Tap to Read ➤

Teachers Day Speech: शिक्षक दिवस पर दमदार भाषण

हर साल 5 सितंबर को डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। वर्ष 1952 से 1962 तक भारत के पहले उपराष्ट्रपति रहे और वर्ष 1962 से 1967 तक भारत के दूसरे राष्ट्रपति रहे।
Narender Sanwariya
Teachers Day Speech Idea
आइए जानते हैं शिक्षक दिवस पर 2 मिनट के भाषण की तैयारी के लिए इतिहास, महत्व और अन्य जानकारी का कैसे अनुसरण करें।
शिक्षक दिवस सबसे महत्वपूर्ण अवसरों में से एक है। इस दिन बेझिझक अपना आभार व्यक्त करें और उनकी निरंतर मदद और मार्गदर्शन के लिए शिक्षकों को धन्यवाद दें। शिक्षक शिष्टाचार सिखाने और उज्जवल भविष्य देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
शिक्षक दिवस एक शिक्षक और छात्र के लिए एक बहुत ही खास अवसर होता है। यह हर साल 5 सितंबर को शिक्षकों को सम्मान और प्यार देने के लिए मनाया जाता है।
टीचर्स डे स्पीच इन हिंदी
भारत में शिक्षक दिवस 5 सितंबर को मनाया जाता है। यह डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन पर मनाया जाता है। वह भारत के पहले उपराष्ट्रपति (1952-1962) थे। वह एक अत्यधिक सम्मानित शिक्षक और दार्शनिक थे।
1962 में सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने भारत के राष्ट्रपति का पद ग्रहण किया। वह 1967 तक भारत के राष्ट्रपति रहे।
शिक्षक राष्ट्र के विकास का मुख्य कारण हैं। वह दुनिया को बेहतर बनाने का कार्य करते हैं। शिक्षक हमें न केवल विषय पढ़ाते हैं, बल्कि वह हमें नैतिक मूल्यों की शिक्षा देकर हमें बढ़ने में भी मदद करते हैं, जो पढ़ाई से ज्यादा महत्वपूर्ण हैं।
एक अच्छा शिक्षक एक मोमबत्तीकी तरह होता है, जो खुद जलकर दूसरों के लिए मार्ग प्रशस्त करता है।
एक बार जब उनके छात्र और मित्र उनसे मिलने गया तो, उन्होंने सर्वपल्ली राधाकृष्णन से अनुमति मांगी की वह उनका जन्मदिन मनाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि यदि आपकी यही सलाह है तो आप सब मेरा जन्मदिन 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाएं।
इससे सभी शिक्षकों को मान बढ़ेगा। तब से हर साल 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है।
पंडित जवाहर लाल नेहरू ने एक बार कहा था कि डॉ राधाकृष्णन ने देश की अच्छी सेवा की है, लेकिन सबसे बढ़कर, वह एक महान शिक्षक थे, जिन्हें हर कोई पसंद करता है।
एक शिक्षक बच्चों का दूसरा अभिभावक होता है। हम हमेशा हमारा मार्गदर्शन करने और हमें सही रास्ता दिखाने के लिए शिक्षकों को धन्यवाद देना चाहते हैं। शिक्षक सभी बच्चों के लिए प्रेरणास्रोत होते हैं।
हम भाग्यशाली हैं कि हमें एक मार्गदर्शक के रूप में शिक्षक प्राप्त हुआ है। मंच देने के लिए हम आपका आभार व्यक्त करते हैं।
ध्यानवाद
समय के पाबंद कैसे बनें जानिए