Independence Day 2022: कमलादेवी चट्टोपाध्याय के बारे में 10 रोचक तथ्य

Independence Day 2022: भारत में हर साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के रूप मनाया जाता है। 14 अगस्त और 15 अगस्त 1947 की मध्यरात्रि को पंडित जवाहरलाल नेहरू ने अपने भाषण 'ट्रिस्ट विद डेस्टनी' से भारत की आजादी की घोषणा की। भारत को अंग्रेजी हुकूमत से आजाद हुए इस वर्ष 75 साल पूरे हो रहे हैं। आजादी के इस जश्न को हम 'आजादी का अमृत महोत्सव'के रूप में माना रहे हैं। इस वर्ष भारत में 15 अगस्त 2022 को 76वां स्वतंत्रता दिवस मनाया जाएगा। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम लगभग 2022 वर्षों से भी अधिक समय तक चल। जिसमें कई भारतीय स्वतंत्रता सेनान शहीद हुए। महात्मा गांधी और शहीद भगत सिंह के बारे में तो हर कोई जानता है, लेकिन बहुत कम लोगों को पता होगा की भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में कई महिलायें भी शामिल थीं। इस लेख में हम बात कर रहे हैं भारतीय स्वतंत्रता सेनानी कमलादेवी चट्टोपाध्याय की, जिन्होंने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के लिए कई सत्याग्रह में भाग लिया। आइए जानते हैं भारतीय स्वतंत्रता सेनानी कमलादेवी चट्टोपाध्याय के बारे में 10 रोचक तथ्य।

 
Independence Day 2022: कमलादेवी चट्टोपाध्याय के बारे में 10 रोचक तथ्य

कमलादेवी चट्टोपाध्याय के बारे में
भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले कमलादेवी चट्टोपाध्याय एक स्वतंत्रता सेनानी, सामाजिक कार्यकर्ता और राजनीतिज्ञ भी रहीं। कमलादेवी चट्टोपाध्याय को स्वतंत्रता के बाद के युग के दौरान भारत के पारंपरिक हस्तशिल्प को पुनर्जीवित करने में उनकी अभूतपूर्व भूमिका के लिए याद किया जाता है। कमलादेवी चट्टोपाध्याय ने 1926 में मद्रास प्रांतीय विधान सभा में एक सीट के लिए चुनाव लड़ा, लेकिन वे केवल 200 मतों से हार गईं। 1936 में कमलादेवी चट्टोपाध्याय को कांग्रेस सोशलिस्ट पार्टी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया। कमलादेवी चट्टोपाध्याय ने इस दौरान जयप्रकाश नारायण, राम मनोहर लोहिया और मीनू मसानी के साथ काम किया। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान कमलादेवी इंग्लैंड में थीं, उन्होंने भारत की आवाज को मजबूत करने के लिए एक विश्व दौरा शुरू किया। आइए जानते हैं कमलादेवी चट्टोपाध्याय के बारे में...

1. कमलादेवी चट्टोपाध्याय का जन्म 3 अप्रैल 1903 को मैंगलोर में हुआ था। उनके पिता का नाम अनंतया धरेश्वर और माता का नाम गिरिजाम्मा था। सारस्वत परिवार में जन्मीं कमलदेवी के पिता मैंगलोर के जिला कलेक्टर थे।

 

2. बचपन में ही कमलादेवी चट्टोपाध्याय की बहन और पिता का निधन हो गया था। संपत्ति उत्तराधिकार कानून के कारण, उसके पिता की संपत्ति उसकी पहली पत्नी से उसके बेटे के नाम हो गई। कमलादेवी की मां ने उनका पालन-पोषण किया।

3. कमलादेवी चट्टोपाध्याय का पालन-पोषण उनके मामा के घर में हुआ। उनके पिता के एमजी रानाडे, गोपाल कृष्ण गोखले, एनी बेसेंट दोस्त थे, इसलिए वह उनके घर आते-जाते रहते थे। इस दौरान उनकी इनसे मुलाकात हुई। कमला देवी की 14 साल की उम्र में शादी हो गई, लेकिन शादी के दो साल बाद उसके पति की मृत्यु हो गई।

4. कमलादेवी चट्टोपाध्याय इन सेनानियों से बहुत प्रभावित हुई और स्वदेशी मिशन की समर्थक बन गई। उन्होंने चेन्नई के क्वीन मैरी कॉलेज में अपनी शिक्षा जारी रखी। वहां उनकी मुलाकात सरोजिनी नायडू के भाई हरिंद्रनाथ चट्टोपाध्याय से हुई। उन्होंने लंदन विश्वविद्यालय के बेडफोर्ड कॉलेज से समाजशास्त्र में डिप्लोमा भी प्राप्त किया।

5. अपनी पढ़ाई के दौरान उन्होंने दो मूक फिल्मों में भी अभिनय किया। इसके बाद में वह अपने पति के साथ लंदन चली गईं। वहां कमलादेवी ने समाजशास्त्र की पढ़ाई करने के लिए बेडफोर्ड कॉलेज में दाखिला लिया।

6. जब वह लंदन में रह रही थी, तब उन्होंने महात्मा गांधी के असहयोग आंदोलन के बारे में सुना तो 1923 में गांधीजी के राष्ट्रव्यापी असहयोग आंदोलन में भाग लेने के लिए भारत वापस लौट आईं।

7. भारत आते ही कमलादेवी दलितों ने सामाजिक उत्थान के लिए काम करने के लिए 'सेवा दल' में शामिल हो गईं। यहां उन्होंने लोगों के उत्थान के लिए कई कार्य किए और देश सेवा से जुड़ी रहीं।

8. अखिल भारतीय महिला सम्मेलन की स्थापना करने वाले मार्गरेट कजिन्स से उनकी दोस्ती थी। चचेरे भाइयों के सहयोग से कमलादेवी ने मद्रास विधानसभा चुनाव लड़ा, लेकिन मात्र 200 वोटों से हार गई। लेकिन बाद में वह AIWC की आयोजन सचिव भी बनीं।

9. इसके बाद कमलादेवी गांधी नमक सत्याग्रह से जुड़ीं और उन्हें बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में नमक बेचने की कोशिश के लिए गिरफ्तार किया गया। एक साल तक जेल में रहने के बाद 1936 में वह कांग्रेस सोशलिस्ट पार्टी की अध्यक्ष बनीं और जयप्रकाश नारायण और राम मनोहर लोहिया के साथ काम किया।

10. दांडी मार्च में महिलाओं को शामिल नहीं करने के गांधी के रुख के खिलाफ भी बोलती थीं। उन्होंने पुनर्वास के लिए भारतीय सहकारी संघ की स्थापना की। उन्होंने दिल्ली में रंगमंच शिल्प संग्रहालय जैसे शिल्प संग्रहालयों की स्थापना की। 29 अक्टूबर 1988 को कमलादेवी चट्टोपाध्याय का निधन हो गया।

Independence Day 2022 दुर्गाबाई देशमुख के बारे में 10 रोचक तथ्य

Top NIT Colleges In India भारत के टॉप एनआईटी कॉलेज की लिस्ट

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
Independence Day 2022: Every year 15 August is celebrated as Independence Day in India. On the intervening night of 14 August and 15 August 1947, Pandit Jawaharlal Nehru declared India's independence with his speech 'Tryst with Destiny'. India is completing 75 years of independence from British rule this year. We are considering this celebration of independence as 'Azadi Ka Amrit Mahotsav'. This year 76th Independence Day will be celebrated in India on 15th August 2022. Indian freedom struggle lasted for more than almost 2022 years. In which many Indian freedom fighters were martyred. Everyone knows about Mahatma Gandhi and Shaheed Bhagat Singh, but very few people would know that many women were also involved in the Indian independence movement. In this article we are talking about Indian freedom fighter Kamaladevi Chattopadhyay, who participated in many satyagrahas for the Indian independence movement. Let us know 10 interesting facts about Indian freedom fighter Kamaladevi Chattopadhyay.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X