Tap to Read ➤

Engineers Day 2022: सर एम विश्वेश्वरैया की उपलब्धियां

भारत में प्रत्येक वर्ष मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया की जयंती15 सितंबर को इंजीनियर दिवस के रूप में मनाई जाती है।
chailsy raghuvanshi
सर एम विश्वेश्वरैया का 1903 में स्वचालित वियर फ्लडगेट की एक प्रणाली को डिजाइन और पेटेंट कराने में उनका महत्वपूर्ण योगदान था।
सर एम वी मैसूर में महान कृष्ण राजा सागर बांध के वास्तुकार थे। यह कर्नाटक और आसपास के राज्यों में विश्वेश्वरैया के प्रमुख योगदानों में से एक है।
मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया ने मुसी नदी द्वारा हैदराबाद शहर के लिए बाढ़ सुरक्षा प्रणाली तैयार की थी।
सर एम वी ने विशाखापत्तनम बंदरगाह को समुद्री कटाव से बचाने के लिए एक प्रणाली विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।
सर एम वी मैसूर साबुन कारखाने, मैसूर आयरन एंड स्टील वर्क्स (भद्रावती), श्री जयचामाराजेंद्र पॉलिटेक्निक संस्थान, बैंगलोर कृषि विश्वविद्यालय और स्टेट बैंक ऑफ मैसूर की स्थापना के लिए जिम्मेदार थे।
सर एमवी को अखंड 50 वर्षों के लिए लंदन इंस्टीट्यूशन ऑफ सिविल इंजीनियर्स की मानद सदस्यता से सम्मानित किया गया था।
1955 में, सर एम वी को इंजीनियरिंग और शिक्षा के क्षेत्र में उनके कार्यो के लिए स्वतंत्र भारत के महानतम सम्मान, भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।
मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया ने 1934 में भारतीय अर्थव्यवस्था की योजना बनाई थी।
पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें