Tap to Read ➤

IGNOU से करें ये डिस्टेंस लर्निंग कोर्स, बनाएं शानदार करियर

जॉब कर रहे पेशेवरों या फिर किसी वजह से रेग्युलर शिक्षा हासिल न कर पाने वाले छात्रों के लिए डिस्टेंस लर्निंग, एक बेहतर विकल्प है।
Narender Sanwariya
IGNOU Distance Learning Course
इस दिशा में इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (इग्नू) हर साल छात्रों के लिए ओपन, डिस्टेंस व ऑनलाइन मोड में यूजी, पीजी और सर्टिफिकेट कोर्स ऑफर करती है।
शैक्षणिक सत्र 2022-23 के लिए भी इग्नू ने यूजी, पीजी व सर्टिफिकेट प्रोग्राम्स के लिए कुछ नए कोर्स जोड़े हैं।
वर्तमान सत्र में इग्नू द्वारा शुरू किए गए सभी नए कोर्सेस की आवेदन प्रक्रिया अभी चल रही है। कोविड के चलते वर्क फ्रॉम करने वाले पेशेवरों के बीच इन कोर्सेस की मांग बढ़ी है।
IGNOU Courses
अगर आप डिस्टेंस लर्निंग से खुद को अपग्रेड करना चाहते हैं तो यहां दिए गए कोर्सेस में से खुद के लिए विकल्प चुन सकते हैं।
वैल्यू एजुकेशन में डिप्लोमा (डीपीवीई)
यह कोर्स, बारहवीं में पढ़ रहे या इसे पास कर चुके छात्रों के लिए ऑफर किया गया है। इसका मुख्य उद्देश्य छात्रों को सकारात्मक मूल्यों के बारे में जानकारी देना है। कोर्स की फीस 4000 रुपए है। अधिकतम तीन सालों में इस कोर्स को पूरा कर सकते हैं। प्रवेश के लिए न्यूनतम व अधिकतम आयुसीमा तय नहीं है।
इग्नू के स्कूल ऑफ परफॉर्मिंग एंड विजुअल आर्ट्स (एसओपीवीए) द्वारा इस साल से दो वर्षीय मास्टर ऑफ आर्ट्स (ड्रॉइंग एंड पेंटिंग) प्रोग्राम की शुरुआत की जा रही है। पाठ्यक्रम की अधिकतम अवधि 4 वर्ष है। इस कोर्स के लिए केवल जुलाई सेशन में ही प्रवेश मिलेगा। इस कोर्स की फीस 16500 रुपए है।
एमए ड्रॉइंग एंड पेंटिंग (एमएडीपी)
एमए उर्दू (एमयूडी)
इस कोर्स की अधिकतम अवधि चार साल की है। किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक छात्र इस कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके अलावा स्टूडेंट्स को उर्दू पढ़ना-लिखना आना भी अनिवार्य योग्यता है। इस कोर्स के लिए छात्रों को हर साल 6300 रुपए देने होंगे। कोर्स की कुल फीस 12600 रुपए है।
इग्नू ने इस साल से ज्योतिष में दो वर्षीय मास्टर ऑफ आर्ट्स प्रोग्राम शुरू किया है। ग्रेजुएट्स इसके लिए आवेदन कर सकते हैं। कोर्स की पूरी फीस 12600 रुपए है। कोर्स मटीरिअल हिंदी और संस्कृत दोनों में होगा। इस कोर्स में 40 क्रेडिट मिलने के बाद छात्रों को एग्जिट करने का भी ऑप्शन मिलेगा। ऐसे में उन्हें डिप्लोमा प्रदान किया जाएगा।
एमए-ज्योतिष (एमएजेवाई)