Tap to Read ➤

CCPI India Rank 2023: क्या है सीसीपीआई, जिसमें भारत को मिली 8वीं रैंक

जर्मनी में स्थित जर्मन वॉच, न्यू क्लाइमेट इंस्टीट्यूट और क्लाइमेट एक्शन नेटवर्क ने क्लाइमेट चेंज परफॉर्मेंस इंडेक्स (CCPI) 2023 की रिपोर्ट जारी कर दी है।
Narender Sanwariya
सीसीपीआई 2023
जलवायु परिवर्तन प्रदर्शन सूचकांक (सीसीपीआई 2023) में भारत को जी-20 देशों में सर्वश्रेष्ठ स्थान पर रखा गया है।
क्लाइमेट चेंज परफॉर्मेंस इंडेक्स (CCPI) में भारत को 8वां स्थान मिला है। भारत को 63 देशों की जारी रैंकिंग में यह स्थान मिला है।
यह रैंकिंग कम उत्सर्जन और नवीकरणीय ऊर्जा के बढ़ते उपयोग के आधार पर दी गई है।
इस रैंकिंग को यूरोपीय संघ और 59 देशों के क्लाइमेट परफॉर्मेंस को ट्रैक करके तैयार किया गया है। ये दुनिया में 92 प्रतिशत से अधिक ग्रीनहाउस गैस इमिशन के लिए जिम्मेदार है।
Climate Change Performance Index (CCPI) 2023
इस रैंकिंग में अमेरिका 52वें, कनाडा 58वें, रूस 59वें और ईरान लास्ट (63वें) स्थान पर है जो परफॉर्मेंस में वेरी लो कैटेगरी में शामिल है।
वैश्विक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में 92 प्रतिशत योगदान देने वाले इन 59 देशों के जलवायु संरक्षण प्रदर्शन का आकलन चार श्रेणियों में किया जाता है।
  • जीएचजी उत्सर्जन (समग्र स्कोर का 40%)
  • नवीकरणीय ऊर्जा (समग्र स्कोर का 20%)
  • ऊर्जा उपयोग (समग्र स्कोर का 20%)
  • जलवायु नीति (समग्र स्कोर का 20%)
इस रैंकिंग में डेनमार्क को चौथी, स्वीडन को पांचवीं, चिली 6, मोरक्को 7 और भारत को 8वें स्थान पर रखा गया है। सीसीपीआई रिपोर्ट के अनुसार, भारत अपने 2030 उत्सर्जन लक्ष्यों को पूरा करने के लिए सही दिशा में काम कर रहा है।
क्लाइमेट चेंज परफॉर्मेंस इंडेक्स क्या है?
CCPI का उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय जलवायु राजनीति में पारदर्शिता बढ़ाना है और जलवायु संरक्षण प्रयासों और अलग-अलग देशों द्वारा की गई प्रगति की तुलना करने में सक्षम बनाता है।
2005 के बाद से सालाना प्रकाशित, जलवायु परिवर्तन प्रदर्शन सूचकांक (सीसीपीआई) 59 देशों और यूरोपीय संघ के जलवायु संरक्षण प्रदर्शन को ट्रैक करने के लिए एक स्वतंत्र निकाय है।
TOP NIT In India