एमएस ऑर्थोपेडिक्स में करियर (Career in MS Orthopedics After Graduation)

एमएस ऑर्थोपेडिक्स तीन साल का पोस्टग्रेजुएट कोर्स है जो मेडिकल साइंस से संबंधित है। एमएस ऑर्थोपेडिक्स में डिग्री करने वाले छात्र भारत समेत दुनिया के किसी भी देश में नौकरी कर सकते हैं। वे मेडिकल कंसल्टेंट, ऑर्थोपेडिक सर्जन, प्रोफेसर, क्लिनिकल एसोसिएट और ऑर्थोपेडिक असिस्टेंट और कई अन्य जॉब प्रोफाइल के रूप में नौकरी कर सकते हैं। ऑर्थोपेडिक का सीधा संबंध हड्डी रोग, मस्कुलोस्केलेटल सिस्टम के इलाज के उद्देश्य से हैं। इसमें आपकी हड्डियां, जोड़, स्नायुबंधन, टेंडन और मांसपेशियां शामिल हैं।

 

आज के इस आर्टिकल में हम आपको एमएस ऑर्थोपेडिक्स से संबंधित सभी आवश्यक जानकारी से अवगत कराएंगे कि आखिर ये कोर्स किस लिए बनाया गया है, इसका सिलेबस क्या है। इसमें एडमिशन लेने के लिए क्या एलिजिबिलिटी होनी चाहिए। इसका एडमिशन प्रोसेस क्या है, इसे करने के बाद आपके पास जॉब प्रोफाइल क्या होंगी और इस कोर्स को करने के लिए भारत के टॉप कॉलेज कौन से हैं।

एमएस ऑर्थोपेडिक्स में करियर

• कोर्स का नाम- एमएस ऑर्थोपेडिक्स
• कोर्स का प्रकार- पोस्ट ग्रैजुएशन
• कोर्स की अवधि- 3 साल
• एलिजिबिलिटी- साइंस स्ट्रीम के साथ 12वीं कक्षा में और कुल 50+ अंकों के साथ एमबीबीएस में पास होना अनिवार्य है।
• एडमिशन प्रोसेस- मेरिट बेस्ड/ एंट्रेंस एग्जाम बेस्ड
• कोर्स फीस- 54,000 से 18,00,000 तक
• अवरेज सेलरी- सालाना 15 लाख तक
• जॉब प्रोफाइल- ऑर्थोपेडिक सर्जन, ऑर्थोपेडिक्स प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर - ऑर्थोपेडिक्स, ऑर्थोपेडिक्स कंसल्टेंट, स्पेशलिस्ट पैनल डॉक्टर आदि।
• टॉप रिक्रूटर्स- प्राइवेट और सरकारी अस्पताल, हड्डी रोग केंद्र, हड्डी रोग रिसर्च सेंटर आदि।

 

एमएस ऑर्थोपेडिक्स के लिए एलिजिबिलिटी

भारत में एमएस ऑर्थोपेडिक्स कोर्स में एडमिशन लेने के लिए छात्रों के पास किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से एमबीबीएस में न्यूनतम कुल 45-50% अंक होना आवश्यक है। यह कोर्स सभी उम्र के लिए खुला है। लेकिन इमसें एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एग्जाम देना होता है। साथ ही छात्रों के पास इस कोर्स में एडमिशन के लिए एमबीबीएस के दौरान अपनी रोटेटिंग इंटर्नशिप का सर्टिफिकेट होना चाहिए और मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) के साथ स्थायी पंजीकरण करना चाहिए।

एमएस ऑर्थोपेडिक्स के लिए एडमिशन प्रोसेस

हालांकि, एमएस ऑर्थोपेडिक्स के लिए एडमिशन प्रोसेस कॉलेज से कॉलेज में भिन्न होती है, नीचे दिए गए चरण हैं जो आम तौर पर एडमिशन प्रोसेस के लिए जाने चाहिए:
आवेदन कैसे करें?
आवेदन पत्र भरने के लिए उम्मीदवारों को ऑनलाइन पोर्टल/ऑफलाइन नेटवर्क का उपयोग कर सकते हैं। आवेदन पत्र भरने के लिए इच्छुक उम्मीदवारों को दिशानिर्देशों और निर्दिष्ट विनिर्देशों के अनुसार आवश्यक दस्तावेज अपलोड / संलग्न करने होंगे। यदि आवश्यक हो तो ऋण के लिए आवेदन करें और चयनित होने पर फीस का भुगतान करें।

एमएस ऑर्थोपेडिक्स के लिए लोकप्रिय एंट्रेंस एग्जाम

कुछ विश्वविद्यालय और संस्थान या राज्य भी एमएस ऑर्थोपेडिक्स प्रवेश के लिए अपनी प्रवेश परीक्षा आयोजित कर सकते हैं। परीक्षा में चिकित्सा से संबंधित अवधारणाओं और कई अन्य विषयों जैसे विषय शामिल हैं, जिससे उन्हें कोर्स का अवलोकन करने में मदद मिलती है। परीक्षाएं निम्न हैं:
• एम्स पीजी
• पीजीआईएमईआर
• नीट पीजी
• जिपमर पीजी

भारत में टॉप 10 एमएस ऑर्थोपेडिक्स कॉलेज

भारत में विभिन्न प्रकार के कॉलेज हैं जो एमएस ऑर्थोपेडिक्स में पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं। चूंकि यह विशेषज्ञता का एक रूप है, इसलिए इसके लिए एक व्यावहारिक और सैद्धांतिक अध्ययन की आवश्यकता होती है जो उन्हें इस कोर्स पर गहन ज्ञान प्राप्त करने में मदद करता है।
• एम्स, नई दिल्ली
• पीजीआईएमईआर
• क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज
• जेआईपीएमईआर
• कस्तूरबा मेडिकल कॉलेज
• मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज
• एएमयू
• सरकार मेडिकल कॉलेज और अस्पताल
• के.एस. हेगड़े मेडिकल अकादमी, मैंगलोर
• एमएएमसी

एमएस ऑर्थोपेडिक्स का सिलेबस

एमएस ऑर्थोपेडिक्स कोर्स तीन साल का प्रोग्राम है जिसमें 6 सेमेस्टर होते हैं। इसमें सर्जिकल मेडिकल साइंस सीखने जैसे विषयों को शामिल किया गया है, जिसमें जन्मजात विकार, ट्यूमर, खेल की चोटें, संक्रमण, मस्कुलोस्केलेटल ट्रॉमा का उपचार और बहुत अधिक अपक्षयी रोग शामिल हैं। एमएस ऑर्थोपेडिक्स मॉड्यूल के आधार पर, प्रत्येक कॉलेज के अपने विषय और विषय हो सकते हैं। विषय के कुछ विषय हैं:
• इंफेक्शन
• ट्यूमर
• जन्मजात विसंगतियां
• माइक्रोसर्जरी
• नॉन ट्रॉमेटिक डिसऑर्ड्स
• द फुट एंड एंकल्स

एमएस ऑर्थोपेडिक्स करने के बाद हायर स्टडीज का स्कोप

एमएस ऑर्थोपेडिक्स की डिग्री होने से करियर विकल्पों की एक विस्तृत श्रृंखला खुल जाती है। इस कोर्स को पूरा करने के बाद आगे की पढ़ाई करना भी संभव है। जैसे कि
• नेशनल बोर्ड ऑफ मेडिकल एक्जाम इन ऑर्थोपेडिक्स (डीएनबी) के डिप्लोमैट
• ऑर्थोपेडिक्स में स्नातकोत्तर डिप्लोमा
• ऑर्थोपेडिक्स में पीएचडी

एमएस ऑर्थोपेडिक्स ग्रेजुएट का वेतन

एक एमएस ऑर्थोपेडिक्स स्नातक शुरुआती वेतन लगभग 10 से 30 लाख तक का होता है। ये एक ऐसा फील्ड है जिसमें की जैसे-जैसे कौशल और अनुभव बढ़ेगा, वैसे-वैसे वेतन में वृद्धि होगी। वेतन प्राइवेट या पब्लिक क्षेत्र और फर्म की लोकप्रियता के आधार पर भिन्न होता है।

एमएस ऑर्थोपेडिक्स के बाद करियर विकल्प

एमएस ऑर्थोपेडिक्स में एक कोर्स पूरा करने के बाद, छात्र पब्लिक और प्राइवेट दोनों क्षेत्रों में काम कर सकते हैं, जो उनकी पसंद के काम या उनके कौशल पर निर्भर करता है। प्राइवेट क्षेत्र में कुछ बेहतरीन एमएस ऑर्थोपेडिक्स करियर विकल्प हैं:
• ऑर्थोपेडिक सर्जन
• क्रीटिकल केयर
• मेडिकल कंसलटेंट
• क्लीनिकल असोसिएट
• ऑर्थोपेडिक प्रोफेसर
• ऑर्थोपेडिक असिस्टेंट

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

English summary
MS Orthopedics is a three year postgraduate course which is related to medical science. Students doing degree in MS Orthopedics can do job in any country of the world including India. They can work as Medical Consultant, Orthopedic Surgeon, Professor, Clinical Associate and Orthopedic Assistant and many other job profiles.
--Or--
Select a Field of Study
Select a Course
Select UPSC Exam
Select IBPS Exam
Select Entrance Exam
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X