Tap to Read ➤

Civil Service Day: राष्ट्रीय सिविल सेवा दिवस से जुड़े 10 तथ्य

भारत में हर साल 21 अप्रैल को राष्ट्रीय सिविल सेवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। राष्ट्रीय सिविल सेवा दिवस पर भारत के प्रधानमंत्री, लोक प्रशासन में उत्कृष्टता के लिए 'प्रधानमंत्री पुरस्कार' से सम्मानित करते हैं।
Civil Service Day
राष्ट्रीय सिविल सेवा दिवस पर 'प्रधानमंत्री पुरस्कार' का आयोजन नई दिल्ली में 21 अप्रैल को किया जाता है।
इस पुरस्कार समारोह में देश भर के सभी बड़े आईएएस, आईपीएस और आईएफएस समेत बड़े अधिकारी शामिल होते हैं।
Civil Service Day
इस वर्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोक प्रशासन में उत्कृष्टता के लिए 'प्रधानमंत्री पुरस्कार' प्रदान करेंगे।
Civil Service Day
सिविल सेवा को देश के प्रशासन की रीढ़ की हड्डी के रूप में जाना जाता है।
भारत में सिविल सेवा में भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस), भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस), भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) और देश में केंद्रीय समूह ए और समूह बी सेवाएं शामिल हैं।
भारत में पहला राष्ट्रीय सिविल सेवा दिवस 21 अप्रैल 1947 को मनाया गया था। इस दिन का उद्घाटन सरदार वल्लभ भाई पटेल ने किया था।
लोक प्रशासन में उत्कृष्टता के लिए सिविल सेवा के अधिकारियों को प्रधानमंत्री पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है। यह पुरस्कार तीन श्रेणियों में दिया जाता है।
पहली श्रेणी के पुरस्कार में आठ पूर्वोत्तर राज्य और तीन पहाड़ी राज्य उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और जम्मू और कश्मीर शामिल होते हैं।
दूसरी श्रेणी में सात केंद्र शासित प्रदेश शामिल हैं। और तीसरी श्रेणी में भारत के अन्य राज्य शामिल हैं।
Civil Service Day
सिविल सर्विस वह स्तम्भ है जिस पर सरकार देश की नीतियों और नियमों को सुचारू रूप से चलाती है।
संघ लोक सेवा आयोग द्वारा सिविल सेवा परीक्षा तीन चरणों में आयोजित की जाती है, जिसमें प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार शामिल होता है।
UPSC Exam
भारतीय सिविल सेवा परीक्षा 1922 से आयोजित की जा रही है।
ऐसी ही रोचक खबरों के लिए पढ़ते रहें करियर इंडिया hindi.careerindia.com