Tap to Read ➤

PHD Course: पीएचडी इन क्लिनिकल रिसर्च

क्लिनिकल रिसर्च में पीएचडी कैसे करें जानिए
chailsy raghuvanshi
डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी इन क्लिनिकल रिसर्च 3 से 5 साल तक की अवधि का डेक्टरेट लेवल का फुल-टाइम कोर्स है।
क्लिनिकल रिसर्च में पीएचडी इस तरह से डिजाइन किया गया है ताकि छात्रों को नैदानिक या अनुवाद संबंधी शोध में करियर तैयार करने में मदद मिल सके।
यह कोर्स देश के विभिन्न कोनों से विविध स्वास्थ्य व्यवसायों के विभिन्न मेधावी छात्रों को आकर्षित करता है ताकि उन्हें क्लिनिकल रिसर्च में डॉक्टरेट की डिग्री प्राप्त की जा सके।
एलिजिबिलिटी
• इच्छुक उम्मीदवार के पास क्लिनिकल रिसर्च या उससे संबंधित विषयों में पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए।
• पीएचडी क्लिनिकल रिसर्च में एडमिशन लेने के लिए उम्मीदवार के पास मास्टर डिग्री में न्यूनतम 55% अंक होना आवश्यक है।
पीएचडी इन क्लिनिकल रिसर्च के लिए एडमिशन प्रोसेस यूजीसी- नेट, जीपीएटी, आईसीएमआर, गेट, पीईटी, डीईटी आदि जैसे एंट्रेंस एग्जाम पर निर्भर करती है।
सिम्बायोसिस इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी, पुणे- फीस 80,000
केंद्र औषधि अनुसंधान संस्थान, उत्तर प्रदेश- फीस 2- 4 लाख
 दिल्ली इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्युटिकल साइंस एंड रिसर्च, नई दिल्ली- फीस 1 लाख
अपेता नैदानिक अनुसंधान संस्थान, इलाहाबाद- फीस 1.5 लाख
 भारतीय जन स्वास्थ्य संस्थान, दिल्ली- फीस 3 लाख
टॉप कॉलेज और उनकी फीस
टॉप रिक्रूटर्स- फोर्टिस अस्पताल, टीएमसी, आईसीएमआर, फाइजर आदि।
क्लिनिकल रिसर्च- सैलरी 20,00,000
क्लिनिकल प्रोजेक्ट मैनेजर- सैलरी 18,00,000 बायोस्टैटेशियन- सैलरी 17,00,000
ड्रग डेवलपमेंट एसोसिएट- सैलरी 15,00,000
जॉब प्रोफाइल और सैलरी
पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें