Tap to Read ➤

Draupadi Murmu के जीवन से जुड़े प्रमुख तथ्य

द्रौपदी मुर्मू भारत की 15वीं राष्ट्रपति होंगी। भारत के सर्वोच्च संवैधानिक पद पर पहुंचने वाली देश की पहली आदिवासी और दूसरी महिला राष्ट्रपति होंगी।
Narender Sanwariya
द्रौपदी मुर्मू ने जीता चुनाव
नेशनल डेमोक्रेटिक अलायंस (NDA) प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू ने यूनाइटेड प्रोग्रेसिव अलायंस (UPA) उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को तीसरे राउंड में तीन लाख से अधिक वोटों से हरा दिया।
राष्ट्रपति चुनाव रिजल्ट 2022 के अनुसार, तीसरे राउंड की गिनती के दौरान ही द्रौपदी मुर्मू को जीत के लिए जरूरी 5 लाख 43 हजार 261 वोट मिल गए।
द्रौपदी मुर्मू तीसरे राउंड में कुल 5 लाख 77 हजार 777 वोट मिले। जबकि उनके प्रतिद्वंदी यशवंत सिन्हा को केवल 2 लाख 61 हजार 62 वोट मिले।
द्रौपदी मुर्मू को वोट
द्रौपदी मुर्मू का जन्म 20 जून 1958 को ओडिशा के मयूरभंज जिले के उपरबेड़ा गांव में एक संताली आदिवासी परिवार में बिरंची नारायण टुडू के घर हुआ था।
Draupadi Murmu Family
उनेक पिता और दादा पंचायती राज व्यवस्था के तहत ग्राम प्रधान थे। द्रौपदी मुर्मू ने एक बैंकर श्याम चरण मुर्मू से शादी की, जिनकी 2014 में मृत्यु हो गई थी। दंपति के दो बेटे थे, दोनों का निधन हो गया। उनकी एक बेटी इतिश्री मुर्मू है।
द्रौपदी मुर्मू ने राज्य की राजनीति में प्रवेश करने से पहले एक स्कूल शिक्षक के रूप में शुरुआत की।
मुर्मू ने श्री अरबिंदो इंटीग्रल एजुकेशन एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट, रायरंगपुर में सहायक प्रोफेसर के रूप में और ओडिशा सरकार के सिंचाई विभाग में एक जूनियर सहायक के रूप में काम किया।
द्रौपदी मुर्मू 1997 में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हुईं और रायरंगपुर नगर पंचायत की पार्षद चुनी गईं। 2000 में रायरंगपुर नगर पंचायत की अध्यक्ष बनीं और भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के रूप में भी कार्य किया।
द्रौपदी मुर्मू झारखंड की राज्यपाल
द्रौपदी मुर्मू ने 18 मई 2015 को झारखंड के राज्यपाल के रूप में शपथ ली और झारखंड की पहली महिला राज्यपाल बनीं। वह भारतीय राज्य के राज्यपाल के रूप में नियुक्त होने वाली ओडिशा की पहली महिला आदिवासी नेता थीं।
2017 में झारखंड की राज्यपाल के रूप में द्रौपदी मुर्मू ने छोटानागपुर टेनेंसी एक्ट 1908 और संथाल परगना टेनेंसी एक्ट, 1949 में संशोधन की मांग करने वाले झारखंड विधान सभा द्वारा अनुमोदित बिल को मंजूरी देने से इनकार कर दिया।
जून 2022 में द्रौपदी मुर्मू को 2022 के चुनाव के लिए भारत के राष्ट्रपति के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के उम्मीदवार के रूप में भाजपा द्वारा नामित किया गया था।
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू
द्रौपदी मुर्मू नीलकंठ पुरस्कार
द्रौपदी मुर्मू को 2007 में ओडिशा विधान सभा द्वारा सर्वश्रेष्ठ विधायक (विधान सभा के सदस्य) के लिए नीलकंठ पुरस्कार प्राप्त किया।
ये हैं भारत की सबसे बेस्ट NIT कॉलेज की लिस्ट
पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें