त को दिल्ली में भारी भीड़ उमड़ी। लोगों ने गांधी और नेहरू की प्रशंसा की। उस वक्त की एक पत्रिका में इसकी चर्चा की गई। जगह जगह माउंटबेटन जिंदाबाद और 'लॉर्ड साहब जिंदाबाद' के नारे लग रहे थे। इस स्वागत से अभिभूत माउंटबेटन लिखते हैं कि 15 अगस्त निश्चित रूप से मेरे जीवन का सबसे उल्लेखनीय और प्रेरक दिन साबित हुआ है। ब्रिटिश सैनिकों को मुंबई में भी बहुत गर्मजोशी से विदा किया गया।

INDEPENDENCE DAY SPEECH: स्वतंत्रता दिवस पर बेहतरीन भाषण हिंदी में कैसे लिखें जानिए, 15 अगस्त 10 लाइन का निबंध

Independence Day Quiz 2021: अच्छे अच्छे इन सवालों में खा जाते हैं गच्चे, देखें कितना जानते हैं आप भारत को

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
India became free from British rule on the midnight of 15 August 1947 and a new era started in India. Since then Independence Day is celebrated in India every year on 15th August. But for this freedom, many brave soldiers of India gave their blood and got India free from the British Raj. Everyone should know the story of the sacrifice of freedom fighters. Let us know 5 big things related to Independence Day.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X